TomorrowMakers

अपनी शादीशुदा जिंदगी को वित्तीय कारणों से बर्बाद होने से रोकने के लिए इन सरल सुझावों का पालन करें

Dealing with Financial infidelity

ज्यादातर लोग इस बात को नहीं मानते हैंलेकिन एक खुशहाल विवाहित जिंदगी में पैसों का बड़ा योगदान होता है। जब एक दंपति के बीच वित्तीय मामलों पर पारदर्शिता की कमी होती हैतो कई तरह की गलतफहमी और उलझनें पैदा हो सकती हैं। ऐसे मसलों से हर कीमत पर बचा जाना चाहिए। जब बात वित्तीय मामलों पर भरोसा करने की आती हैतो लोग पूरी तरह से अपनी शादी पर सवाल उठा सकते हैं। आइए देखते हैं कि आप इस तरह की मुश्किलों से कैसे बच सकते हैं। यदि आप पहले से ही ऐसी स्थिति में फंसे हुए हैंतो अपनी शादीशुदा ज़िंदगी को बचाने के लिए नीचे दिये गये सुझावों पर विचार कर सकते हैं:

  1. आपस में बात करें:

एक-दूसरे के प्यार में खोए रहने वाले दिनों में लोग वित्तीय मामलों के बारे में ज्यादा सोच ही नहीं पाते हैं। अगर लड़का-लड़की प्यार में पड़कर शादी करते हैंतो ऐसे मामले में पैसों से जुड़ी बातों को आमतौर पर टाल ही दिया जाता है। लेकिन ध्यान रखें कि शुरुआती दौर में पैसे और वित्तीय लेन-देन के बारे में बात कर लेने से बेहतर तरीके से फाइनेंशियल प्लानिंग का मौका मिल जाता है। इससे बाद में अचानक से सामने आने वाले वित्तीय लेनदेन से निपटने की दिक्कतें खत्म हो जाती है।

  1. पारदर्शिता बनाए रखना:

पैसे और वित्तीय लेन-देन के मामले में दो कारणों से भरोसे का सवाल उठता है। अलग-अलग बैंक खाते या एक कमाने वाला सदस्य होने पर दिक्कतें बढ़ती है। अलग-अलग बैंक खाता होने परअगर दोनों को अगर एक-दूसरे की हर महीने की कमाई और खर्चों के बारे में पता होतो काफी दिक्कतों को खत्म किया जा सकता है। हालांकिअगर एक व्यक्ति को पैसे के प्रबंधन का अधिकार दिया जाता हैतो उन्हें बहुत अधिक आजादी मिलती हैजिन्हें ज्यादातर मामलों में शोषण किया जाता है।

  1. अपने लक्ष्य एकसमान रखें:

आम तौर पर हर व्यक्ति की जो भी कमाई होलेकिन हर किसी की जरूरतें और इच्छाएं अलग-अलग होती हैं। एक बार जब आप शादी के बंधनों में बंध जाते हैंतो कुछ समझौते और सामंजस्य बनाना मजबूरी हो जाता है। हालांकिविचारों को मैच्योरिटी के साथ सुलझा लेना ही बेहतर होता है। ताकि किसी भी स्तर पर निराशा नहीं हो। अगर आपसी सामंजस्य की कमी होती हैतो लोग अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों को हासिल करने के लिए अपनी आमदनी को अलग करना शुरू कर देते हैं।

  1. माहौल हल्का रखने की कोशिश करें:

यदि आप किसी पड़ाव पर आप महसूस करते हैं कि आपसे वित्तीय जानकारी के बारे में कुछ बातें छिपाई गई हैया  झूठ बोला गया हैतो जाहिर है तत्काल प्रतिक्रिया के तौर पर गुस्सा आ सकता है। हालांकिअगर आप इस तरह की स्थिति से बचना चाहते हैंऔर अपनी शादी को कामयाब बनाना चाहते हैंतो जरूरी है कि आपका नजरिया धैर्य रखने के साथ समझदारी भरा हो। बावजूद इसके कि आप महसूस कर रहे हों कि आपको धोखा दिया गया हैलेकिन अगर आपने एक बार अपने पार्टनर पर आरोप लगा दिया कि उन्होंने भरोसे को तोड़ा हैतो इसका असर शादीशुदा जीवन पर होता है। इस तरह के मतभेद को ठीक होने में लंबा समय लग सकता है।

शादी के बाद कई वित्तीय मुद्दे हैंजिन पर चर्चा जरूर करनी चाहिए। हालांकिहम जानते हैं कि आपके लिए सभी जरूरी चीजों का रिसर्च करना मुश्किल काम हो सकता है। लेकिन प्रेम और पैसा पर ये ई-बुक आपको बेहतर मार्गदर्शन दे सकता है। और सुनिश्चित कर सकता है कि आप और आपके पार्टनर एक साथ खुशहाली के साथ वित्तीय रूप से एक ठोस जीवन की योजना बना सकें।
 

विषय: फाइनेंशियल प्लानिंगपर्सनल फाइनेंसविवाहित दंपत्ति के लिए आर्थिक योजना

संबंधित लेख