गिरती जी.डी.पी. को आपको प्रभावित करने से रोकने के लिए निवेश के टिप्स

मंदी हमेशा के लिए नहीं रहती है। तेजी के चरण के लिए प्रतीक्षा करें, और सावधान रहें कि प्रतीक्षा करते समय आप अपने पोर्टफोलियो से शेयरों को बेधड़क निकालते न जाएं।

गिरती जी.डी.पी. को आपको प्रभावित करने से रोकने के लिए निवेश के टिप्स

आपने अब तक यह खबर सुनी होगी: क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत के विकास के अनुमान को 2020 और 2021 के प्रत्येक वर्ष के लिए लगभग एक प्रतिशत कम कर दिया है - 5.4% और 5.8% तक घटा दिया है। लेकिन ये कम अनुमान भी 2019-20 की तीसरी तिमाही में देखी गई 4.5% की वृद्धि से अधिक है। मूडीज ने हालिया पी.एम.आई. (क्रय प्रबंधक सूचकांक) डेटा के लिए इसे जिम्मेदार ठहराया, जिसने सकारात्मक रुझान का संकेत दिया।

हालांकि, प्रोत्साहित करने वाले पी.एम.आई. डेटा के बावजूद - जिसने जनवरी से धीमी गति के बदलाव को प्रतिबिंबित किया - मूडीज ने महसूस किया कि मौजूदा वृद्धि को पहले की वृद्धि दर से मेल खाने के लिए, दो चीजें घटित होनी चाहिए : (ए) घरेलू मांग - ग्रामीण और शहरी दोनों बढ़ना चाहिए, और (बी) बैंकों को उधार देने के लिए तैयार होना चाहिए।

इस परिदृश्य को देखते हुए, विशेष रूप से जब एक वैश्विक रेटिंग एजेंसी भारतीय आर्थिक बदलाव को लेकर अनिश्चित थी, निवेशक आश्चर्यचकित हो सकते हैं कि क्या पूंजी बाजार में निवेश करने का कोई फायदा है। इसका उत्तर देने से पहले, आइए पहले देखें कि पी.एम.आई. के आंकड़ों ने क्या संकेत दिया।

सकारात्मक रुझान

आई.एच.एस. मार्किट, जो पी.एम.आई. डेटा को एकत्र करता है, उसने भारतीय कंपनियों के सर्वेक्षण पर पाया कि 2019-20 की तीसरी तिमाही के 'कम शुरुआत' के बावजूद, निर्माताओं ने दिसंबर और जनवरी में तीन महत्वपूर्ण रुझान देखे: (ए) बढ़ती बिक्री; (बी) बढ़ती मांग; और (सी) काफी अधिक निर्यात आदेश (दो साल से अधिक के लिए)।

वास्तव में, जनवरी में विनिर्माण पी.एम.आई. आठ वर्षों में अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया, जबकि इस क्षेत्र ने "अगस्त 2012 के बाद से रोजगार में सबसे तेज वृद्धि" दिखाई। इस सबका असर सेवा क्षेत्र में महसूस किया गया, जिसने भी विकास करना शुरू कर दिया। आई.एच.एस. मार्किट के एक प्रमुख अर्थशास्त्री पॉलीन्ना डी लीमा ने कहा कि "यह नौकरी करने वालों के लिए अच्छी खबर है"।

अधिक नौकरियों के प्रचलन का स्वाभाविक रूप से मतलब है अधिक पैसा, वस्तुओं और सेवाओं की अधिक मांग और अर्थव्यवस्था के लिए बड़ी प्रेरणा; संक्षेप में, कई तिमाहियों के संकेत बताते हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था एक पलटाव के उभार में हो सकती है।

लेकिन निवेशक के लिए इन सब का क्या मतलब है?

निवेश करना है या नहीं

निवेश एक सतत प्रक्रिया है; यदि आप शेयर बाजार में निवेश से लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको लंबे समय तक निवेशित रहना चाहिए - भले ही मंदी हो और जी.डी.पी. के आंकड़े फिसल रहे हो।

मंदी आमतौर पर चक्रीय होते हैं, और इसका एक अर्थव्यवस्था के लिए हर दशक में एक बार आना सामान्य बात है; जब ऐसा होता है, पूंजी बाजार स्वाभाविक रूप से दब जाती हैं और स्टॉक की कीमतें कम होती हैं। लेकिन इसके उज्ज्वल पक्ष को देखें: मंदी के दौरान, आपको सस्ते स्टॉक मिलते हैं। बस इसे अपने पसंदीदा मॉल में स्टॉक-क्लीयरेंस बिक्री के रूप में सोचें; केवल यहाँ, आपको 'छूट' पर शेयर मिलते हैं।

यदि आपके पास शेयर बाजारों के व्यापक ज्ञान की कमी है, तो म्यूचुअल फंड के माध्यम से निवेश करें। यदि समय एक बाधा है, तो हमेशा एस.आई.पी. मार्ग अपनाएं ।

बस याद रखें कि मंदी की अवधि के दौरान इक्विटी सबसे अच्छा विकल्प है। उदाहरण के लिए, लोग टूथपेस्ट का उपयोग करना बंद नहीं करते हैं या बिस्कुट खाना क्योंकि समय कठिन चल रहा है। यह एफ.एम.सी.जी. कंपनियों के शेयरों को आकर्षक बनाता है, हालांकि कंपनी की बुनियादी बातों और प्रतियोगिता को भी तौला जाना चाहिए।

निवेश क्षेत्र

तो, अपनी ज़रूरतों पर ध्यान केंद्रित करते हुए , खुदरा निवेशकों को आर्थिक मंदी की वर्तमान अवधि में अपने निवेश को कैसे बचाना चाहिए? आइए हम कुछ क्षेत्रों का पता लगाएं:

  • एफ.डी. / लिक्विड फंड

यदि आपकी जोखिम की भूख कम है, या आप तत्काल भविष्य में कुछ वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक सख्त समय अनुसूची का पालन कर रहे हैं - कुछ महीने से लेकर दो साल तक- तो आप एक तरल फंड या बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (एफ.डी.) के बारे में सोच सकते हैं। इन कम जोखिम वाले और स्थिर इंस्ट्रूमेंट को आपकी जोखिम प्रोफ़ाइल से मेल खाना चाहिए।

लिक्विड फंड्स ऐसे डेब्ट म्यूचुअल फंड्स होते हैं जो मुख्य रूप से अल्प-कालिक मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स जैसे ट्रेजरी बिल, सरकारी सिक्योरिटीज, कमर्शियल पेपर और टर्म डिपॉजिट में निवेश करते हैं। परिपक्वता अवधि कम होती है और इसे तेजी से रिडीम किया जा सकता है।

कितना तेज? खैर, आपको बता दें कि आप हमेशा से विदेश में छुट्टियां मनाना चाहते होंगे , लेकिन अब तक आप इसका खर्च नहीं उठा पाते होंगे। इस मामले में, आप अपने निवेश योग्य पैसे को कुछ महीनों के लिए लिक्विड फंड में रख सकते हैं और स्कूल की छुट्टी होने पर इस गर्मी में अपने विदेशी अवकाश की योजना बना सकते हैं।

आप तरल, ऋण और एफ.डी. के संयोजन में निवेश करने पर भी विचार कर सकते हैं; अन्य विकल्प छह महीने तक की अवधि के लिए अल्पकालिक फंड और लचीले बैंक डिपॉजिट हो सकते हैं, और थोड़े समय के लिए अल्पकालिक म्यूचुअल फंड भी । म्यूचुअल फंड्स आपके निवेश में विविधतापूर्ण बनाए रखते हैं।

  • पी 2 पी उधार

यदि आप थोड़े अधिक साहसी हैं और बैंक डिपॉजिट से प्राप्त रिटर्न को लेकर कम उत्साहित हैं, तो आप अपने कुछ अतिरिक्त फंड्स को पीयर-टू-पीयर (पी 2 पी) लेंडिंग प्लेटफॉर्म पर निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। यहां रिटर्न काफी अधिक होगा।

हां, एक दूसरा पक्ष भी है - पी 2 पी प्लेटफॉर्म पर दिए गए ऋण प्रकृति में असुरक्षित होते हैं, जो आपके द्वारा उधार दिए गए पैसे को जोखिम में डालते हैं। हालांकि, उधार देने वाले प्लेटफ़ॉर्म आमतौर पर कड़े जोखिम आंकलन का पालन करते हैं और उधारकर्ता और ऋणदाता के बीच सभी लेनदेन पर नज़र रखते हैं। आपके फंड देने से पहले, उधारकर्ता की विश्वसनीयता का आंकलन उनके जोखिम प्रोफाइल के आधार पर किया जाता है।

  • मिड-कैप

पिछले दो वर्षों में कई मिड-कैप शेयरों में तेज सुधार देखा गया है, हालांकि मौजूदा स्थितियां इस स्थिति में सुधार को एक कठिन प्रस्ताव बना सकती हैं। साथ ही, यह निवेशकों के लिए एक संचय चरण है; मिड-कैप शेयरों को छोड़ने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि कुछ मिड-कैप स्टॉक कुछ क्षेत्र के लीडर होते हैं।

इसका मतलब यह है कि दीर्घकालिक क्षितिज वाले निवेशक मिड-कैप क्षेत्रों में छोटी मात्रा में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। हालांकि, यह व्यवस्थित रूप से किया जाना चाहिए। मिड-कैप म्यूचुअल फंड में एस.आई.पी. के जरिए निवेश ,इसका एक तरीका हो सकता है।

इसके अलावा, चयनात्मक रहें और सभी पहलुओं पर विचार करें। उदाहरण के लिए, ट्रम्प-मोदी की बैठक ने बाजार में कोई हलचल नहीं की क्योंकि कोई प्रमुख सौदे पर हस्ताक्षर नहीं किए गए थे; वास्तव में, व्यापक बी.एस.ई. का मिडकैप इंडेक्स कारोबार के दिन (25 फरवरी) बंद होने के समय 68 अंक गिरा, जबकि स्मॉल कैप सूचकांक 65 अंक गिर गया।

हालांकि, बैंकिंग स्टॉक (जैसे फेडरल बैंक) और निर्यात-उन्मुख फार्मा कंपनियां अच्छी तरह काम कर रही हैं; हम इन पर बाद में चर्चा करेंगे।

यह बिंदु दोहराते हैं, एफ.एम.सी.जी. स्टॉक आमतौर पर एक अच्छी खरीद है, और आप मिड कैप क्षेत्र में कुछ ऐसे सौदे कर सकते हैं, जैसे कि फ्यूचर कंज्यूमर और इमामी। इन्हे देखें । फ्यूचर रिटेल जैसो में कुछ अन्य आकर्षण हैं - इस पर भी बाद में चर्चा की जाएगी।

  • रिटेल स्टॉक

संगठित क्षेत्र की अधिकांश रिटेल कंपनियां संभली हुई हैं और इनमें अच्छी तरह से काम चल रहा है। इसने विकास में मदद की है और रिटेल शेयरों को एक आकर्षक विकल्प बनाया है। लेकिन अत्यधिक मूल्यांकन से सावधान रहें।

इसके अलावा, कंपनी की बुनियादी बातों का अध्ययन करें। उदाहरण के लिए, फ्यूचर रिटेल में वृद्धि के लिए एक नई रणनीति होती है जिसमें लाभहीन स्टोर को बंद करना और अन्य लागत-बचत उपायों को शामिल करना है। एक कदम जो फ्यूचर रिटेल की और कॉलबेरशन को सूचित करता है,वह अमेज़ॅन को एक छोटी हिस्सेदारी बेचना है।

  • बैंक

बैंकिंग क्षेत्र एक और क्षेत्र है जो ध्यान देने लायक है, विशेष रूप से कॉर्पोरेट बैंकिंग। इसके तीन कारण हैं: (ए) आमतौर पर उनका मूल्यांकन कम होता है; (बी) उनके एन.पी.ए. घट रहे हैं; और (सी) व्यापार के अवसरों में वृद्धि हो रही है। यह कहना ठीक नहीं होगा कि एच.डी.एफ.सी. और कोटक महिंद्रा जैसे रिटेल-फेसिंग बैंक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं; वास्तव में, वे अस्थिरता के बावजूद पनपने की संभावना रखते हैं।

फेडरल बैंक एक अच्छा उदाहरण है। फंडामेंटल और वैल्यूएशन में वाजिब सुधार के साथ मिडकैप बैंक ने अपनी रिटेल बुक में सकारात्मक वृद्धि दिखाई है, जिसका मुख्य कारण कम जोखिम वाले हाउसिंग और स्वर्ण ऋण हैं।

  • निर्यात क्षेत्र

यह खंड आई.टी. और फार्मास्यूटिकल्स जैसे विविध उद्योगों में अपनी साक फैलाए हुए हैं। हालांकि, पंटर इस क्षेत्र को घरेलू मंदी को मात देने का सबसे अच्छा तरीका मानते हैं। उनका तर्क है कि निर्यात-उन्मुख कंपनियों को मंदी से होने वाले रुपये के डेप्रिसिएशन से लाभ होगा।

इसके अलावा, उनका मुख्य बाजार, यू.एस., अब काफी स्थिर है। इस संबंध में, फार्मा कंपनियों के बारे में कहने के लिए एक बिंदु है; ट्रम्प की नीतियों के कारण हाल के दिनों में अमेरिका में उनके निर्यात ने एक उच्छल देखा है, लेकिन एक छोटे से घरेलू नेटवर्क, जैसे कि सिप्ला का अच्छा प्रदर्शन करना जारी है। आखिरकार, मंदी के कारण लोग दवाएं लेना बंद नहीं करेंगे ।

इसी समय, निवेशकों को एक बार फिर चयनात्मक होने और अत्यधिक मूल्यवान शेयरों से सावधान रहने की सलाह दी जाती है।

अंतिम शब्द

अगर हमें इतिहास से कुछ भी सीखना है, तो यह है: मंदी के दौर के तुरंत बाद आम तौर पर बाजार बेहतरीन लाभ देता है। इसलिए, निवेश करने की प्रक्रिया को रोकने का कोई कारण नहीं है। वास्तव में,आप इस कठिन समय का उपयोग अपने परिसंपत्ति आवंटन को संशोधित करके एक शानदार पोर्टफोलियो बनाने में कर सकते हैं।

हालांकि एक चेतावनी: प्रदर्शन की समीक्षा करते समय, किसी शेयर ने कैसा प्रदर्शन किया है,इसका गलत तरीके से आंकलन करना आसान है। इसलिए, जो एक उचित प्रदर्शन हो सकता था, वह संक्षेप में खराब हो सकता है क्योंकि निवेशक खराब प्रदर्शनकर्ताओं को बाहर निकालने ’पर तुला है।

इस पर नज़र रखो । और तेज़ी के चरण की प्रतीक्षा करें, क्योंकि मंदी लंबे समय तक नहीं रहती है।

अस्वीकरण: यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

 

COVID-19

Most Shared