सही दानी संस्था कैसे पता करें: दान देने से पहले दानी संस्था के बारे में आप जरूर मालूम कर लें।

यदि आप हमेशा दानी संस्था के लिए दान करना चाहते हैं, लेकिन सही दानी संस्था आप नहीं चुन पाते हैं, तो यह लेख आपको इस काम में मदद करेगा।

दान करने के लिए सही दानी संस्था कैसे चुनें?

"दान हर लेन-देन में झटपट और सही करने की इच्छा है।" -इमैनुएल स्वीडनबॉर्ग.

यह उद्धरण दान के पूरे विचार को समाहित करता है। दान हमारे समाज की बेहतरी की दिशा में उठाया गया एक निस्वार्थ कदम है। दान मानवीय बने रहने का हमारा प्रयास और अवसर है। परोपकार करके आप किसी के जीवन में आशा की किरण लाने के लिए पैसे खर्च करते हैं।

लेकिन कभी-कभी, हो सकता है आपके दान के पैसे सही जगह पर इस्तेमाल नहीं किये जा सकते हों। जब आप स्पष्ट इरादों के साथ किसी दानी संस्था का समर्थन कर रहे हैं, तो आपके या आपकी दानी संस्था द्वारा जुटाए गए पैसे का उपयोग बेकार नहीं जाना चाहिए। कई संगठन दान के पैसे का उपयोग करने के लिए अनैतिक नजरिया अपनाते हैं। इसलिए, आपको जागरूक होना चाहिए और भ्रामक दानी संस्था और उनके कार्यक्रमों के जाल में नहीं फंसना चाहिए।

इससे पहले कि आप अपनी मेहनत की कमाई दान कर सकें, आपको सबसे बेहतर दानी संस्था खोजने की जरूरत होगी। ऐसे में जाहिर है, दान लेने वालों को आपके दान को कुशल और बुद्धिमानी से इस्तेमाल करने वाला होना चाहिए। अब सवाल है कि एक सही दानी संस्था को कैसे खोजा जाए? यहां दानी संस्था की कुछ विशेषताएं दी गई हैं जिसके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए: 

1. योजना और उद्देश्यों में समानता होनी चाहिए

दानी संस्था काफी सारा पैसा इकट्ठा करते हैं। इसका प्रमुख कारण दान लेने वालों का अज्ञात होना और जुटाए गए पैसों का इस्तेमाल नेक कामों में करना है। यदि उन्होंने इस पर काम करने की पूर्वनिर्धारित योजनाएं बनाई हैं, तो आपको दान के उद्देश्य के बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए। अक्सर ऐसी खबरें आती हैं कि दानी संस्था जिस विशेष मिशन के लिए पैसे जुटाती हैं, उसे पूरा करने की दिशा में काम नहीं करती हैं। सरकारी पोर्टलों का उपयोग करके पता कर सकते हैं कि जहां आप पैसे दान करने जा रहे हैं वह एनजीओ या दानी संस्था पंजीकृत और विश्वसनीय है या नहीं। इस काम में आपकी मदद www.thenationaltrust.gov.in या ngodarpan.gov.in जैसी वेबसाइटें कर सकती हैं। 

संबंधित:क्या आप जानते हैं दान देकर आप कर बचा सकते हैं?

2. पैसे के उपयोग को लेकर सवाल पूछना 

कोई भी दानी संस्था अपने काम या योजना के बारे में जो प्रचारित करती है, उस पर आंख बंद करके भरोसा नहीं करें। आयोजकों से पैसों के इस्तेमाल के संबंध में सबूत मांगिये। कई मामलों में ऐसी जानकारी मिली है कि कई धर्मार्थ संगठन दान के पैसे के अधिकतम हिस्से का उपयोग अपनी आंतरिक लागतों जैसे कर्मचारियों को वेतन, कार्यालय का किराया आदि के लिए करते हैं, जबकि परोपकारी उद्देश्य के लिए इसका एक छोटा सा हिस्सा ही उपयोग करते हैं। नैतिक दानी संस्था अपने "धन के उपयोग" की प्रामाणिकता को सच साबित करने के लिए अपने रिकॉर्ड साझा करने के लिए तैयार हो जाएगी। 

3.  सुनियोजित तरीके से पैसे जुटाना 

आमतौर पर आय का एक प्रतिशत पैसे जुटाने पर खर्च किया जाता है। इसलिए, कम से कम खर्च करके प्रभावी तरीके से पैसे जुटाने का काम करना चाहिए। ऐसा नहीं होने पर दान के रूप में जुटाए गए पैसों का एक बड़ा हिस्सा पैसे जुटाने से जुड़े कामों पर इस्तेमाल किया जाएगा, जिससे पैसे जुटाने के उद्देश्यों को पूरे होने में दिक्कत आएगी। 

संबंधित:महामारी के दौरान दान देने के 6 तरीके

4. गतिविधियों पर कड़ी निगरानी रखें

दानी संस्था हमेशा दावा कर सकती हैं कि वे पैसों का कुशलतापूर्वक उपयोग कर रहे हैं। लेकिन, एक अच्छी दानी संस्था वो होती है, जिसका निदेशक मंडल होता है, जो किए जाने वाले गतिविधियों पर नजर रखने के साथ साथ पैसों के सही इस्तेमाल का भरोसा दे सके। बोर्ड या ट्रस्ट में समाज के भरोसेमंद सदस्य होने चाहिए।

5. पैसों के प्रयोग में स्पष्टता

कोई भी भरोसेमंद दानी संस्था आमतौर पर पारदर्शी होती है। यह ना केवल प्रबंधन बल्कि आम जनता के लिए पैसों के उपयोग के मामाले में भी स्पष्ट रहती है। ऐसी संस्थाओं में कमाई और खर्च की उचित रिपोर्ट बनाई जाती है और नियमित लेखा परीक्षा भी की जाती है। ऐसी समर्पित वेबसाइटें हैं, जो आयकर अधिनियम की धारा 12ए (बी) के तहत तैयार किए गए इन धर्मार्थ संगठनों की बैलेंस शीट और ऑडिट रिपोर्ट की जांच करने में आपकी मदद कर सकती हैं।

किसी भी अच्छी दानी संस्था की तलाश के अलावा, आप सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त धर्मार्थ कारणों के लिए भी दान कर सकते हैं। सरकार द्वारा अनुमोदित इन कारणों के लिए किए गए धर्मार्थ कार्य करके आप आयकर अधिनियम की धारा 80जी के तहत 50 से 100% कर लाभ पा सकते हैं।

जब भी सही दानी संस्था की तलाश करते हैं, तो ऊपर बताए गए संकेत सही संस्था तलाशने में आपकी मदद करेंगे। हमें उम्मीद है कि यह लेख आपको आगे बढ़कर दूसरों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए निस्वार्थ कार्य करने में मदद करेगा।

संवादपत्र

संबंधित लेख