3 निवेश के विकल्प जिन्हें भारत में गैरकानूनी माना जाता है | Products or investments considered illegal in India

अवैध निवेश विकल्पों और भारत में ज़्यादा रिटर्न के साथ सुरक्षित निवेश चुनने के तरीकों के बारे में जानें.

3 निवेश के विकल्प जिन्हें भारत में गैरकानूनी माना जाता है

निवेश को आपकी स्थिति सुधारने, फाइनेंशियल फ्रीडम पक्का करने और एक सुरक्षित जीवन जीने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है. हालांकि, भारत में कई तरह के निवेश विकल्प हैं और सही विकल्प चुनना थोड़ा मुश्किल हो सकता है. जब आप कोई निवेश विकल्प चुनते हैं, तो यह जांचना आम बात है कि यह विकल्प आपके लंबी अवधि और छोटी अवधि के लक्ष्यों, जोखिम को झेलने की क्षमता और समय सीमा को पूरा करता है या नहीं. 

निवेश करते समय एक अन्य पहलू जिस पर आपको गौर करना चाहिए, वह यह है कि जिस निवेश में आपकी दिलचस्पी हैं वह पूरी तरह से कानूनी है भी या नहीं. जानें कि गैरकानूनी निवेश योजनाएं कौन सी हैं और भारत में ज़्यादा रिटर्न वाले सुरक्षित निवेश कैसे चुनें. 

वे निवेश गतिविधियाँ जिन्हें भारत में गैरकानूनी माना जाता है

1. इनसाइडर ट्रेडिंग: इनसाइडर ट्रेडिंग को देश में एक गैरकानूनी निवेश स्कीम माना जाता है. जैसा कि नाम से पता चलता है, जब कोई व्यक्ति अपने काम के ज़रिए किसी लिस्टेड कंपनी के बारे में गोपनीय जानकारी हासिल करके उसके आधार पर बाज़ार में ट्रेड करता है तो उसे इनसाइडर ट्रेडिंग का कहते हैं. यह जानकारी आम जनता के लिए उपलब्ध नहीं होती है और इसलिए उन लोगों को इसका गलत फायदा मिलता है जिनके पास यह जानकारी हो सकती है. इस तरह से शेयरों में निवेश करना आपको कानूनी संकट में डाल सकता है. इसे नैतिक रूप से भी अनुचित माना जाता है.

2. इक्विटी क्राउडफंडिंग: क्राउडफंडिंग एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से किसी बिज़नस या वेंचर के लिए धन जुटाया जाता है. क्राउडफंडिंग के साथ, कई निवेशक एक साथ थोड़ी-थोड़ी राशि का निवेश करके एक बड़ी राशि जुटाने के लिए एक साथ आते हैं. क्राउडफंडिंग आमतौर पर इंटरनेट के माध्यम से होती है. हालांकि क्राउडफंडिंग कई तरह से लोकप्रिय है, जैसे कि डोनेशन क्राउडफंडिंग, और पीयर-टू-पीयर क्राउडफंडिंग, लेकिन इक्विटी क्राउडफंडिंग को गैरकानूनी माना जाता है. 

सेबी द्वारा डिजिटल इक्विटी क्राउडफंडिंग को अनधिकृत करार दिया गया है. जो लोग इक्विटी क्राउडफंडिंग में कंट्रीब्यूट करते हैं उनके लिए ये फंड एक निवेश का ज़रिया बनता है. क्राउडफंडिंग के दूसरे तरीकों में, पैसे कंट्रीब्यूट करने वाला व्यक्ति फंड डोनेट करता है और उसे एक बेनेफैक्टर माना जाता है. हालांकि, इक्विटी क्राउडफंडिंग में, पैसे कंट्रीब्यूट करने वाला व्यक्ति एक बेनेफैक्टर नहीं बल्कि एक इन्वेस्टर होता है. किसी कंपनी में निवेश के बदले निवेशकों को इक्विटी शेयर दिए जाते हैं. बहुत सी कंपनियां इक्विटी क्राउडफंडिंग का सहारा लेती हैं क्योंकि बिज़नस लोन लेने के बजाय यह ज़्यादा आसान है. बिज़नस लोन के लिए योग्य होने के लिए कोलैटरल देने जैसी सख्त शर्तों का सामना करना पड़ सकता है. इसके अलावा, क्रेडिट स्कोर के आधार पर ब्याज दर भी ज़्यादा हो सकती है.  

3. बिटकॉइन: रिपोर्टों के अनुसार, भारत क्रिप्टोकरेंसी इन्वेस्टमेंट के खिलाफ एक नया कानून प्रस्तावित करेगा. कानून के तहत, बिटकॉइन खरीदना – या क्रिप्टो एसेट्स को ट्रांसफर करना, इशू करना, होल्ड करना या रखना – आपराधिक गतिविधि माना जाएगा. हालांकि बिल अभी तक लागू नहीं हुआ है, लेकिन मौजूदा सरकार द्वारा इसे जल्द ही लागू किए जाने की संभावना है. अगर यह पारित हो जाता है, तो निवेशकों के पास अपने निवेश को निकालने के लिए छह महीने का समय होगा, अगर वो उस समय तक ऐसा नहीं करते तो उन्हें दंडित किया जाएगा. अगर कानून पारित हो जाता है, तो भारत क्रिप्टोकरेंसी इन्वेस्टमेंट को पूरी तरह से आपराधिक गतिविधि घोषित करने वाला पहला देश बन जाएगा. 

इससे मिलती-जुलती बातें: पोंज़ी स्कीम को पहचानने और इससे सुरक्षित रहने के 5 तरीके

किसी निवेश विकल्प में निवेश करने से पहले उसकी प्रामाणिकता की जांच कैसे करें

आप जो निवेश चुनते हैं वे आपको ज़्यादा रिटर्न, टैक्स सेविंग्स और सुरक्षा का वादा दें, इसके लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करना ज़रूरी है:

  • किसी भरोसेमंद फाइनेंशियल सलाहकार से सलाह लें: भले ही आप नए निवेशक हों या अनुभवी, फाइनेंशियल सलाहकार आपके फाइनेंशियलप्लान को और भी बेहतर बना सकता है. फाइनेंशियल सलाहकार एक पेशेवर व्यक्ति होता है जिसके पास इस क्षेत्र में प्रासंगिक अनुभव और विशेषज्ञता होती है जिससे आपको सही निवेश चुनने में मदद मिल सकती है. वे ज़्यादा ब्याज के साथ सुरक्षित निवेश विकल्प चुनने में आपको मदद कर सकते हैं. 
  • सरकार द्वारा समर्थित निवेश विकल्प चुनें: सरकार द्वारा समर्थित बचत योजनाएं भारत में सुरक्षित निवेश विकल्प हो सकती हैं. पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ), नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस), आदि दो सुरक्षित निवेश विकल्प हैं जो न केवल ज़्यादा रिटर्न देते हैं बल्कि आपकी निवेशित पूंजी को सुरक्षा भी देते हैं. 
  • अपडेट रहें: देश में बदलते कानूनों के बारे में अपडेट रहना ज़रूरी है. भारत में अब तक क्रिप्टोकरेंसी निवेश कानूनी था, लेकिन भविष्य में यह तस्वीर बदल सकती है. कानून में ये बदलाव आपकी निवेश रणनीतियों और भविष्य के लक्ष्यों को प्रभावित कर सकते हैं. इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि आप समाचार देखें, समाचार पत्र पढ़ें, या भारत में निवेश नीतियों पर ऑनलाइन न्यूज़लेटर्स की सदस्यता लें ताकि आप खुद को सभी जानकारी से अपडेट रख सकें. 

इससे मिलती-जुलती बातें: शेयर बाज़ार में निवेश करने से पहले जान लें ये जरूरी बातें

और आखिर में

भारत में निवेश के कई विकल्प हैं लेकिन कई फाइनेंशियल स्कैम और धोखाधड़ी की गतिविधियाँ भी होती हैं. एक निवेशक के रूप में, आपको कानूनी और वेरीफाई किए गए निवेश विकल्प चुनने में सावधानी बरतनी चाहिए. सेबी के साथ रजिस्टर्ड स्टॉक ब्रोकर्स को चुनना, अपने इन्वेस्टमेंट विकल्प के सही होने को पक्का करने के लिए एक फाइनेंशियल सलाहकार से परामर्श करना जैसी चीज़ों पर ध्यान देना आपके निवेश के लिए सहायक हो सकता है. अपनी क्रेडिट रिपोर्ट को धोखाधड़ी से कैसे बचाएं?

संबंधित लेख