लार्ज-कैप या मिड-कैप |मंदी से निपटने के रहस्य

मंदी के रुझानों ने मिडकैप को कड़ी टक्कर दी है, लेकिन विश्लेषकों ने 2020 में उनमे बदलाव के दांव लगाए हैं ।

लार्ज-कैप या मिड-कैप |मंदी से निपटने के रहस्य

एक बड़े बाजार पूंजीकरण का दावा करने वाली कंपनियों में आमतौर पर कुछ विशेषताएं होती हैं: अच्छी न्यूनतम रेखाएं, एक स्थापित मार्केटिंग नेटवर्क,  ब्रांड रिकॉल का ऊँचा स्तर, उपभोक्ता का विश्वास, अच्छी बिक्री और एक मजबूत प्रबंधन टीम - मूल रूप से आर्थिक मंदी से बचने के लिए आवश्यक कारक है। ये कंपनियां अपने शेयरधारकों को नियमित लाभांश भी प्रदान करती हैं।

ऐसी कंपनियों में निवेश करने वाले लार्ज-कैप फंड को निवेश के लिए सुरक्षित माना जाता है, खासकर कम जोखिम क्षमता वाले और दीर्घकालिक क्षितिज वाले निवेशकों के बीच। इसके अलावा, वे एफ.आई.आई. के बीच भी लोकप्रिय हैं। इसके विपरीत, स्मॉल-कैप और मिड-कैप फंड आमतौर पर उन कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं जिनमें वृद्धि की क्षमता होती है, लेकिन वित्तीय शक्ति की कमी होती है या वे अपने लार्ज-कैप समकक्षों की तुलना में कम स्थापित होते हैं।

परिणामस्वरूप, हालांकि ये फंड उच्च जोखिम क्षमता वाले लोगों के लिए उच्च रिटर्न लाते हैं,पर रिटर्न तब नकारात्मक हो सकता है जब स्थितियां इतनी स्थिर न हों - जैसे कि अभी। इन लक्षणों को देखते हुए, और यह भी कि मंदी ने पिछले कुछ वर्षों में अर्थव्यवस्था को कितना धीमा कर दिया है, आप कैसे तय करेंगे कि 2020 में किस रास्ते को चुनना है? लार्ज-कैप, या स्मॉल- और मिड-कैप... जो जल्दी रिटर्न प्रदान करें?

नए रुझान

इस पर कोई निर्णय लेने से पहले, विचार करने योग्य एक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि हाल के दिनों में इनका प्रदर्शन कैसा रहा है। (बेशक, एक जोखिम प्रोफ़ाइल और समय क्षितिज भी मायने रखता है, लेकिन वे व्यक्तिगत कारक हैं)।

पिछले दो वर्षों में, तीनों - स्मॉल-कैप, मिड-कैप और लार्ज-कैप- ने ऐसे लक्षणों को दिखाया है जो उनके प्रतीकात्मक बन गए हैं। जैसे ही भारत की आर्थिक वृद्धि धीमी हुई, बी.एस.ई. के स्मॉल-कैप और मिड-कैप सूचकांक क्रमशः 24.7% और 13.7% गिर गए, जबकि बी.एस.ई. के लार्ज कैप इंडेक्स में 10.2% की वृद्धि हुई। जब इस अवधि के दौरान सेंसेक्स और निफ्टी ने क्रमशः 19% और 12.2% की बढ़त हासिल करके उन्होंने मंदी को मात दी।

2019 की विशेष रूप से बात करें तो, सेंसेक्स में 14.38% और निफ्टी में 12% की वृद्धि हुई, जबकि 2019-20 की तीसरी तिमाही में देखी गई राष्ट्रीय विकास दर 4.5%, छह साल के निचले स्तर पर फिसल चुकी थी। हालांकि, बी.एस.ई. का मिडकैप इंडेक्स 3 फीसदी और स्मॉल-कैप इंडेक्स करीब 7 फीसदी तक लुढ़क गया था। वास्तव में, पिछले पांच वर्षों में मिडकैप में 11% की दर से गिरावट देखी गई है। स्मॉल-कैप के लिए, उनके और लार्ज-कैप के बीच मार्केट पूंजीकरण का अंतर दो-दशक के उच्च स्तर पर है। अब हर कोई उन पर दांव लगाने से हिचक रहा है।

इसलिए, हम पाते हैं कि जब समग्र अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजरी, प्रमुख सूचकांक रैली करने में कामयाब रहे और लार्ज-कैप ने भी अपनी कमान संभाली, जबकि मिडकैप और स्मॉलकैप में तेजी रही। फिर भी, विशेषज्ञों का मानना ​​है, ये मिड-कैप और स्मॉल-कैप अभी भी 2020 में बेहतर प्रदर्शन दिखा सकते हैं, क्योंकि हाल के दिनों में इनके कीमत में तेज गिरावट को सुधार के रूप में देखा जाता है।

उदाहरण के लिए, कोटक सिक्योरिटीज के डेटा यह दिखाता है कि निफ्टी मिड-कैप और निफ्टी स्मॉल-कैप के सापेक्ष मूल्यांकन 2014 के अनुसार शुरुआती गिरावट में सुधार हुआ है । उनकी सलाह क्या है ? मिडकैप और स्मॉल कैप शेयरों को खरीदने का समय आ गया है।

यह सलाह 2020-21 के लिए वार्षिक बजट पारित होने से पहले आयी थी । कोटक सिक्योरिटीज का रुख मार्च तक नहीं बदला था, जब कोरोनोवायरस के खतरे ने देश को जकड़ लिया था; पिछले दो वर्षों में निफ्टी -50 इंडेक्स में ख़राब प्रदर्शन कर रहे मिड और स्मॉल-कैप के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद थी।

इसके अलावा, कोटक सिक्योरिटीज ने कहा कि एस.आई.पी. प्रवाह एफ.आई.आई. निवेशों की निकासी को रोकेगा और निफ्टी-50 को 10,500-11,000 के बीच कहीं रखेगा।

उम्मीद की किरण

ध्यान रखें कि मिडकैप और स्मॉल-कैप द्वारा प्रस्तुत किये गए पूर्णतः बेरंग तस्वीर के बावजूद , इनमें से कुछ स्टॉक असाधारण रूप से अच्छा कर रहे हैं। उदाहरण के लिए,2018 और 2019 में बी.एस.ई. के प्रत्येक तीन मिडकैप इंडेक्स शेयरों में, दो ने नकारात्मक रिटर्न दिए । इस हलचल के बीच, 12 शेयरों ने सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ इन दो वर्षों में 20 -90% तक का चढ़ाव देखा ।

इस कैलेंडर वर्ष में यह झुकाव जारी है जिसमे लगभग एक दर्जन स्टॉक फरवरी-अंत तक लगभग 45% की रैली कर रहे हैं। यहाँ पर प्रमुख बातें दी गई है:

2018-19 में हनीवेल ऑटोमेशन में लगभग 42% की चढ़ाव आई,हालांकि इस साल पहले दो महीनों में इनका प्रदर्शन बहुत बुरा नहीं था - यह लगभग 27% ऊपर ही था।

डिवीस लैबोरेट्रीज ने जनवरी 2018 और दिसंबर 2019 के बीच 68% की रैली की, और इस साल फरवरी-अंत तक यह 18% ऊपर था। और अब, यह देखते हुए कि यह सक्रिय दवा सामग्री (एपीआई) खंड में है, चीन में कोरोना वायरस का प्रकोप ,कंपनी और इसके स्टॉक के लिए एक बढ़ावा स्वरुप हो सकता है।

ए.यू. स्मॉल फाइनेंस बैंक ने पिछले दो वर्षों में 45% की रैली देखी, जिसमें कुछ 22% का रिटर्न मिला।

टोरेंट फार्मास्युटिकल्स, मुथूट फाइनेंस, और आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल ने इस साल पहले दो महीनों में 17 से 21% की बढ़त के साथ अपने मार्गदर्शक से तालमेल बनाए रखा है; 2018-19 में उनकी रैली 30-70% थी।

ग्लेक्सोस्मिथक्लाइन, एल.एंड.टी. इन्फोटेक, गोदरेज प्रॉपर्टीज, इन्फो एज, और बर्जर जैसे अन्य ,पिछले दो वर्षों में 91% तक बढ़ गए, जबकि फरवरी-अंत तक रिटर्न दोहरे अंकों में रहा है।

सलाहनीय मिडकैप शेयर

इसलिए, कौन से मिडकैप शेयर हैं जो विश्लेषकों के अनुसार इस साल अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं? सुझाव विविध थे, लेकिन यहां कुछ संकेतक दिए गए हैं:

वैल्यू रिसर्च स्टॉक सलाहकार ने अमेरिकी निवेशक पीटर लिंच द्वारा लोकप्रिय जीएआरपी (उचित मूल्य पर वृद्धि) रणनीति का उपयोग करते हुए, दो शेयरों की पहचान की है: मणप्पुरम फाइनेंस और टोरेंट पावर। इन दोनों ने 2019 की अंतिम तिमाही में 20% से अधिक की प्रति शेयर आय (ईपीएस)में वृद्धि दर्ज की है, और पिछले पांच वर्षों में भी वार्षिक आधार पर, जबकि वर्तमान में 15 से कम के पीई पर कारोबार कर रहा है।

दूसरी ओर, कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज और एंटीक स्टॉक ब्रोकिंग ने अपने बीच 27 मिडकैप शेयरों की सलाह दी है। बजाज कंज्यूमर, सी.ई.एस.सी., फेडरल बैंक और टाटा पावर सहित कोटक ने 15 को चूना है; जबकि एंटीक स्टॉक ब्रोकिंग 12 का समर्थन कर रहा है, जिसमें चोला इन्वेस्टमेंट, हनीवेल ऑटोमेशन और केएनआर कंस्ट्रक्शन शामिल हैं।

आखरी पंक्तियाँ

आपको न केवल उन लक्षणों से परिचित होना चाहिए जो बाजार कैप के तीन समूहों में आने वाली कंपनियों को चिन्हित करने के लिए माना जाता है, बल्कि यह भी ध्यान रखें कि ये केवल व्यापक आधार हैं। मिसाल के तौर पर, लार्ज-कैप फंड्स की तमाम चर्चाओं में मंदी की मार में भी अच्छा प्रदर्शन करना ,उन निवेशकों के लिए आदर्श होना जो स्थापित कंपनियों के गुणवत्ता वाले शेयरों को पसंद करते हैं,पर फिर भी ये शेयर खराब प्रदर्शन कर सकते है- स्मॉल और मिड-कैप की तुलना में - जब बाजार में तेज़ी हो तब भी।

इसी तरह, 2020 को स्मॉल और मिड कैप कंपनियों के वर्ष के रूप में माने जाने के बावजूद, इनको अभी भी कुछ वातावरण की आवश्यकता है, जैसे कि कम ब्याज दर प्रणाली और एक मजबूत अर्थव्यवस्था,कोई भी उत्कृष्ट प्रदर्शन दिखाने के लिए। यह सच है कि अर्थव्यवस्था ने उस छोर की ओर बढ़ना शुरू कर दिया है, लेकिन यह अभी भी वहां नहीं पहुंची है।

इसलिए, इसकी शुरुआत के लिए, व्यक्तिगत रूप से शेयरों को देखना सबसे अच्छा है, और बाजार पूंजीकरण की श्रेणी में नहीं - बड़े, मध्य, या छोटे - जिससे वे संबंधित हैं। आदर्श रूप से, आपको निवेश करते समय एक अधिकृत वित्तीय सलाहकार के साथ बैठना चाहिए।

अस्वीकरण: यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।




संबंधित लेख