क्या एनएसई या बीएसई में निवेश करना बेहतर है?

भारत में दो विनियमित स्थान हैं, जहां आप स्टॉक खरीद सकते हैं- एनएसई और बीएसई। किसी भी नए निवेशक के लिए स्टॉक कहां से खरीदें, कहां बेचें या फिर एनएसई और बीएसई के बीच अंतर के बारे में सवाल करना काफी उलझाने वाला हो सकता है। आइए इन दोनों के बीच के अंतर को समझते हैं।

बीएसई या एनएसई आपको कहां निवेश करना चाहिए

स्टॉक एक्सचेंज ऐसे स्थान हैं, जहां निवेशक और कारोबारी धन जुटाने के लिए प्रतिभूतियों, जैसे शेयर और बांड का लेन-देन करते हैं। किसी ब्रोकर या एजेंट की सहायता से या उसके बिना प्रतिभूतियों का कारोबार किया जा सकता है। स्टॉक एक्सचेंज एक संगठित और विनियमित बाजार है, जहां खरीद-बिक्री और शेयरों को जारी करने जैसा वित्तीय लेनदेन होता है। 

कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज के जरिए पैसा जुटा सकती हैं। स्टॉक एक्सचेंज डेरिवेटिव और सुरक्षा ऋण बेचने के लिए मंच के रूप में देश की अर्थव्यवस्था के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

आइए उनके बीच के मूल अंतर और दोनों में कौन बेहतर है, इसे आसानी से समझते हैं।

ये भी पढ़ें: दुनिया के टॉप10 एक्सचेंज

उत्पत्ति को समझिये

बीएसई- बीएसई की शुरुआत 1875 में हुई थी और यह एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है। 1986 में बीएसई ने एक्सचेंज पर शीर्ष 30 कंपनियों की पहचान के लिए सेंसेक्स को पहले इक्विटी इंडेक्स के रूप में पेश किया। ये 30 कंपनियां 10 अलग-अलग सेक्टर की थीं। आज, बीएसई विश्व स्तर पर टॉप 10 सबसे मूल्यवान एक्सचेंजों में शुमार है।

एनएसई - एनएसई की शुरुआत 1992 में हुई थी और यह देश का सबसे बड़ा एक्सचेंज बन गया है। सेबी ने इसे 1993 में मान्यता दीष इसका औपचारिक संचालन 1994 में शुरू हुआ। 1995 में एनएसई ने निफ्टी 50 इंडेक्स (एक्सचेंज पर शीर्ष 50 कंपनियों का गठन) लॉन्च किया और डीमैटरियलाइज्ड सिक्योरिटीज में ट्रेडिंग और सेटलमेंट शुरू किया।

एक्सचेंजों को बेहतर ढंग से समझें

यह तय करने के लिए कि कौन सा बेहतर विकल्प है, दोनों एक्सचेंजों को समझना जरूरी है। तकनीकी रूप से, एनएसई और बीएसई के बीच कोई अंतर नहीं है। जब कोई कंपनी अपना आईपीओ लॉन्च करने की योजना बनाती है, तो वह दोनों एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध हो जाती है। आप कंपनी को दोनों एक्सचेंजों में से किसी से भी खरीद और बेच सकते हैं।

हालांकि, कुछ कंपनियां केवल एक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं। उदाहरण के लिए, बीएसई स्वयं एक सूचीबद्ध कंपनी है, और यदि आप बीएसई शेयर खरीदना चाहते हैं, तो आप इसे केवल एनएसई के माध्यम से ही कर सकते हैं। इसी तरह कई शेयर सिर्फ बीएसई पर लिस्टेड हैं।

यहां एक आवश्यक टिप दी गई है जो निवेशकों के लिए उपयोगी हो सकती है। मान लीजिए कि आप एनएसई पर एबीसी लिमिटेड के 1000 शेयर खरीदते हैं। यदि आप शेयरों को उसी दिन (आपके डीमैट खाते में जमा होने से पहले) बेचना चाहते हैं, तो आप इन 1000 शेयरों को केवल एनएसई पर ही बेच सकते हैं। हालांकि, एक बार जब शेयर आपके डीमैट खाते (टी+2) में जमा हो जाते हैं, तो आप किसी भी एक्सचेंज पर शेयर बेचने के लिए स्वतंत्र होते हैं।

दो एक्सचेंजों के बीच महत्वपूर्ण अंतर 

ऊपर हमने दो एक्सचेंजों के बीच कुछ बुनियादी अंतरों पर चर्चा की है; आइए जानते हैं कुछ और अंतर के बारे में:

  1. एनएसई (1750+) की तुलना में बीएसई में अधिक स्टॉक (7500+) सूचीबद्ध हैं
  2. एनएसई पर ट्रेडिंग वॉल्यूम अधिक होता है, जिसका अर्थ है कि एक्सचेंज पर अधिक खरीदार और विक्रेता होते हैं।
  3. उच्च वॉल्यूम के साथ, बीएसई की तुलना में एनएसई पर तरलता अधिक है।
  4. एनएसई का बाजार पूंजीकरण लगभग 2,66,00,000 करोड़ रुपये है, जबकि बीएसई का लगभग 1,99,00,000 करोड़ रुपये है।
  5. एनएसई का नेटवर्क 1500 शहरों में फैला हुआ है, जबकि बीएसई का नेटवर्क 450 शहरों में ही फैला हुआ है।

आपको कहां निवेश करना चाहिए?

यदि आप एक खुदरा निवेशक हैं और कम मात्रा में स्टॉक खरीदना और बेचना चाहते हैं, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस एक्सचेंज का उपयोग कर रहे हैं। एनएसई आम तौर पर दिन के व्यापारियों के लिए पसंदीदा विकल्प है, जो डेरिवेटिव, वायदा और विकल्पों के साथ शेयर व्यापार का जोखिम लेते हैं। फिर, यदि आप बड़ी मात्रा में लेन-देन कर रहे हैं, तो आपको बीएसई के मुकाबले एनएसई को प्राथमिकता देनी चाहिए, क्योंकि यहां तरलता अधिक है। यदि आप एक नया निवेशक हैं, तो आपको बीएसई के जरिये निवेश की सलाह दी जाती है। दूसरी ओर, एनएसई दिन के व्यापारियों या अनुभवी निवेशकों के लिए सही विकल्प है।

समाप्ति नोट

आखिर में आपकी मुख्य चिंता आपके द्वारा खरीदे जा रहे स्टॉक की गुणवत्ता होनी चाहिए; ज्यादातर मामलों में, स्टॉक एक्सचेंज कोई भी हो, फर्क नहीं पड़ता है। निवेशक अपनी पसंद के हिसाब से निवेश के फैसले खुद ले सकते हैं।

संवादपत्र

संबंधित लेख