कमोडिटी फंड्स: प्रकार, लाभ, जोखिम, सबसे अच्‍छा प्रदर्शन करने वाले कमोडिटी फंड| Investment in commodities - Direct and through MFs

वह सब कुछ जानें, जो आपको कमोडिटी फंड्स में निवेश करने के लिए जानना चाहिए।

कमोडिटी फंड्स में निवेश: फायदों, जोखिमों और सबसे अच्‍छा प्रदर्शन करने वाले फंड्स के बारे में जानें

सदियों से, पूरी दुनिया में कमोडिटीज़ में व्‍यापार (ट्रेडिंग) हो रहा है। यह सब एक वायदा अनुबंध के साथ कृषि उपज में जोखिम की बचाव-व्‍यवस्‍था (हेजिंग) के साथ शुरू हुआ। बाद में, लोगों ने डेरिवेटिव्स की मदद से कमोडिटी बाजार में सट्टा लगाना शुरू कर दिया। 

इक्विटी म्युचुअल फंड्स में, कोई भी व्‍यक्ति कमोडिटी फंड्स की मदद से बहुत सारी कमोडिटी में एक्सपोज़र ले सकता है, जिससे एक्सपोज़र के जोखिम को कम किया जा सकता है। कमोडिटी फंड मुख्य रूप से ऐसी ही कमोडिटी में निवेश करते हैं।

ध्यान रखें, कि व्यक्तिगत वस्तुओं की कीमत में किसी भी परिवर्तन का फंड के मूल्य पर सीधा प्रभाव पड़ता है। उदाहरण के लिए, एक गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) आपको सोने की कीमत में उतार-चढ़ाव का जोखिम देता है।

कमोडिटी फंड्स के प्रकार

  • नेचुरल रिसोर्स फंड: ये फंड्स मुख्‍य रूप से ऐसी कंपनियों में निवेश करते हैं, जो सीधे तौर पर प्राकृतिक संसाधनों के संपर्क में रहती हैं, जैसे तेल, गोल्‍ड, सिल्‍वर और नवीकरणीय ऊर्जा कंपनियां जैसे सौर और पवन ऊर्जा
  • बेसिक ट्रू कमोडिटी फंड्स: इन फंड्स का मेटल्‍स यानि कि फिज़िकल एसेट्स पर बड़ा एक्सपोज़र होता है । 
  • फ्‍यूचर फंड्स: फ्यूचर फंड का फंड मैनेजर इन कमोडिटीज़ की फ्यूचर ट्रेडिंग पर दांव लगाता है। ये कमोडिटी फंड निवेश में सबसे जोखिम वाले एसेट्स हैं।
  • कॉम्बिनेशन फंड्स: ये उपर्युक्त कमोडिटी फ़ंड्स की संयुक्‍त रणनीति का पालन करते हैं। यह संतुलित द्ष्टिकोण रखते हैं, क्‍योंकि यह फ्‍यूचर फंड्स (उच्च जोखिम) और बेसिक ट्रू फंड्स (कम जोखिम) में विविधता लाता है।
  • इंडेक्‍स फंड्स: ये निष्क्रिय रूप से प्रबंधित किये जाने वाले फंड्स हैं, जहां व्‍यक्ति बेंचमार्क के आधार पर मानक रूप से प्रचलित दरों पर सीधे कमोडिटी को खरीदता है

कमोडिटी फंड्स में निवेश के लाभ

  • विविधता: कुलमिलाकर निवेश पोर्टफोलियो में कमोडिटी को शामिल करना इक्विटी और बॉन्ड के साथ विविधता के लाभ देता है।
  • मुद्रास्फीति से बचाव (इन्फ्लेशन हेज): कमोडिटी वे भौतिक संपत्तियां हैं, जिनकी कीमत देश में संपूर्ण मुद्रास्फीति के साथ आमतौर पर बढ़ती हैं।
  • प्रोफ़ेशनल मार्गदर्शन: इन फंड्स को फाइनेंशियल प्रोफ़ेशनल्‍स प्रबंधित करते हैं, और इसलिए रिटेल निवेशकों की तुलना में लाभ होने की बेहतर संभावना होती है।
  • लचीलापन: कमोडिटी फंड कार्यकाल-अज्ञेयवादी (टेन्‍योर-ऐग्नास्टिक) होते हैं; यानी निवेशक इन फंड्स में अपनी अल्‍प अवधि की आवश्‍यकताओं के साथ-साथ दीर्घावधि की आवश्‍यकताओं के लिए भी निवेश कर सकता है।

·अस्थिरता से सुरक्षा: इक्विटी मार्केट की तुलना में कमोडिटी जैसे गोल्‍ड और सिल्‍वर को कम अस्थिर विकल्प माना जाता है। जब भी इक्विटी मार्केट में करेक्‍शन(बदलाव) होता है, तो गोल्‍ड और सिल्‍वर सभी परिसंपत्ति वर्गों से बेहतर प्रदर्शन करते हैं। इसलिए, यह बाजार की अस्थिरता के खिलाफ एक अच्छा बचाव साबित होता है।

कमोडिटी से जुड़े हुए जोखिम

  • वैश्विक मांग और आपूर्ति: कमोडिटी का वैश्विक स्तर पर स्वतंत्र रूप से व्यापार किया जाता है, और इन कमोडिटी की कीमत दुनिया में मांग और आपूर्ति द्वारा तय होती हैं। अगर आयात करने वाले देश में भू-राजनीतिक समस्‍या है, तो जोखिम अधिक होता है, इस प्रकार मांग-आपूर्ति आर्थिक बल में असंतुलन होगा और कीमत में भारी कमी आएगी या कीमतें बढ़ेंगी।
  • कीमत में उतार-चढ़ाव: नवीकरणीय ऊर्जा जैसी कम ज्ञात एसेट्स की दरों में अधिक उतार-चढ़ाव होता है। ऐसा कमोडिटी के लिए बाजार में कीमत प्रकटीकरण की कमी के कारण है, जिससे इन कमोडिटी के लिए तर्कहीन मूल्य निर्धारण और उच्च अस्थिरता और कम तरलता हो सकती है।

कमोडिटी में निवेश सीधे निवेश/म्‍युचुअल फंड्स से अलग क्‍यों हैं?

आइए, हम निवेश के रूप में गोल्‍ड का उदाहरण लेते हैं। भारतीय, दशकों या सदियों से सोने के सक्रिय उपभोक्ता रहे हैं। हालांकि, चोरी और मेकिंग चार्ज के जोखिम को देखते हुए, गोल्‍ड अब भौतिक रूप से कम पसंद किया जाता है। इसका विकल्प गोल्ड ETF जैसे कमोडिटी फंड हैं, जो आपको इलेक्ट्रॉनिक रूप से सोने की कीमत के समान एक्सपोज़र प्राप्त करने की अनुमति देते हैं।

कोई भी व्‍यक्ति कम से कम 1 ग्राम सोने के निवेश के साथ गोल्ड ETF में निवेश कर सकता है, इसलिए मध्यम आय वर्ग के लोग भी अब ज्यादा पैसा खर्च किए बिना सोने में नियमित निवेश कर सकते हैं।

सबसे अच्‍छा प्रदर्शन करने वाले कमोडिटी फंड्स

सबसे अच्‍छा प्रदर्शन करने वाले कमोडिटी फंड्स

संबंधित: क्या आपको मुद्रास्फीति के दौरान सोने का सहारा लेना चाहिए?

कमोडिटी फंड में कौन निवेश कर सकता है?

कमोडिटी की कीमतें रातोंरात बदल सकती हैं, और बाजार अस्थिर हो सकता है। ये फंड निश्चित रिटर्न की गारंटी नहीं देते हैं; वास्तविक बाजार कीमतों के आधार पर रिटर्न में उतार-चढ़ाव हो सकता है। इसलिए, कमोडिटी फंड लंबी अवधि के निवेश हराइज़न और उच्च जोखिम लेने वाले निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त हैं। संभावित निवेशकों को फंड के ज्ञान के साथ-साथ अपनी निवेश रणनीति से लैस होना चाहिए।

 

संबंधित लेख