ए.एस.बी.ए. और आईपीओ: आपको जो सब जानने की जरूरत है

एएसबीए की सबसे अच्छी बात यह है कि शेयर आवंटित होने तक निवेशक को कोई राशि का भुगतान नहीं करना पड़ता है; नतीजतन, ब्याज आय का कोई नुकसान नहीं होता है, और यदि शेयरों का आवंटन नहीं होता है,तो कोई रिफंड की बाधा नहीं होती है।

ए.एस.बी.ए. और आईपीओ आपको जो सब जानने की जरूरत है

पिछले कुछ वर्षों से, भारत के बाजार नियामक सेबी (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड) ने एक ऐसी प्रणाली लागू की है जो निवेशकों को राइट्स इशू, आईपीओ या म्यूचुअल फंड न्यू फंड ऑफर (एनएफओ) के लिए आवेदन करते समय दलालों जैसे बिचौलियों को दूर करती है। इसने डिमांड ड्राफ्ट और चेक जैसे पारंपरिक भुगतान मोड को भी हटा दिया है |

व्यापक रूप से अपने सूक्ष्म शब्द ए.एस.बी.ए. (अवरुद्ध राशि द्वारा समर्थित आवेदन) द्वारा जाना जाता है, इस प्रणाली में निवेशकों को एक ऐसे बैंक के माध्यम से आवेदन करने की आवश्यकता होती है,जो यह सुविधा प्रदान करता हो, जिससे आवेदन राशि निवेशक के बैंक खाते में ही जमा रहता है जब तक अंक आवंटित नहीं हो जाता है। नतीजतन, आईपीओ जारीकर्ता अंतरिम अवधि के लिए निवेशक के पैसे पर अनुचित रूप से ब्याज नहीं कमा सकता है।

इस प्रकार एएसबीए छोटे और मध्यम श्रेणी के निवेशकों के लिए काफी हद तक सकारात्मक साबित हुआ है। सबसे पहले 2008 में प्रस्तुत किया गया और उसके बाद कुछ चुनिंदा राइट्स इशू के साथ एक प्रायोगिक आधार पर पेश किया गया, एएसबीए 1 जनवरी 2016 से आईपीओ के लिए अनिवार्य कर दिया गया था ।

1.एएसबीए कैसे काम करता है

'अवरुद्ध राशि द्वारा समर्थित आवेदन ' का तात्पर्य है कि इस प्रक्रिया से एक निवेशक किसी इशू की सदस्यता के लिए आवेदन करने के लिए बैंक को अपने बैंक खाते में आवेदन राशि को अवरुद्ध करने के लिए अधिकृत करता है। आवेदन राशि तभी डेबिट की जाती है जब आवंटन का आधार तय हो जाता है,और उसके आधार पर आवेदन का चयन किया जाता है, या इशू को वापस ले लिया जाता है या विफल माना जाता है |

राइट्स इशू होने के मामले में, पंजीयकों से निर्देश मिलने के बाद ही आवेदन राशि बैंक खाते से डेबिट की जा सकती है।

2. शेष राशि

पूरा बैंक खाता ब्लॉक नहीं होता है; केवल आवेदन राशि ही ब्लॉक होती है। खाते में शेष राशि (जिसे ब्लॉक नहीं किया गया है), अभी भी निवेशक-खाताधारक द्वारा निकासी, चेक भुगतान आदि के लिए उपयोग की जा सकती है।

3. अधिकृत बैंक/एससीबी

जब कोई निवेशक एएसबीए आवेदन करता है, तो यह एक स्व-प्रमाणित सिंडिकेट बैंक (एससीएसबी) के माध्यम से किया जाता है। 1 अप्रैल 2019 तक, एचडीएफसी बैंक, एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक आदि जैसे प्रमुख बैंकों सहित 66 एससीबी थे। एएसबीए आवेदन पत्र में एससीबी की एक सूची दी गई है, लेकिन निवेशकों को आईपीओ आवेदन करते समय अपने बैंकों से इस बारे में पता करने की भी सलाह दी जाती है ।

4. एससीएसबी और बैंक खाता

सेबी अपनी सूची में किसी भी एससीबी में बेतरतीब ढंग से एएसबीए फॉर्म जमा करने की अनुमति नहीं देता है; एक निवेशक इसे केवल उस एससीएसबी शाखा में पेश कर सकता है जहां उनके बचत खाता मौजूद है (चालू खाते वाले खाते को अनुमति नहीं दी गई है)।

5. एएसबीए और आईपीओ

ऐसे दो तरीके हैं जिनके द्वारा कोई एएसबीए के माध्यम से आईपीओ के लिए आवेदन कर सकता है: पारंपरिक ऑफलाइन तरीका, और नया ऑनलाइन तरीका।

ऑफलाइन आवेदन करते समय भी निवेशक को एएसबीए फॉर्म भरना होता है, जिसे बीएसई या एनएसई की वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है या एससीएसबी से खरीदा जा सकता है। दर्ज की गई जानकारी (बैंक खाता संख्या, डीमैट खाता संख्या, पैन, या यहां तक कि निवेशक के नाम की वर्तनी) सही होनी चाहिए; यदि एससीएसबी के पास दर्ज़ जानकारी से कोई भी जानकारी नहीं मिलती है, तो बैंक आवेदन अस्वीकार कर देगा। एक अधूरे फॉर्म को भी अस्वीकृत कर दिया जाएगा। इसके बाद एससीएसबी ,बिडिंग प्लेटफॉर्म पर भरे हुए आवेदन को अपलोड करता है ।

एससीबी पोर्टल पर उपलब्ध सुविधा के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन किए जा सकते हैं। अगर आप शेयर बाजार में निवेश शुरू करना चाहते हैं तो एक डीमैट खाता खुलवा लें और आईपीओ के लिए ऑनलाइन आवेदन करें। यहां बताया गया है कि आप इसे कैसे कर सकते हैं:

  • अपने इंटरनेट बैंकिंग खाते में लॉग इन करें;
  • बाईं ओर मेनू पर आईपीओ आवेदन खोजें और उस पर क्लिक करें;
  • चल रहे सभी आईपीओ वहाँ सूचीबद्ध होंगे; आप जिस के लिए आवेदन करना चाहते हैं उसका चयन करें;
  • अपने विवरण भरें, और ऑर्डर डाल कर पुष्टि करें।

6. एएसबीए फॉर्म जमा करना

आप या तो एक भौतिक एएसबीए फॉर्म भर सकते हैं और इसे एससीएसबी शाखा में जमा कर सकते हैं जहां आपका खाता है, या इंटरनेट बैंकिंग सुविधा (यदि एससीएसबी द्वारा प्रदान किया जाता है) के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक रूप से आवेदन कर सकते हैं। सेबी आरटीए (रजिस्ट्रार और शेयर ट्रांसफर एजेंट्स) और डीपी (डिपॉजिटरी प्रतिभागी) को आवेदन फॉर्म (फिजिकल और ऑनलाइन ,दोनों प्रकार से ) स्वीकार करने और स्टॉक एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर बोलियां लगाने की भी अनुमति देता है । यह एससीबी और स्टॉकब्रोकर्स के अलावा वो अन्य लोग होते हैं जिनके पास ऐसी सुविधाएं हैं। सेबी का यह फैसला सबमिशन प्वाइंट्स की संख्या बढ़ाने और एएसबीए का इस्तेमाल बढ़ाने के लिए लिया गया था |

7. विभिन्न शाखाएं

ऐसा हो सकता है कि एक आईपीओ तब खखुला हो जब निवेशक यात्रा कर रहा हो और एक अलग शहर में हो। ऐसे मामले में क्या किसी ऐसे एससीएसबी शाखा में आवेदन दाखिल किया जा सकता है, जहां निवेशक का खाता नहीं हो ? जवाब है - हां, ऐसा किया जा सकता है, बशर्ते ब्रांच में कोर बैंकिंग की सुविधा हो।

8. आईपीओ का प्रकार

एएसबीए सुविधा केवल बुक-बिल्ट इशू के लिए अनुमत है न किफिक्स्ड प्राइस इशू के लिए। किसी भी मामले में, दूसरा इशू इन दिनों लगभग न के बराबर मायने रखता है, आईपीओ मार्ग चुनने वाले जारीकर्ता पुबुक-बिल्ट इशू की प्रक्रिया पसंद करते है (जहां मूल्य को बोली के माध्यम से आँका जाता है) । निवेशक के एएसबीए एप्लिकेशन फंड सांकेतिक मूल्य के आधार पर ब्लॉक होते हैं, हालांकि आवंटन पर वास्तविक डेबिट ,निर्धारित कीमत पर आधारित होती है।

9. आवेदनों की संख्या

एएसबीए निवेशक को प्रति इशू, पांच आवेदन करने की अनुमति देता है।

10. त्रुटि की जिम्मेदारी

यदि आवेदन पत्र में प्रस्तुत जानकारियों में कोई त्रुटि पाई जाती है, तो इसके लिए निवेशक को ही जिम्मेदार ठहराया जाएगा। लेकिन अगर स्टॉक एक्सचेंज के इलेक्ट्रॉनिक बिडिंग सिस्टम में जानकारी डालने में गड़बड़ी होती है तो इसकी जिम्मेदारी एससीएसबी की होगी।

11. शिकायत दर्ज करना

एएसबीए आवेदन के संबंध में किसी भी शिकायत के लिए संबंधित एससीएसबी से संपर्क करना होगा। एससीएसबी को 15 दिन के भीतर जवाब देना होता है। यदि आप जवाब से संतुष्ट नहीं हैं, तो आप इसके बाद सेबी को निम्नलिखित पते पर लिख सकते हैं:

निवेशक शिकायत प्रकोष्ठ

निवेशक सहायता और शिक्षा कार्यालय

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड

पोस्ट संख्या: C4-A, जी ब्लॉक, बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स

बांद्रा (पूर्व), मुंबई 400051

दूरभाष: +91-22-26449000/

फैक्स: +91-22-26449016-20/40459016-20

12. आवेदन पावती

एएसबीए फॉर्म जमा होने के बाद संबंधित एससीएसबी को पावती के रूप में काउंटरफॉइल उपलब्ध कराना होता है। साथ ही आवेदन विवरण अपलोड करते समय एक ऑर्डर नंबर जनरेट किया जाता है। यदि आपको इसकी आवश्यकता है तो आप इसके लिए अनुरोध कर सकते हैं।

13.एएसबीए और राइट्स इश्यूज

जैसा कि पहले भी कहा गया है, एएसबीए आईपीओ के लिए चेक को पूरी तरह से हटा देता है । यह राइट्स इश्यूज के लिए भी वैसा ही है, हालांकि कुछ कंपनियां अभी भी चेक स्वीकार करते हैं । लेकिन जहांराइट्स इश्यूज के लिए एएसबीए आवश्यक होता है, वहाँ शेयरधारक को सिर्फ इतना करना है कि उचित राइट्स फार्म में दिए गए कॉलम में अपने बैंक विवरण को भरना है ।

14. एएसबीए और ब्रोकरेज

एएसबीए में, कोई भी चेक की आवश्यकता नहीं होती है,जो दलालो के लिए ज़रूरी हो सकता है | निवेशकों को केवल एससीबी में ही एएसबीए फॉर्म जमा करना होता है। वास्तव में ब्रोकर से संपर्क करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है; आखिरकार, ब्रोकर भी बस एससीएसबी को फॉर्म जमा करेगा। आवेदन प्रक्रिया स्वतंत्र रूप से किया जा सकता है और इसमें केवल कुछ मिनट लगते हैं।

15. एएसबीए के लाभ

एएसबीए के कई लाभ हैं; देखते हैं कि वे क्या हैं।

  • पहले, निवेशक चेक के जरिए आवेदन का पैसा चुकाते थे । इसका मतलब आवंटन/वापसी तक ब्याज का घाटा था । लेकिन एएसबीए के साथ, वह आवेदन राशि निवेशक को उस अवरुद्ध राशि पर ब्याज प्राप्त करने देती है;
  • इससे पहले, रिफंड के मामले पर नियमित रूप से विभिन्न समस्याएं उत्पन्न हुईं । एएसबीए के साथ, रिफंड की कोई समस्या नहीं होती , क्योंकि आवश्यक पैसा अभी भी आप ही के बैंक खाते में है, हालांकि ब्लॉक किया हुआ है। आवंटन न होने की स्थिति में इस ब्लॉक को हटा लिया जाता है;
  • सरल आवेदन पत्र;
  • कोई बिचौलियों की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि निवेशक सीधे बैंक के साथ सौदा करते हैं;
  • बोली को संशोधित या वापस लिया जा सकता है, हालांकि केवल सदस्यता ख़त्म होने से पहले और केवल एक निर्धारित प्रारूप में।

16. आवेदक से अपेक्षाएं

सेबी के अनुसार सभी रिटेल निवेशक आईपीओ के लिए एएसबीए के जरिए आवेदन कर सकते हैं। लेकिन राइट्स इशू के लिए, केवल बोना-फाइड शेयरधारकों को ही अनुमति है । इसके अलावा, उनके पास डीमैट शेयर होना चाहिए और डीमैट प्रारूप में आवेदन किया जाना चाहिए।

एक एएसबीए निवेशक को निम्नलिखित जानकारी देने की भी आवश्यकता होती है:

  • स्थायी खाता संख्या (पैन);
  • डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स आइडेंटिफिकेशन नंबर (डीपी आईडी);
  • अपने ब्रोकर के खाते से क्लाइंट पहचान संख्या;
  • इशू के लिए बोली मात्रा;
  • बैंक खाता संख्या।

17. डीमैट खाता और एससीएसबी

निवेशकों को अपने उस एससीबी के पास अपना डीमैट खाता (डीपी नंबर) रखने की जरूरत नहीं है, जहां एएसबीए फॉर्म जमा किया जाता है।

18. बोलियां वापस लेना/संशोधित करना

सेबी ने एएसबीए बोलियों को वापस लेने या उसमे संशोधन करने की अनुमति दे रखी है ; यदि बोली अवधि के दौरान ऐसा किया जा रहा है ,तो जिस बैंक में एएसबीए प्रस्तुत किया गया था,उसे एक पत्र लिख कर यह किया जा सकता है, जिसमे आवेदन संख्या और टीआरएस (लेनदेन पंजीकरण पर्ची) संख्या का उल्लेख हो, यदि कोई है ।

बोली बंद होने की अवधि के बाद, निकासी अनुरोध रजिस्ट्रार को भेजा जा सकता है, जो बोली रद्द कर देगा और एससीएसबी को आवंटन के आधार पर बैंक खाते में आवेदन राशि को अनब्लॉक करने का निर्देश देगा।

19. निकासी के बाद राशि से ब्लॉक हटाना

यदि राशि की निकासी ,बोली अवधि के दौरान की जाती है, तो एससीएसबी बोली को रद्द कर देता है और बैंक खाते में आवेदन राशि से ब्लॉक हटा देता है। यदि बोली बंद होने की तारीख के बाद निकासी की जाती है, तो एससीएसबी रजिस्ट्रार से उचित निर्देश मिलने के बाद ही आवेदन राशि को अनब्लॉक करेगा, जो इस इशू में आवंटन के आधार को अंतिम रूप देने के बाद किया जा सकता है ।

20. इशू की विफलता या निकासी

यदि इशू विफल हो जाती है या वापस ले ली जाती है, तो एससीएसबी रजिस्ट्रार से निर्देश प्राप्त करने पर बैंक खातों से आवेदन राशि को अनब्लॉक कर देगा।

अंतिम शब्द

एएसबीए से सबसे बड़ा निष्कर्ष यह है कि पूरी प्रक्रिया खुदरा निवेशक के पक्ष में है, जो अब अधिक सशक्त हो गई है और इसका अब आईपीओ प्रक्रिया पर बेहतर नियंत्रण है, इस बात के लिए दी गई पारदर्शिता का आभार । शेयर आवंटित होने तक निवेशकों को कोई राशि का भुगतान नहीं करना पड़ता है; नतीजतन, ब्याज आय का कोई नुकसान नहीं होता है, और शेयरों के आवंटन के मामले में कोई रिफंड बाधा भी नहीं होती है।




संबंधित लेख