Why it's the right time for women to invest in the stock market?

यदि आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहती हैं, तो जो एक महिला को काम आएगा,वो उनके पास स्वाभाविक रूप से मौजूद होता है: धैर्य, विवेक, अनुशासन, और एक शांत स्वभाव

महिलाओं के लिए शेयर बाजार में निवेश करने का यह सही समय क्यों है

साल के पहले छह महीनों की समाप्ति के बाद ,शेयर बाजार अब मजबूत स्थिति में नजर आ रहा है , जिसमे बेंचमार्क सेंसेक्स और निफ्टी50 अपने मार्च के न्यूनतम स्तर की तुलना में जुलाई तक 50% के करीब वापस उछल गया है। यह प्रवृत्ति मिड-कैप और स्मॉल-कैप सूचकांकों के साथ भी दिखाई दे रही थी, जबकि वैश्विक इक्विटी बाजार इसी तरह अपने 52 सप्ताह के उच्च स्तर के आस-पास मंडरा रहे थे-या यहां तक कि सभी समय के उच्च स्तर पर।

क्या ये सभी कारक एक महिला के निवेश करने के लिए इसे 'सुरक्षित समय' बनाते हैं? बात यह है, मौजूदा आर्थिक परिदृश्य में, अपने आप में शेयर बाजार में सुधार ही केवल निवेश के लिए सही कारण नहीं हो सकता है; इसके अन्य कारण भी हैं- चाहे कोई पुरुष हो या महिला - जिस पर हम बाद में चर्चा करेंगे।

विचित्र उत्साह

मार्च-जुलाई की अवधि में खुदरा निवेशकों ने जो उत्साह दिखाया है, वित्तीय विशेषज्ञ इसके कारणों को बिल्कुल समझ नहीं पाए हैं , खासकर इसलिए क्यूंकि लॉकडाउन के कारण ,व्यवसायों और लोगों ,दोनों की आय प्रभावित हुई है । वे कमजोर फंडामेंटल वाले शेयरों के भीड़ से चकित है-उदाहरण के लिए, रूची सोया, जिसने पिछले साल दिवालियापन दायर किया था, अपने शेयर की कीमत 8000% से अधिक बढ़ती देखा ।

इतना ही नहीं, एक निवेशक ने सेंसेक्स के उतार-चढ़ाव में अंतर्दृष्टि के लिए वित्तीय सलाहकार फर्म वैल्यू रिसर्च के सीईओ धीरेंद्र कुमार को लिखा क्योंकि इससे वह परेशान थे : यह 26,000 था जब भारत में केवल 500 कोविड-19 मामले थे, लेकिन यह लगभग 38,000 तक बढ़ गया ,जब मामले बढ़कर 12 लाख हो गए ।

सवाल यह है कि शेयर बाजार में इस तरह का नाटकीय सुधार क्यों हो रहा हैं, बावजूद इसके कि अर्थशास्त्री ,लगभग एक सदी पहले ग्रेट डिप्रेशन के बाद से सबसे खराब आर्थिक संकुचन की भविष्यवाणी कर रहे हैं ?

अनजान विशेषज्ञ

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के निवर्तमान अध्यक्ष अजय त्यागी ने इकनॉमिक टाइम्स को बताया कि वह ये सभी से ' उलझन ' में पड़ गए हैं, जबकि मीडिया रिपोर्टों में आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास के हवाले से कहा गया है कि उन्होंने ' वित्तीय बाजारों और वास्तविक क्षेत्र की गतिविधि के कुछ क्षेत्रों केआंदोलनों के बीच एक कटाव ' देखा है ।

लेकिन सबसे सूक्ष्मतम चेतावनी भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अर्थशास्त्रियों की ओर से आई, जिन्होंने एक नोट में "तर्कहीन उत्साह" को अभिव्यक्त किया: "अच्छा बाजार एक अच्छी अर्थव्यवस्था को नहीं दर्शाता है ।

इसलिए जब पहले उल्लेख किये गए निवेशक ने मूल्य अनुसंधान के कुमार से पूछा कि जमीनी वास्तविकता और सेंसेक्स के बीच कब एक सह-संबंध की उम्मीद की जा सकती है, तो उन्होंने स्वीकार किया कि उनके पास इसका कोई जवाब नहीं था, और तर्क दिया कि अन्य लोग भी इस मामले में उतने ही अनजान हैं ।

उन्होंने कहा, "बाजार में हर कोई मौजूदा परिदृश्य के बारे में अनजान है कि आर्थिक स्थितियों और मार्केट के व्यवहार के बीच ऐसी विसंगति क्यों है । "यह अंदाज़ा लगाना बहुत मुश्किल है कि कब बाजार में सुधार दिखेगा -या कभी कोई सुधार होगा भी कि नहीं "

संभावित स्पष्टीकरण

कुछ तिमाहियों में, आज जो कुछ हो रहा है, और 2008 मंदी के बाद पूंजी बाजारों में सुधार के बीच तुलना की गई है। हालांकि, बाजार गतिविधि को वापस उठने में 17 महीने लग गए थे; तथाकथित बाजार में सुधार को इस बार बस कुछ ही हफ्ते ही लगे ।

तो इसका कारण क्या हो सकता है? विश्लेषकों का मानना है कि पांच कारक है जो इसके ट्रिगर साबित हो सकते हैं : संपूर्ण आशावाद, दर में कटौती, नए निवेशक, तकनीकी कंपनियों और टेलकोस जैसी कंपनियों की स्थिरता, और वैक्सीन का विकास । आइए उनमें से प्रत्येक की जांच करें:

  • समग्र आशावाद: सर्वेक्षणों से पता चला है कि कई लोगों को यह समय वित्तीय संकट से ज्यादा एक स्वास्थ्य संकट के रूप में दिखाई देता है, और इसलिए विश्वास करते है कि वैश्विक सुधार अब ज्यादा दूर नहीं है । केंद्रीय बैंक 2008 में आये संकट की तुलना में इससे निपटने के लिए निश्चित रूप से अधिक तैयार लग रहे हो । इसके अलावा, हाल ही में पीएमआई डेटा ने सुधार के लक्षण दिखाए हैं।
  • दरों में कटौती: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) सहित दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों ने तरलता का संचार करने और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए कई मौद्रिक निर्णय लिए हैं ।
  • नए निवेशक: कई लोगों का मानना है कि लॉकडाउन ने लोगों को पहली बार बाजारों को समझने के लिए पर्याप्त खाली समय दिया है । एंजेल ब्रोकिंग के सीईओ विनय अग्रवाल ने मनीकंट्रोल को बताया कि "कामकाजी आबादी के एक बड़े हिस्से को वित्तीय बाजारों के बारे में जानने और निवेश करने के लिए कुछ अतिरिक्त समय मिला है... इसलिए, हम विशेष रूप से डिस्काउंट ब्रोकरों के साथ डीमैट खातों को खोलने में वृद्धि देख रहे हैं। (शायद इसी से रूची सोय रैली की व्याख्या हो सकती थी ) ।
  • स्थिर कंपनियां: बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन या रिलायंस जियो और भारती एयरटेल जैसी टेल्कोस कंपनियां महामारी से बिल्कुल प्रभावित नहीं हुई हैं और वास्तव में, नए घर से काम करने की प्रणाली से लाभान्वित हुई हैं । माना जा रहा है कि इस स्थिरता से निवेश करने वाली जनता के बीच आत्मविश्वास का संचार हुआ है ।
  • वैक्सीन का विकास: भारत और विदेशों में कोविड-19 वैक्सीन परीक्षणों के बारे में सकारात्मक परिणामों की रिपोर्ट ने भी घबराये लोगों के मन को शांत करने में मदद की है ।

सही समय

इस पृष्ठभूमि में ही किसी को इस मूल प्रश्न का पता लगाना चाहिए: क्या यह निवेश करने का एक सुरक्षित समय है? लेकिन पहले, एक बात: यदि आप कोई सवाल पूछ रहे हैं, तो इससे यह पता चलता है कि आपमें निवेश को लेकर दृढ़ विश्वास की कमी है, और आप निवेश में जोखिम लेने के लिए परहेज कर रहे हैं ।

लोग अक्सर यह सवाल पूछते हैं जब वे जिस शेयर पर नजर रख रहे हो ,उसके बारे में आश्वस्त नहीं हैं, और मूल रूप से शेयर की कीमत में उतार चढ़ाव से डगमगा रहे हैं: यदि कीमतें नीचे जाती है, तो वे कंपनी को असफल के रूप में देखते हैं, लेकिन अगर उसमे वृद्धि होती है ,तो वे उसके शेयर ले लेते हैं।

दूसरे शब्दों में, वे भूल जाते हैं कि शेयर बाजार में उतार चढ़ाव आते रहेगा - इससे कोई बच नहीं पाएगा। हालांकि, उन्हें एक ऐसा शेयर भी नहीं उठाना चाहिए जो बस अभी नीचे आया है, और फिर इसके तुरंत रैली शुरू करने की उम्मीद करें । उस तरह की मार्किट टाइमिंग से कुछ चमत्कार हो सकता है ।

इसलिए,संतुष्ट न होने या जोखिम से बचने के बजाय, इस पर विचार करें: महामारी के कारण अधिकांश नुकसान की भरपाई करने के बाद भी, सेंसेक्स जून में काफी कम में बंद हुआ जबकि निफ्टी 500 सूचकांक में लगभग 70% स्टॉक गिर गए थे ; क्या होगा अगर यही सबसे कम है और आप अभी भी इस पर होल्ड किये हुए हैं? आप अंत में एक अवसर खो दोगे ।

जैसा कि वैल्यू रिसर्च के कुमार कहते हैं, यह निवेश करने का एक अच्छा समय है बशर्ते कि आप कोविड-19 व्यवधान से बेफिक्र हो और आपके पास 5-10 साल का निवेश क्षितिज भी हो। वे कहते हैं, "यह पूरा संकट या दहशत एक गंभीर चेतवानी है कि हम कभी भविष्यवाणी नहीं कर सकते कि आगे क्या होगा " "लेकिन हम निश्चित रूप से नियंत्रित कर सकते है कि हमारे अपने हाथों में क्या है-समय क्षितिज, अनुशासन, और स्वभाव"|

महिलाएं और निवेश

यदि आप एक महिला होने के कारण निवेश करने में संकोच कर रहे हैं, तो यह याद रखें: आप उसी गुणवत्ता के साथ निवेश करते हैं जो कुमार के अनुसार, वर्तमान स्थिति में एक निवेशक के रूप में महत्वपूर्ण है - अनुशासन और स्वभाव।

यह एक सिद्ध तथ्य है कि जब पैसे की बात आती है तो महिलाएं आंतरिक रूप से पुरुषों की तुलना में अधिक विवेकपूर्ण होती हैं; वे प्राकृतिक बचतकर्ता हैं, और वह निवेश कर रहे हैं । वे आभूषण खरीदते हैं, हां, लेकिन वह उसमे भी निवेश ही कर रही हैं।

महिलाओं को सामान्य रूप से परिवार और दोस्तों के साथ समय में भी निवेश करने के लिए जाना जाता है, और इसमें धैर्य चाहिए होता है ; यह एक फायदा है - बाजारों में एक सफल निवेशक बनने के लिए आवश्यक विशेषता।

यदि आप शेयर बाजार में निवेश करने के लिए तैयार हैं, तो जो काम आएगा ,वह एक औरत में स्वाभाविक रूप से रहता है: धैर्य, विवेक, अनुशासन, और एक शांत स्वभाव । बेशक, आपको सलाह दी जाती है कि आप पेशेवर सलाह लें।

निवेश करने के लिए स्टॉक का चयन करते समय, मजबूत फंडामेंटल वाली कंपनियों का चयन करने का ध्यान रखें, यानी ऐसी कंपनियां जो कोविड -19 व्यवधान से दूसरों की तुलना में कम प्रभावित हुई हैं।

ऐसा नहीं है कि सभी शेयरों में गिरावट आई है; अप्रैल-जून तिमाही की आय में कई व्यवसायों को बिना प्रभावित हुए दिखाया गया है, और वे एफएमसीजी, कृषि, फार्मा, आईटी और ई-कॉमर्स जैसे विविध क्षेत्रों से हैं।

अंतिम शब्द

मार्च के बाद से हमने जो अस्थिरता देखी है, उसके बावजूद मौजूदा संकट लंबी अवधि में कुछ खरीद के अवसर भी पेश करेगा । हालांकि, उन कंपनियों के स्टॉक खरीदने में होशियारी है जो समय की कसौटी पर खरे उतरेंगी । यहां धैर्य और अनुशासन अहम भूमिका निभाएगा । कुमार की सलाह का पालन करें: शांत रहें, व्यवस्थित रहें, और सुनिश्चित करें कि आप अपने दीर्घकालिक धन को इक्विटी में निवेश कर रहे हैं।

यदि आप वास्तव में शेयर बाजार में प्रवेश करते हैं, तो आपको किसी कंपनी के बुनियादी सिद्धांतों का विश्लेषण करने के तरीके पर अपने ज्ञान में भी सुधार करना चाहिए; इस तरह के समय में, जब कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता है कि बाजार कैसे व्यवहार करेगा, तो इसके बारे में जान लेना बेहतर होगा बजाय इसके लगातार देखने कि दूसरे क्या कर रहे हैं और उनका अनुसरण करने के।

यदि आप किसी व्यवसाय के मूल्य और उसके वर्तमान शेयर मूल्य का आकलन करना शुरू करते हैं, तो आप अधिक सूचित निर्णय लेने में सक्षम होंगे। जैसा कि कुमार कहते हैं, मार्किट को टाइम करने की कोशिश न करें "क्योंकि आप किसी न किसी बिंदु पर बाजार के उच्च स्तर पर निवेश कर देंगे"। 

संवादपत्र

संबंधित लेख