Five Star Business Finance IPO details: ₹1,960 करोड़ का फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस आईपीओ 9 नवंबर को लांच

आगामी 9 नवंबर, 2022 को फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस का ₹1,960 करोड़ का आईपीओ जारी किया जाएगा।

फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस

Five Star Business Finance fixes IPO details: छोटे व्यवसायियों को और मोर्गेज (गिरवी या बंधक) ऋण देने वाली कंपनी फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस (Five Star Business Finance) 9 नवंबर, 2022 को अपना सार्वजनिक प्रारंभिक प्रस्ताव बाजार में ला रही है। यह प्रस्ताव ऑफर फॉर सेल (ओएफएस) की तर्ज पर होगा और इसका लक्ष्य ₹1,960 करोड़ की रकम जुटाना है। आईपीओ 11 नवंबर तक खुला रहेगा। एंकर निवेशक (इन्वेस्टर्स) 7 नवंबर से ही आईपीओ ले सकेंगे। 

मौजूदा शेयरधारक 

प्रमोटर एससीआई इन्वेस्टमेंट्स वी एंड मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया इन्वेस्टमेंट होल्डिंग्स II, एलएलसी द्वारा क्रमशः दशमलव सात ₹166.4 करोड़ और ₹719.41 करोड़ मूल्य के शेयर उपलब्ध कराए जाएँगे। अन्य निवेशक जैसे मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया इन्वेस्टमेंट्स II एक्सटेंशन, एलएलसी भी ₹12.09 करोड़, नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स एक्स मॉरिशस भी ₹361.45 करोड़ मूल्य के शेयर प्रस्ताव के लिये उपलब्ध कराएँगे। टीपीजी एशिया VII एसएफ ₹700.32 करोड़ के शेयर इस प्रस्ताव के दौरान बेचेगी। 

चूँकि यह पूरा प्रस्ताव ओएफएस पद्धति का है इसलिए इश्यू से प्राप्त होने वाली राशि फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस द्वारा उपयोग में नहीं लाई जाएगी बल्कि ऊपर उल्लेख किए गए शेयरधारकों को दी जाएगी। 

शेयर की कीमत 

आईपीओ में प्रस्तुत किए गए शेयर की कीमत होगी ₹1 प्रति शेयर। इश्यू का प्राइस बैंड ₹450 से ₹474 प्रति शेयर तय किया गया है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

शेयर का आबंटन 

इस प्रस्ताव में आईपीओ के कुल शेयर में से 50% योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआईबी) के लिए सुरक्षित रखा गया है जबकि 15% गैर संस्थागत निवेशकों (एनआइआई) के लिए रखा गया है। खुदरा निजी निवेशकों के लिए आरआई 35% शेयर उपलब्ध कराए जाएँगे। 

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी और नोमुरा फाइनेंशियल एडवाइजरी एंड सिक्योरिटीज (इंडिया) जैसी कंपनियाँ आईपीओ के लिए बुक-रनिंग लीड मैनेजर (बीआरएलएम) के रूप में काम कर रही हैं। केफिन टेक्नोलॉजीज ऑफर का रजिस्ट्रार है। 

क्या करती है फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस 

फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस एक एनबीएफसी-एनडी-एसआई है, यह छोटे उद्यमियों और व्यक्तियों को ऋण उपलब्ध कराती है जो कि आमतौर पर पारंपरिक वित्तीय संस्थाओं द्वारा दरकिनार कर दिए जाते हैं। कंपनी का मुख्यालय चेन्नई, तमिलनाडु में स्थित है और कंपनी पूरे भारत में मजबूती से काम करती है। 

कंपनी की कार्यपद्धति (बिज़नेस मॉडल) 

कंपनी द्वारा एक विशेष कार्य पद्धति विकसित की गई है जिसमें जोखिम को देखते हुए यथोचित फ्रेमवर्क का अनुमान लगाना, उपयुक्त किस्त और आय का रेश्यो सुनिश्चित करना जिससे ग्राहक के लिए अपने सभी दायित्व निभाने और अन्य गतिविधियों के लिए आवश्यक पूंजी को ध्यान में रखकर ऋण चुकाने के लिए संसाधन उपलब्ध हों। 

30 जून, 2022 तक प्राप्त जानकारी के आधार पर फाइव स्टार बिज़नेस की 311 शाखाओं का विस्तृत नेटवर्क है जो कि 150 जिलों, आठ राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश मैं फैला है। नेटवर्क में तमिलनाडु आंध्रप्रदेश तेलंगाना और कर्नाटक आदि प्रमुख प्रदेश शामिल हैं। 

फाइव स्टार बिज़नेस का कारोबार 

30 जून, 2022 तक प्राप्त आँकड़ों के अनुसार कंपनी का शुद्ध लाभ है ₹139.43 करोड़ जबकि शुद्ध प्रॉफिट मार्जिन है 41.12%। इस दौरान कंपनी का कुल मूल्य था ₹3856.97 करोड़।

फाइव स्टार बिज़नेस ने FY22 में, ₹1,256.16 करोड़ तो FY21 में ₹1,051.25 करोड़ की कुल आय दर्ज की। संचालन से राजस्व वित्त वर्ष 2012 में ₹1,254.06 करोड़ का आया तो वित्त वर्ष 2011 में 1,049.74 करोड़ था। वित्त वर्ष 2012 में सकल सावधि ऋण (ग्रॉस टर्म लोन) ₹5,067.07 करोड़ था, जो वित्त वर्ष 2011 में ₹4,445.38 करोड़ था। वित्त वर्ष 2022 में इसका संवितरण (डिस्बर्समेंट) बढ़कर ₹1,756.24 करोड़ हो गया। 

30 जून, 2022 तक कंपनी की कुल परिसंपत्ति ₹6471.55 करोड़ आँकी गई थी। 

फाइव स्टार बिज़नेस की रणनीति 

कंपनी ने आने वाले समय में अपनी शाखाओं में कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर, भौगोलिक क्षेत्र में अपनी उपस्थिति बढ़ाने के लिए नेटवर्क को बढ़ाने के साथ बाजार में विविधता लाकर इस क्षेत्र में पैठ बनाने की योजना बनाई है। 

कंपनी प्रमुख रूप से उप-शहरी और शहरी बाजार में कार्यरत, साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में CRISIL द्वारा वित्तीय जागरूकता बढ़ने के साथ बैंक क्रेडिट गतिविधि बढ़ने की संभावना वाले क्षेत्रों के छोटे उद्यमियों और स्वनियोजित (सेल्फ़ एम्प्लॉयड) व्यक्तियों पर ध्यान केंद्रित करेगी।

नए ग्राहक को आकर्षित करने के लिए कंपनी ब्रांड रिकॉल को बढ़ाने पर भी ध्यान केंद्रित करेगी।

फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस इस आईपीओ के बाद बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) दोनों पर सूचीबद्ध होगा।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Five Star Business Finance fixes IPO details: छोटे व्यवसायियों को और मोर्गेज (गिरवी या बंधक) ऋण देने वाली कंपनी फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस (Five Star Business Finance) 9 नवंबर, 2022 को अपना सार्वजनिक प्रारंभिक प्रस्ताव बाजार में ला रही है। यह प्रस्ताव ऑफर फॉर सेल (ओएफएस) की तर्ज पर होगा और इसका लक्ष्य ₹1,960 करोड़ की रकम जुटाना है। आईपीओ 11 नवंबर तक खुला रहेगा। एंकर निवेशक (इन्वेस्टर्स) 7 नवंबर से ही आईपीओ ले सकेंगे। 

मौजूदा शेयरधारक 

प्रमोटर एससीआई इन्वेस्टमेंट्स वी एंड मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया इन्वेस्टमेंट होल्डिंग्स II, एलएलसी द्वारा क्रमशः दशमलव सात ₹166.4 करोड़ और ₹719.41 करोड़ मूल्य के शेयर उपलब्ध कराए जाएँगे। अन्य निवेशक जैसे मैट्रिक्स पार्टनर्स इंडिया इन्वेस्टमेंट्स II एक्सटेंशन, एलएलसी भी ₹12.09 करोड़, नॉर्वेस्ट वेंचर पार्टनर्स एक्स मॉरिशस भी ₹361.45 करोड़ मूल्य के शेयर प्रस्ताव के लिये उपलब्ध कराएँगे। टीपीजी एशिया VII एसएफ ₹700.32 करोड़ के शेयर इस प्रस्ताव के दौरान बेचेगी। 

चूँकि यह पूरा प्रस्ताव ओएफएस पद्धति का है इसलिए इश्यू से प्राप्त होने वाली राशि फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस द्वारा उपयोग में नहीं लाई जाएगी बल्कि ऊपर उल्लेख किए गए शेयरधारकों को दी जाएगी। 

शेयर की कीमत 

आईपीओ में प्रस्तुत किए गए शेयर की कीमत होगी ₹1 प्रति शेयर। इश्यू का प्राइस बैंड ₹450 से ₹474 प्रति शेयर तय किया गया है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

शेयर का आबंटन 

इस प्रस्ताव में आईपीओ के कुल शेयर में से 50% योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआईबी) के लिए सुरक्षित रखा गया है जबकि 15% गैर संस्थागत निवेशकों (एनआइआई) के लिए रखा गया है। खुदरा निजी निवेशकों के लिए आरआई 35% शेयर उपलब्ध कराए जाएँगे। 

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी और नोमुरा फाइनेंशियल एडवाइजरी एंड सिक्योरिटीज (इंडिया) जैसी कंपनियाँ आईपीओ के लिए बुक-रनिंग लीड मैनेजर (बीआरएलएम) के रूप में काम कर रही हैं। केफिन टेक्नोलॉजीज ऑफर का रजिस्ट्रार है। 

क्या करती है फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस 

फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस एक एनबीएफसी-एनडी-एसआई है, यह छोटे उद्यमियों और व्यक्तियों को ऋण उपलब्ध कराती है जो कि आमतौर पर पारंपरिक वित्तीय संस्थाओं द्वारा दरकिनार कर दिए जाते हैं। कंपनी का मुख्यालय चेन्नई, तमिलनाडु में स्थित है और कंपनी पूरे भारत में मजबूती से काम करती है। 

कंपनी की कार्यपद्धति (बिज़नेस मॉडल) 

कंपनी द्वारा एक विशेष कार्य पद्धति विकसित की गई है जिसमें जोखिम को देखते हुए यथोचित फ्रेमवर्क का अनुमान लगाना, उपयुक्त किस्त और आय का रेश्यो सुनिश्चित करना जिससे ग्राहक के लिए अपने सभी दायित्व निभाने और अन्य गतिविधियों के लिए आवश्यक पूंजी को ध्यान में रखकर ऋण चुकाने के लिए संसाधन उपलब्ध हों। 

30 जून, 2022 तक प्राप्त जानकारी के आधार पर फाइव स्टार बिज़नेस की 311 शाखाओं का विस्तृत नेटवर्क है जो कि 150 जिलों, आठ राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश मैं फैला है। नेटवर्क में तमिलनाडु आंध्रप्रदेश तेलंगाना और कर्नाटक आदि प्रमुख प्रदेश शामिल हैं। 

फाइव स्टार बिज़नेस का कारोबार 

30 जून, 2022 तक प्राप्त आँकड़ों के अनुसार कंपनी का शुद्ध लाभ है ₹139.43 करोड़ जबकि शुद्ध प्रॉफिट मार्जिन है 41.12%। इस दौरान कंपनी का कुल मूल्य था ₹3856.97 करोड़।

फाइव स्टार बिज़नेस ने FY22 में, ₹1,256.16 करोड़ तो FY21 में ₹1,051.25 करोड़ की कुल आय दर्ज की। संचालन से राजस्व वित्त वर्ष 2012 में ₹1,254.06 करोड़ का आया तो वित्त वर्ष 2011 में 1,049.74 करोड़ था। वित्त वर्ष 2012 में सकल सावधि ऋण (ग्रॉस टर्म लोन) ₹5,067.07 करोड़ था, जो वित्त वर्ष 2011 में ₹4,445.38 करोड़ था। वित्त वर्ष 2022 में इसका संवितरण (डिस्बर्समेंट) बढ़कर ₹1,756.24 करोड़ हो गया। 

30 जून, 2022 तक कंपनी की कुल परिसंपत्ति ₹6471.55 करोड़ आँकी गई थी। 

फाइव स्टार बिज़नेस की रणनीति 

कंपनी ने आने वाले समय में अपनी शाखाओं में कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर, भौगोलिक क्षेत्र में अपनी उपस्थिति बढ़ाने के लिए नेटवर्क को बढ़ाने के साथ बाजार में विविधता लाकर इस क्षेत्र में पैठ बनाने की योजना बनाई है। 

कंपनी प्रमुख रूप से उप-शहरी और शहरी बाजार में कार्यरत, साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में CRISIL द्वारा वित्तीय जागरूकता बढ़ने के साथ बैंक क्रेडिट गतिविधि बढ़ने की संभावना वाले क्षेत्रों के छोटे उद्यमियों और स्वनियोजित (सेल्फ़ एम्प्लॉयड) व्यक्तियों पर ध्यान केंद्रित करेगी।

नए ग्राहक को आकर्षित करने के लिए कंपनी ब्रांड रिकॉल को बढ़ाने पर भी ध्यान केंद्रित करेगी।

फाइव स्टार बिज़नेस फायनेंस इस आईपीओ के बाद बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) दोनों पर सूचीबद्ध होगा।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख