Global Health Ltd is going to issue fresh equity shares worth Rs 500 crore: ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड जारी करेगी 500 करोड़ रुपए के फ्रेश इक्विटी शेयर

मेदांता ब्रांड के स्वत्वाधिकारी, ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड नवंबर में फ्रेश इक्विटी शेयर जारी करेगी।

Global Healths IPO to open on 3rd November

Global Health IPO: ग्लोबल हेल्थ आईपीओ, जो मेदांता ब्रांड के अंतर्गत अस्पतालों का संचालन और प्रबंधन करती है, 3 नवंबर को 500 करोड़ रुपए के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी करने जा रही है। इसके अलावा, कंपनी के प्रमोटर भी ऑफर-फॉर-सेल (OFS) के अंतर्गत 5.08 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री करेंगे। इश्यू का आकार 2,200 करोड़ रुपए का हो सकता है।

ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड का आईपीओ 3 नवंबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलने जा रहा है। रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (आरएचपी) द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार निवेशक इस आईपीओ में 7 नवंबर तक निवेश कर सकते हैं। मर्चेंट बैंकिंग सूत्रों के अनुसार आईपीओ का आकार लगभग 2,200 करोड़ रुपए का हो सकता है। इस आईपीओ के अंतर्गत 500 करोड़ रुपए के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे। इन फ्रेश इक्विटी शेयरों के अलावा, कंपनी के प्रमोटरों द्वारा ऑफर-फॉर-सेल (OFS) के अंतर्गत 5.08 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री की जाएगी।

इस समय ग्लोबल हेल्थ में अनंत इन्वेस्टमेंट्स की 25.64 प्रतिशत की और सचदेवा की 13.41 प्रतिशत हिस्सेदारी है। अनंत इंवेस्टमेंट्स, प्राइवेट इक्विटी प्रमुख कार्लाइल ग्रुप और सुनील सचदेवा (सुमन सचदेवा के साथ संयुक्त रूप से) ऑफर-फॉर-सेल के एक हिस्से के रूप में शेयरों की बिक्री करेंगे। इस आईपीओ के अंतर्गत मिलने वाले पैसों का उपयोग का कर्ज के भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: अस्थिर मार्केट स्टॉक: उच्च डिविडेंड वाले

ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड के बारे में

ग्लोबल हेल्थ को कार्लाइल ग्रुप और टेमासेक जैसे निजी इक्विटी निवेशकों का समर्थन प्राप्त है। गुरुग्राम, इंदौर, रांची और लखनऊ में इसके चार अस्पताल मेदांता ब्रांड के अंतर्गत चल रहे हैं। पटना में भी इनका एक अस्पताल बन रहा है और जल्दी ही नोएडा में दूसरा अस्पताल बनाने की भी योजना है। वित्तीय वर्ष 2025 तक नोएडा में बनने जा रहे अस्पताल के कुल 3,500 बेड के साथ काम आरंभ करने की उम्मीद की जा रही है। कंपनी अपने विकास की रणनीतियों के हिस्से के रूप में, मेडिकल टूरिज्म को भुनाने का भी इरादा रखती है। कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2022 में कुल 2,205.8 करोड़ रुपए की आय और 196.2 करोड़ रुपए का लाभ दर्ज किया है।

क्रिसिल की एक रिपोर्ट के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2021 और वित्त वर्ष 2026 के बीच भारतीय स्वास्थ्य सेवा उद्योग के 13-15 प्रतिशत सीएजीआर पोस्ट करने का अनुमान है, जो कि मांग में वृद्धि, मजबूत बुनियाद, बढ़ती अफोर्डिबिलिटी और आयुष्मान भारत योजना से प्रेरित है। इसके अलावा, देश में 10,000 जनसंख्या के लिए औसतन केवल 15 बिस्तर उपलब्ध हैं, जो 29 बिस्तरों के वौश्विक औसत से काफी कम है। क्रेडिट सुइस सिक्योरिटीज (इंडिया), कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी, जेफरीज इंडिया और जेएम फाइनेंशियल इस आईपीओ के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

यह भी पढ़ें: पेनी स्टॉक्स: 700% से अधिक रिटर्न

Global Health IPO: ग्लोबल हेल्थ आईपीओ, जो मेदांता ब्रांड के अंतर्गत अस्पतालों का संचालन और प्रबंधन करती है, 3 नवंबर को 500 करोड़ रुपए के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी करने जा रही है। इसके अलावा, कंपनी के प्रमोटर भी ऑफर-फॉर-सेल (OFS) के अंतर्गत 5.08 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री करेंगे। इश्यू का आकार 2,200 करोड़ रुपए का हो सकता है।

ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड का आईपीओ 3 नवंबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलने जा रहा है। रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (आरएचपी) द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार निवेशक इस आईपीओ में 7 नवंबर तक निवेश कर सकते हैं। मर्चेंट बैंकिंग सूत्रों के अनुसार आईपीओ का आकार लगभग 2,200 करोड़ रुपए का हो सकता है। इस आईपीओ के अंतर्गत 500 करोड़ रुपए के फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे। इन फ्रेश इक्विटी शेयरों के अलावा, कंपनी के प्रमोटरों द्वारा ऑफर-फॉर-सेल (OFS) के अंतर्गत 5.08 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री की जाएगी।

इस समय ग्लोबल हेल्थ में अनंत इन्वेस्टमेंट्स की 25.64 प्रतिशत की और सचदेवा की 13.41 प्रतिशत हिस्सेदारी है। अनंत इंवेस्टमेंट्स, प्राइवेट इक्विटी प्रमुख कार्लाइल ग्रुप और सुनील सचदेवा (सुमन सचदेवा के साथ संयुक्त रूप से) ऑफर-फॉर-सेल के एक हिस्से के रूप में शेयरों की बिक्री करेंगे। इस आईपीओ के अंतर्गत मिलने वाले पैसों का उपयोग का कर्ज के भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: अस्थिर मार्केट स्टॉक: उच्च डिविडेंड वाले

ग्लोबल हेल्थ लिमिटेड के बारे में

ग्लोबल हेल्थ को कार्लाइल ग्रुप और टेमासेक जैसे निजी इक्विटी निवेशकों का समर्थन प्राप्त है। गुरुग्राम, इंदौर, रांची और लखनऊ में इसके चार अस्पताल मेदांता ब्रांड के अंतर्गत चल रहे हैं। पटना में भी इनका एक अस्पताल बन रहा है और जल्दी ही नोएडा में दूसरा अस्पताल बनाने की भी योजना है। वित्तीय वर्ष 2025 तक नोएडा में बनने जा रहे अस्पताल के कुल 3,500 बेड के साथ काम आरंभ करने की उम्मीद की जा रही है। कंपनी अपने विकास की रणनीतियों के हिस्से के रूप में, मेडिकल टूरिज्म को भुनाने का भी इरादा रखती है। कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2022 में कुल 2,205.8 करोड़ रुपए की आय और 196.2 करोड़ रुपए का लाभ दर्ज किया है।

क्रिसिल की एक रिपोर्ट के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2021 और वित्त वर्ष 2026 के बीच भारतीय स्वास्थ्य सेवा उद्योग के 13-15 प्रतिशत सीएजीआर पोस्ट करने का अनुमान है, जो कि मांग में वृद्धि, मजबूत बुनियाद, बढ़ती अफोर्डिबिलिटी और आयुष्मान भारत योजना से प्रेरित है। इसके अलावा, देश में 10,000 जनसंख्या के लिए औसतन केवल 15 बिस्तर उपलब्ध हैं, जो 29 बिस्तरों के वौश्विक औसत से काफी कम है। क्रेडिट सुइस सिक्योरिटीज (इंडिया), कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी, जेफरीज इंडिया और जेएम फाइनेंशियल इस आईपीओ के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।

यह भी पढ़ें: पेनी स्टॉक्स: 700% से अधिक रिटर्न

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख