These 5 suggestions will make you Rich: इन पाँच तरीकों से आप भी हो सकते हैं मालामाल

यदि आप धन-संपदा बढ़ाना चाहते हैं तो इक्विटी निवेश आप के लिए उम्दा उपाय है।

धनवान बनना हो तो इक्विटी में करें निवेश

Equity: सबकी चाहत होती है कि अपनी संपत्ति को दिन दूना रात चौगुना बढ़ाया जाए, लेकिन असल जिंदगी में यह उतना आसान नहीं होता। इस लेख के जरिये कुछ ऐसे सुझाव दिए जा रहे हैं जिससे संपत्ति कई गुना बढ़ाई जा सकती है। इक्विटी या शेयर बाजार में निवेश, निवेश के जरिए संपत्ति बढ़ाने का एक ऐसा ही कारगर उपाय है। देखा गया है कि इक्विटी में निवेश से पाँच सालों में 11% तक, और 10 सालों में 17% तक का रिटर्न मिला है। इतना ही नहीं, लंबी अवधि के निवेशों ने भी 10% से ऊपर का ही रिटर्न दिया है, जैसे 15 वर्षों के निवेश से 13.6% रिटर्न मिला है तो 20 सालों के निवेश से 12.9% रिटर्न मिला है। यदि आप भी इसी तरह अपनी संपत्ति को 10 गुना से ज्यादा बढ़ाना चाहते हैं तो इक्विटी निवेश बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है, बशर्ते आप कुछ बिंदुओं का जरूर ध्यान रखें। मार्केटमोजो के सीईओ मोहित बत्रा ने इस विषय में कुछ महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए हैं।

यह भी पढ़ें: रिटायरमेंट प्लानिंग करते वक्त इन 5 गलतियों से बचें

1. संपत्ति की वृद्धि के लिए 9% का रिटर्न जरूरी 

यदि अपनी संपत्ति में बढ़ोतरी करनी है तो रिटर्न 9% से ज्यादा रखना जरूरी है। महंगाई की औसत दर यदि 6.3% मानी जाए तो किसी भी निवेश से कम से कम 9% का रिटर्न मिलना चाहिए। ऐसा करने से संपत्ति बढ़ेगी अन्यथा धन के कम होने की संभावना होगी। इसलिए ऐसे विकल्प चुनें जो कम से कम 9% वार्षिक रिटर्न देते हों। 

2. जानकारों से सलाह आवश्यक 

निवेश पर हमेशा ध्यान बनाए रखना बहुत जरूरी होता है। लेकिन निवेशक को हमेशा ऐसा करना संभव नहीं होता। यदि निवेश का सही फायदा उठाना चाहते हैं तो या तो आप स्वयं एक प्रोफेशनल निवेशक बनें या फिर किसी प्रोफेशनल सलाहकार की सहायता जरूर लें। 

3. बाजार के उतार-चढ़ाव से डरकर फैसला न लें 

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव एक आम बात होती है। यदि महामंदी का समय छोड़ दिया जाए तो बाकी समय गिरावट का बाजार ज्यादा से ज्यादा छह महीने तक ही चलता है। इसके बाद बाजार की स्थितियाँ बदलती हैं। ऐसे समय में निवेशक अक्सर बाजार से बाहर चले जाते हैं। यदि निवेशक घबराकर फैसला न लें तो परिस्थितियाँ बदलने पर उनके निवेश से भी फायदा हो सकता है।

4. निवेश करने की कोई समयसीमा नहीं 

निवेश करने के लिए कोई एक उम्र तय नहीं है। गौरतलब है कि वारेन बफे ने 15 साल की उम्र में निवेश करना प्रारंभ किया था। अब जब कि उनकी उम्र 92 साल है तब उनकी संपत्ति 8 लाख करोड़ के बराबर है। यदि वे आम चलन के हिसाब से 60 साल में ही रिटायर हो जाते तो वर्तमान संपत्ति का 0.001% भी उनके पास नहीं होता। इसलिए हमेशा निवेश करें।  

5. संपत्ति बढ़ाने के लिए बचत से बेहतर विकल्प है, निवेश 

पारंपरिक तौर पर बचत संपत्ति बढ़ाने का तरीका माना जाता है। लेकिन महंगाई की बढ़ती हुई दर को देखते हुए हमारी बचत का मूल्य शून्य भी हो सकता है, जबकि निवेश पर मिलनेवाला रिटर्न या फायदा हमारी संपत्ति को हमेशा बढ़ाता है। 

यह भी पढ़ें: इन प्रभावी बजट विधियों के साथ क़र्ज़ मुक्त हो जाएं

What is Equity in investing?

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख