भारत में इलेक्ट्रिक कारें: मूल्य, ईवी पर कर प्रोत्साहन, ईवी बैटरी का जीवनकाल और चार्जिंग स्टेशन

खरीदने से पहले इस लेख में इलेक्ट्रिक कार की कीमत, रेंज, बैटरी का जीवनकाल, बीमा, कर प्रोत्साहन आदि को समझें।

क्या भारत में इलेक्ट्रिक कार खरीदने का कोई मतलब है

इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) इन दिनों सुर्खियों में हैं। इलेक्ट्रिक कारों की भारी लोकप्रियता और सरकार द्वारा दी जाने वाली ईवी सब्सिडी की वजह से जानकारों को 2022 और 2023 के बीच इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री में 26 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है। भले ही भारत में इलेक्ट्रिक कारों की कीमत अधिक है, लेकिन ग्राहकों का झुकाव पर्यावरण के अनुकूल वाहनों के प्रति है। हर गुजरते दिन के साथ इन वाहनों की लोकप्रियता बढ़ रही है।

आखिरकार, ऐसा क्यों है? सबसे पहला कारण है इलेक्ट्रिक कारों की स्थिरता है। इसके अलावा, इस कार के जरिये आप बीमा और रखरखाव लागत पर पैसा बचा सकते हैं। कुछ राज्यों में तो सरकार इलेक्ट्रिक कार के मालिकों को कई तरह के प्रोत्साहन और लाभ मिल भी देती है। 

क्या आप इलेक्ट्रिक कार खरीदने के बारे में सोच रहे हैं? तो, आपको कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

इलेक्ट्रिक कार खरीदने से पहले किन बातों का ध्यान रखें?

तो आपने दुनिया भर में उन 56 लाख लोगों में शामिल होने का फैसला कर लिया है, जो इलेक्ट्रिक कारों का उपयोग करके 'ग्रीन' हो गए हैं। लेकिन आपने ऐसे वाहन को खरीदने और चलाने से जुड़े तमाम पहलुओं के बारे में शायद नहीं सोचा होगा। ऐसी कार लेने के फैसले को आसान बनाने के लिए यहां उन बातों की जानकारी दी गई है, जिन पर आपको विचार करना चाहिए:

1. भारत में इलेक्ट्रिक कारों की कीमत

भारत की तुलना में अमेरिका में इलेक्ट्रिक वाहन तुलनात्मक रूप से सस्ते हैं। उदाहरण के लिए एक टेस्ला मॉडल एस की भारत में लागत 1.5 करोड़ रुपये होने की संभावना है, जबकि अमेरिका में यह राशि केवल एक तिहाई (डॉलर 69,420) है।

कीमत में इस उछाल की वजह कार की बैटरी में कोबाल्ट का इस्तेमाल किया जाना है। इसे निकल से बदलने के लिए प्रयोग चल रहे हैं, जिससे अंतिम लागत कम हो सकती है। हालांकि, इस प्रक्रिया के प्रभावी होने में कुछ साल लगेंगे।

उदाहरण के लिए, टाटा नेक्सॉन ईवी की कीमत 13.99 लाख रुपये है, लेकिन इसके गैर-ईवी समकक्ष कार की कीमत सिर्फ 6.99 लाख रुपये है!

2. इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए बीमा 

महंगे मरम्मत बिलों के कारण भारत में इलेक्ट्रिक कारों को बीमा की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, इन वाहनों की लागत जितनी अधिक होगी, आपको उतना ही अधिक बीमा का भुगतान करना होगा। पारंपरिक कारों की तुलना में, आप पाएंगे कि बीमा लागत बहुत अधिक है।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस के मुताबिक, इलेक्ट्रिक कारों की प्रीमियम दरों में 10% -15% की कमी की गई है। लेकिन ईवी में निवेश करने से पहले आपको अभी भी बीमा की लागत को समझना होगा। उदाहरण के लिए, 65 किलोवॉट आउटपुट वाली कार का 6700 रुपये या उससे अधिक का बीमा प्रीमियम चुकाना होगा। 30 किलोवॉट की बैटरी वाली कार पर आपको 2700 रुपये तक का झटका लग सकता है। 

संबंधित लेखइलेक्ट्रिक कार खरीदने की योजना बना रहे हैं? बीमा एक नियमित कार से कैसे भिन्न है?

 

3. इलेक्ट्रिक कारों के लिए कर प्रोत्साहन 

आयकर अधिनियम की धारा 80ईईबी के अनुसार, यदि आपने इलेक्ट्रिक कार खरीदने के लिए ऑटो ऋण लिया है, तो आपको सरकार से कर लाभ मिलेगा। अधिनियम में कहा गया है कि यदि आप कार की कीमत पर 1,50,000 रुपये तक ब्याज का भुगतान करते हैं तो आपको कर कटौती का फायदा मिलेगा।  

इससे आपके ईवी की कुल लागत कम हो जाती है। इसलिए, आपको उस कार पर सटीक कर लाभ प्रतिशत के रूप में देखने की जरूरत है, जिसे आप खरीदने जा रहे हैं। जीएसटी भी कम है, जो आपकी कार की अंतिम लागत को कम कर सकता है।

संबंधित:  ई-वाहनों पर कर लाभ: इसका लाभ कैसे उठाएं?

4. ईवी बैटरी का जीवन काल 

बैटरी यकीनन इलेक्ट्रिक वाहन का सबसे महत्वपूर्ण घटक है। लेकिन, बैटरी बेहद महंगी होती हैं। इसके कारण, उन्हें नियमित रूप से बदलना कार की लागत के ऊपर वित्तीय बोझ बढ़ा सकता है। 

तो आपको ऐसे में क्या करना चाहिए? ईवी खरीदने से पहले आपको हमेशा बैटरी के जीवनकाल के बारे में पूछना चाहिए। ज्यादा क्षमता वाली बैटरी बार-बार रिचार्ज करने की आवश्यकता को भी कम करेगी।

भारत में एक ईवी बैटरी छह से आठ साल के बीच कहीं भी चल सकती है, जिसके बाद इसे बदलने की आवश्यकता होगी। एक रिपोर्ट बताती है कि लिथियम-आयन बैटरी भारत में 500 से 10,000 रिचार्ज साइकिल तक चल सकती है।

5. चार्जिंग स्टेशनों की उपलब्धता 

सर्वव्यापी ईंधन पंपों के विपरीत देश में ईवी चार्जिंग स्टेशन कम हैं। न्यूज चैनल एनडीटीवी के अनुसार, भारत के अलग अलग राज्यों में केवल 427 ईवी चार्जिंग स्टेशन हैं। यह वर्तमान में इलेक्ट्रिक कार मालिकों के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है।

यदि आप शहर के बीचों-बीच रहते हैं, तो भारत में एक प्रभावी चार्जिंग स्टेशन पता करना मुश्किल हो सकती है, क्योंकि उनमें से 77 राजमार्गों पर हैं। इसके अलावा, लगभग 350 इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग स्टेशन सिर्फ सात राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों में स्थित हैं।

हालांकि दिल्ली या मुंबई जैसे प्रमुख मेट्रो शहरों में कुछ चार्जिंग स्टेशन हैं, लेकिन छोटे शहरों में ऐसा नहीं हो सकता है। इसलिए आपको इलेक्ट्रिक वाहन में निवेश करने से पहले अपने नजदीकी चार्जिंग स्टेशनों की पहचान करनी होगी।

ईवी मालिकों के लिए सरकारी प्रोत्साहन 

आप जिस राज्य में रहते हैं, उसके आधार पर आप पैसे बचा सकते हैं और कुछ प्रोत्साहनों का लाभ उठा सकते हैं। यहां उन प्रोत्साहनों की सूची दी गई है, जिनसे आप सरकारी सब्सिडी का लाभ ले सकते हैं।

प्रोत्साहनों की सू

संबंधित: वाहन स्क्रैपेज नीति क्या है और यह आपको कैसे प्रभावित करती है?

कुछ इलेक्ट्रिक कारों की कीमतें 

यहां कुछ इलेक्ट्रिक कारें हैं जिन्हें आप चुन सकते हैं:

 इलेक्ट्रिक कारें

 

आखिरी शब्द

भारत में इलेक्ट्रिक कार के मालिक होने के साथ-साथ कई तरह की चुनौतियां भी आती हैं। इसलिए खरीदने से पहले कार की खुद से जांच-परख कर लेने की सलाह दी जाती है। जांच की जाने वाली बातों में खरीद मूल्य और बीमा प्रीमियम, सरकारी कर लाभ और प्रोत्साहन, चार्जिंग स्टेशनों की उपलब्धता और आपके चुने हुए वाहन की बैटरी जीवन काल शामिल हैं।

संवादपत्र

संबंधित लेख