पते का प्रमाण नहीं, आधार में पता बदलने में कोई परेशानी नहीं

पता के दस्तावेजी प्रमाण के अभाव में आधार विवरण में पता बदलने के बारे में अधिक जानें

कोई सबूत नहीं? आधार में पते में परिवर्तन के लिए कोई समस्या नहीं है

अब आप अपने पते के विवरण को आधार में अपडेट कर सकते हैं, भले ही आपके पास कोई पते का  दस्तावेजी प्रमाण न हो। यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने घोषणा की कि वर्तमान पते को आधार में अपडेट किया जा सकता है,  व्यक्ति के स्वयं के नाम के पते के दस्तावेजी प्रमाण के बिना भी। ऐसा करने के लिए, आधार धारक को एक पता सत्यापनकर्ता की सहायता लेनी होगी और एक पता सत्यापन पत्र के लिए एक ऑनलाइन अनुरोध भेजना होगा।

यह विकल्प उन लोगों के लिए मददगार हो सकता है, जिन्होंने हाल ही में एक नए पते पर स्थानांतरित हुए है और यू.आई.डी.ए.आई. रिकॉर्ड्स में अपना नया पता अपडेट करना चाहते हैं।

एक पता सत्यापनकर्ता परिवार का सदस्य, मित्र, रिश्तेदार, या मकान मालिक आदि  हो सकता है जो आपको सबूत के रूप में अपने पते का उपयोग करने देने के लिए तैयार है। निवासी और पते के सत्यापनकर्ता दोनों के पास पंजीकृत मोबाइल नंबर होना चाहिए, जो वन-टाइम पासवर्ड प्राप्त करेंगे |

संबंधित: के.वाई.सी. दस्तावेजों के दुरुपयोग को कैसे रोकें

प्रक्रिया

चरण 1: यू.आई.डी.ए.आई. की वेबसाइट https://uidai.gov.in/ में, "मेरा आधार" पर जाएं।

चरण 2: "पता सत्यापन पत्र के लिए अनुरोध" पर क्लिक करें।

चरण 3: यह आपको “एड्रेस वैलिडेशन लेटर के लिए अनुरोध”पेज पर पुनः प्रेषित करेगा। आपको 12 अंकों का आधार नंबर या 16 अंकों की वर्चुअल आई.डी., कैप्चा विवरण भरना होगा और  'ओ.टी.पी. भेजे ” बटन पर क्लिक करना होगा।

चरण 4: अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भेजे गए 6 अंकों / 8 अंकों वाले ओ.टी.पी. को दर्ज करें और फिर "लॉगिन" करें।

चरण 5: आगे, आपको "सत्यापनकर्ता विवरण" भरना होगा।

चरण 6: "पता सत्यापनकर्ता की आधार संख्या" दर्ज करने के बाद, सत्यापनकर्ता को अपने पंजीकृत ग्राहक नंबर पर एक लिंक के साथ एक एस.एम.एस. प्राप्त होगा।

सत्यापनकर्ता को अद्यतन के लिए सहमति देनी होगी, जिसके बाद सत्यापनकर्ता को सत्यापन के लिए ओ.टी.पी. के साथ एक दूसरा एस.एम.एस. प्राप्त होगा।

चरण 7: सत्यापन के बाद, आपको एस.एम.एस. के माध्यम से एक सेवा अनुरोध नंबर (एस.आर.एन.) प्राप्त होगा। उसके बाद, आपको एस.आर.एन. का उपयोग करके लॉग इन करना होगा और फिर पते का पूर्वावलोकन करना होगा, स्थानीय भाषा को संपादित करना होगा (यदि आवश्यक हो) और "सबमिट करें" पर क्लिक करें।

" गुप्त कोड " के साथ एक "एड्रेस वैलिडेशन लेटर" पोस्ट के माध्यम से सत्यापनकर्ता के पते पर भेजा जाता है। आपको एक पत्र भी मिलेगा।

चरण 8: अब यू.आई.डी.ए.आई. वेबसाइट में, आपको “पता अपडेट करने के लिए आगे बढे ” पर क्लिक करना होगा, आधार के साथ लॉग इन करना होगा और “गुप्त कोड के माध्यम से पता अपडेट करें ” के विकल्प का चयन करना होगा। यहां आप "गुप्त कोड" दर्ज करें और "सबमिट करें" पर क्लिक करें।

एड्रेस वैलिडेशन लेटर का क्या महत्व है?

एड्रेस वैलिडेशन लेटर वह पत्र होता है जो एड्रेस सत्यापनकर्ता के पते पर भेजा जाता है। इस पत्र को पते के सत्यापनकर्ता को अनुरोध करने के बाद भेजा जाता है, जब वह अनुरोधकर्ता द्वारा उसके पते के उपयोग के लिए सहमति देता है| पत्र में एक गुप्त कोड होता है जिसे सत्यापनकर्ता के सत्यापन के लिए भेजा जाता है |

संबंधित: आपको अपने आधार और पैन कार्ड को लिंक करने के बारे में क्या जानना चाहिए?

इस अनुरोध को कैसे ट्रैक करें?

पता सत्यापन अनुरोध की स्थिति को ट्रैक करने के लिए अस.आर.एन. (सेवा अनुरोध संख्या) का उपयोग कर सकते हैं। इस लिंक के माध्यम से ट्रैकिंग की जा सकती है।

आधार सत्यापन पत्र कब प्राप्त किया जाता है?

अनुरोध को बढ़ाने के बाद, एक एस.आर.एन. उत्पन्न होता है। अनुरोध की तारीख से तीस दिनों के भीतर आधार सत्यापन पत्र प्राप्त होता है। आवेदक को भारत पोस्ट ए.डब्ल्यू.बी. नंबर एस.एम.एस. के माध्यम से प्राप्त होगा जिसका उपयोग भारत पोस्ट वेबसाइट पर जाकर आधार सत्यापन पत्र को ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है । यह क्विज़ खेलेंऔर यदि आप इन सवालों पर 8/10 स्कोर कर सकते हैं, तो आप एक आधार कार्ड समर्थक हैं।

संबंधित लेख

Most Shared