निवेश निर्णय लेते समय टर्नओवर रेश्यो और उनका महत्व

टर्नओवर रेश्यो क्या हैं और वे किसी कंपनी की वित्तीय स्थिति को कैसे प्रदर्शित करता है और स्टॉक वृद्धि को कैसे प्रभावित करता है?

निवेश निर्णय लेते समय टर्नओवर रेश्यो और उनका महत्व

रेश्यो (अनुपात) दो राशियों के बीच का गणितीय संबंध है। और रेश्यो विश्लेषण वित्तीय रिपोर्टिंग का एक महत्वपूर्ण भाग है। बिजनेस में, वार्षिक टर्नओवर की एक तुलना, जो रेश्यो के रूप में प्रदर्शित होता है, किसी कंपनी के बिजनेस परफॉर्मेंस को सूचित करता है। लेकिन ऐसे रेश्यो ऐसे नहीं होते जिन्हें वित्तीय प्रबंधक निदेशक बोर्ड के सामने बस यूं ही प्रस्तुत कर दे। वे ऐसे निवेशकों के लिए लोकप्रिय रिफरेंस पॉइंट होते हैं, जो कंपनी के परफॉर्मेंस का आकलन करने के लिए प्रमुख बिजनेस रेश्यो पर नजर बनाए रखते हैं।

टर्नओवर रेश्यो क्या होते हैं?

जैसा कि नाम से पता चलता है, टर्नओवर रेश्यो मुख्य वित्तीय संख्याओं और कंपनी के टर्नओवर की एक तुलना है। इन संख्याओं में कंपनी की परिसंपत्तियां और देयताएं शामिल होती हैं, जबकि रेश्यो यह दर्शाता है कि कंपनी इसे कितनी तेजी (धीमी गति से) से अपने सेल्स के संदर्भ में प्रतिस्थापित करती है। इन रेश्यो से निवेश और कैश प्रबंधन पर लाभ अर्जित करने की कंपनी की क्षमता का पता चलता है। एक निवेशक के रूप में, आप किसी स्टॉक विशेष पर अपने पोजिशन का निर्धारण करते समय उन्हें देख सकते हैं। लेकिन निवेश का निर्णय लेना शुरू करने से पहले, कुछ महत्वपूर्ण टर्नओवर रेश्यो हैं जिनपर आपको विचार करने की जरूरत होती है।

  • प्राप्य अकाउंट्स : डेटर टर्नओवर रेश्यो भी कहा जाता है, यह रेश्यो दर्शाता है कि कंपनी क्रेडिट पर किए गए सेल्स के लिए कितनी जल्दी धनराशि की वसूली करती है। उच्च अकाउंट रिसीवेबल टर्नओवर रेश्यो उतनी बार को दर्शाता है जितनी बार कंपनी सेल्स अवधि में अपना रिसीवेबल्स की उगाही करती है। यह कंपनी की क्रेडिट अवधि, भुगतान अवधि, बिलिंग और रिकवरी की तत्परता इत्यादि द्वारा प्रभावित होता है। इसकी गणना क्रेडिट सेल्स और औसत रिसीवेबल्स से की तुलना करके की जाती है।
  • इंवेंट्री: यह रेश्यो बताता है कि कंपनी कितनी जल्दी अपने इंवेंट्री को सेल्स में बदलती है। बेची गई वस्तुओं की लागत और औसत इंवेंट्री की तुलना करके इसकी गणना की जाती है। आदर्श इंवेंट्री रेश्यो अलग-अलग इंडस्ट्री का अलग-अलग होता है। इसलिए, इसकी तुलना उद्योग मानकों, कंपनी के लक्षित रेश्यो और पिछले परफॉर्मेंस के साथ की जानी चाहिए।
  • स्थायी परिसंपत्तियां: स्थायी परिसंपत्तियों पर निर्भर कंपनियां जैसे भारी निर्माण प्रतिष्ठान फिक्स्ड असेट टर्नओवर रेश्यो का उपयोग करता है ताकि इस बात का आकलन किया जा सके कि उनकी स्थायी परिसंपत्तियों का कितना अच्छा इस्तेमाल किया जा रहा है। एक बेहतर फिक्स्ड असेट टर्नओवर रेश्यो वाली कंपनी अपने डिस्पोजल पर सीमित स्थायी परिसंपत्तियों के साथ हाई टर्नओवर रेश्यो दर्शाएगी। कुल परिसंपत्ति टर्नओवर रेश्यो इसका एक परिवर्तन है, और कुल सेल्स के साथ कुल परिसंपत्ति की तुलना करता है। 
  • देय अकाउंट्स : अकाउंट्स रिसीवेबल रेश्यो का उल्टा, कम अकाउंट्स पेएबल रेश्यो इस बात को दर्शाता है कि कंपनी लंबी अवधि तक क्रेडिटर भुगतानों को होल्ड कर सकती है। इससे पता चलता है कि कंपनी लंबे समय तक कैश को होल्ड कर सकती है।
  • नियोजित पूंजी: इसका मूल्यांकन करके, आप इस बात का पता लगा सकते हैं कि कंपनी नियोजित पूंजी की दी गई धनराशि के लिए सेल्स के अर्थ में कितना अच्छा प्रदर्शन करती है। यदि कंपनी सीमित पूंजिगत परिव्यय (कैपिटल आउटले) पर शानदार राजस्व अर्जित कर रही है, तो इससे अतिरिक्त निवेश के लिए जगह और भविष्य की वृद्धि की गुंजाइश का पता चलता है। इसके अलावा, दूसरे टर्नओवर-चालित रेश्यो जैसे इक्विटी पर रिटर्न (औसत आय/औसत स्टेकहोल्डर इक्विटी) और प्राइस-टु-सेल्स रेश्यो (कीमत प्रति शेयर/वार्षिक सेल्स प्रति शेयर) निवेशकों के लिए उपयोगी हैं।

इससे जुड़ी बातें: इक्विटी म्यूचुअल फंड का चयन कैसे करें

टर्नओवर रेश्यो और स्टॉक परफॉर्मेंस

बेहतर टर्नओवर रेश्यो एक दक्षतापूर्वक चल रही कंपनी का एक अच्छा इंडिकेटर होता है। आप अपनी शॉर्टलिस्टेड कंपनियों के टर्नओवर रेश्यो को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं और उद्योग एवं समकक्ष प्रदर्शनों के साथ उनकी तुलना कर सकते हैं। आइए हम कुछ उदाहरण देखें।

रेडिको खैतान का फिक्स्ड टर्नओवर रेश्यो 2016-2020 में एक सतत बढ़त दिखाता है, जिसमें 0.98 से 1.36 की वृद्धि हुई है। इस अवधि के दौरान, प्रति शेयर इसकी आमदनी में तीन गुना की वृद्धि हुई, जबकि डिविडेंड और परिचालन लाभ प्रति शेयर लगभग दो गुना बढ़ा। इसके बाद, बढ़े हुए टर्नओवर रेश्यो कंपनी की वृद्धि में दिखाई देते हैं। लिकर और फर्टिलाइजर में डील करने काले रेडिको खैतान में कीमत और ग्रोथ की वृद्धि का बेहतरीन स्कोप है, जो इसे एक भरोसेमंद निवेश विकल्प बनाता है।

याद रखें कि आपके निवेश निर्णय के आधार के लिए रेश्यो को देखना पर्याप्त नहीं होता। उदाहरण के लिए हिंदुस्तान युनिलीवर को ही लें। इसके इंवेंट्री टर्नओवर रेश्यो में पिछले पांच वर्षों (मार्च 2020 के अंत तक) में धीरे-धीरे 13.25 से 4.83 तक की गिरावट आई। फिक्स्ड असेट रेश्यो में भी इस अवधि के दौरान 6.21 से 4.94 तक की गिरावट आई। हम इस बात की अपेक्षा कर सकते हैं कि एक स्थापित एफएमसीजी मेजर इतना मजबूत होगा कि यह कम टर्नओवर रेश्यो का सामना कर सकता है। इसके बावजूद, बढ़ता टर्नओवर रेश्यो किसी विकासशील कंपनी की एक महत्वपूर्ण विशेषता होती है।

इसके विपरीत, गिरते हुए स्टॉक में निवेश करना उपयुक्त नहीं होगा यदि यह अपने रेश्यो को अच्छा बनाए रखता है तब भी। उदाहरण के लिए, यदि किसी कंपनी की बिक्री और उत्पादन में आधे की कमी आती है, तो बेहतर टर्नओवर रेश्यो बनाए रखा जा सकता है, लेकिन केवल गणितीय अर्थ में। बिजनेस दबाव की ज्यादातर स्थितियों में गिरते हुए टर्नओवर रेश्यो और गिरते हुए स्टॉक साथ होते हैं। हाल के वर्षों में पीसी ज्वेलर्स के स्टॉक का उदाहरण देखें। कंपनी के रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2016 और 2020 के बीच ईपीएस में 22 रुपए से 2 रुपए तक की गिरावट आई, और परिचालन लाभ घटकर एक-चौथाई हो गया। इसका फिक्स्ड असेट रेश्यो और इंवेट्री रेश्यो में भी क्रमश: 2.5 की गिरावट आई और लगातार दो बार आई। 

इससे जुड़ी बातें: क्या होता है जब आप जिस स्टॉक में अपना पैसा निवेश करते हैं वह डीलिस्टेड हो जाता है? [प्रीमियम]

अंतिम शब्द

स्टॉक मार्केट में ऐसे कई उदाहरण है जहां कंपनी में वृद्धि होने के बाद टर्नओवर रेश्यो में वृद्धि हुई है और निवेश पर उच्च लाभ हुआ है। बिल्कुल, ऑपरेशन का स्लेक एक महत्वपूर्ण कारक है जब कंपनियों और उद्योगों के रेश्यो की तुलना की जाए। बड़े प्राधिकरण अपने टर्नओवर रेश्यो में कमी होने के बावजूद अच्छी वित्तीय स्थिति बनाए रख सकती है। इसके अलावा, अलग-अलग उद्योगों के कुछ निश्चित रेश्यो की प्रयोज्यनीयता अलग-अलग होती है। किसी सेवा प्रदाता के स्टॉक पर फिक्स्ड असेट रेश्यो का सीमित प्रभाव होगा, लेकिन इसका अकाउंट्स रिसीवेबल रेश्यो अहम होगा। 

यदि आप किसी कंपनी का प्रभावशाली टर्नओवर रेश्यो पाते हैं, तो इसका अर्थ है कंपनी सीमित पूंजी और स्थायी परिसंपत्तियों के साथ अधिक सेल्स जेनरेट कर रही है। यह अधिक स्टॉक्स को रोटेट कर सकती है, जैसा कि इसके उच्च इंवेंट्री टर्नओवर रेश्यो से पता चलता है। ऐसे पैरामीटर्स कंपनियों को अपने ऑपरेशन को सफलतापूर्वक चलाने के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इसलिए, लगातार बढ़िया और बढ़ते टर्नओवर रेश्यो प्रोत्साहक इंडिकेटर होते हैं। ऐसी कंपनियों में निवेश करना सुरक्षित दांव हो सकता है क्योंकि वे अधिक स्केलेबल हैं और अपनी वित्तीय में होने वाली तात्कालिक गिरावट को संभालने के लिए अच्छे तरीके से तैयार होते हैं। अंत में, ये 6 सामान्य स्टॉक ट्रेडिंग गलतियां देखें जिनसे आपको बचना चाहिए

संबंधित लेख