शेयर बाजार की अस्थिरता को निवेश के अवसर में कैसे बदले

निवेशक जो अपने पोर्टफोलियो को विवेकपूर्ण ढंग से चुनते हैं और उनसे सम्बंधित समय क्षितिज को लेकर सजग रहते हैं, वे सकारात्मक रिटर्न प्राप्त करने की संभावना रखते हैं। हम देखेंगे कि विवेकपूर्ण तरीके से बहुत अच्छे शेयरों का चयन कैसे किया जा सकता है ।

शेयर बाजार की अस्थिरता को निवेश के अवसर में कैसे बदले

काम समय के लिए गिरते शेयर बाजार पर बुरी खबर या भय का असर होता है। वर्तमान में, अधिकांश व्यवसाय कोविड-19 की वजह से फैली महामारी से जुड़ी अनिश्चितता के कारण धीमे हो गए हैं। इससे वैश्विक रूप में दहशत की स्थिति पैदा हुई है, जिस कारण शेयर बाजार में गिरावट आई है। भारत में 21 दिनों के लॉक-डाउन से अर्थव्यवस्था पर 7 लाख करोड़ का नुकसान होने का अनुमान लगाया गया है।

हालांकि, यह दीर्घकालिक निवेशकों के लिए यह एक दुर्लभ अवसर हो सकता है। जैसा कि अर्थशास्त्री पॉल सैमुएलसन ने एक बार कहा था, “निवेश इस तरह का होना चाहिए जैसे कि मानो आप पेंट को सूखते देख रहे हो या घास को बढ़ते हुए देख रहे हो। यदि आप निवेश से उत्साह चाहते हैं, तो $ 800 लें और लास वेगास जाकर खर्च करें । "

1. शेयर बाजार का परिदृश्य

भारत एक भरोसेमंद बाजार जैसा सब कुछ प्रदान करता है। लेकिन पिछले कुछ महीनों में हर दिन शेयर बाजारों में गिरावट के साथ, हमे कई लोगों की अलग-अलग राय सुनने को मिल रही है। कुछ का कहना है कि अभी तो सबसे बुरा होना बाकी है, जबकि अन्य कहते हैं कि इस बाजार में प्रवेश करने का सबसे अच्छा समय अभी ही है। लेकिन इस परिदृश्य के बावजूद, ऐसी स्थिति अभूतपूर्व नहीं है।

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव प्रवेश के अच्छे अवसर प्रदान करते हैं और कोई भी इस गिरावट में निम्नतम बिंदु की भविष्यवाणी नहीं कर सकता है। निवेशक गिरते स्टॉक को खरीदने में विफल होते हैं क्योंकि उन्हें डर होता है कि स्टॉक वापस नहीं उठेंगे। कोई भी निर्णय सही या गलत नहीं होता है; सबसे विवेकपूर्ण काम सही शेयरों का चयन करना होता है।

2. अपने निवेश का प्रबंधन करना

आपके निवेश के भाग्य का फैसला करने के लिए कुछ चीज़ों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। स्टॉक चयन का प्रमुख महत्व है क्योंकि मजबूत फंडामेंटल वाली कंपनियों की कठिन समय में भी टिके रहने की संभावना होती हैं।

  • आय में वृद्धि: लगातार वृद्धि और स्थिर विकास वाले स्टॉक भविष्य के लिए एक अच्छा दांव साबित हो सकते है। बहुत ज्यादा उतार-चढ़ाव खतरे की घंटी सामान हो सकती है।
  • उद्योग मूल्य: किसी को भी इस उद्योग में कंपनी की ताकत का अध्ययन करना चाहिए और यह जानना चाहिए कि अपने प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में यह कितना अच्छा है।
  • डेब्ट -इक्विटी अनुपात: डेब्ट की उच्च मात्रा वाली कंपनियों से सावधान रहें; हमेशा उन कंपनियों को ढूंढें जिनके पास देनदारियों की तुलना में संपत्ति अधिक है।
  • मूल्य-आय अनुपात: जाँच करें कि किसी शेयर की कीमत उसकी कमाई के संबंध में कितनी अच्छी है। पी / ई अनुपात मूल्य निवेश के लिए सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक है। मूल्य निवेशक उन शेयरों में निवेश करना पसंद करते हैं, जिनका पी / ई अनुपात 15 से कम है ( पी / ई अनुपात 15 का मतलब है कि निवेशक कंपनी द्वारा अर्जित प्रत्येक रुपये के लिए 15 रुपये का भुगतान करने को तैयार हैं)।
  • स्थिर लाभांश: एक कंपनी जो लगातार लाभांश देती है, वह एक अच्छी पसंद हो सकती है। सबसे अच्छे लाभांश वाले शेयरों में निवेश विचार योग्य हैं ।

3. निवेश पर रिटर्न उत्पन्न करना

आपके निवेश पर बेहतर रिटर्न पाने का लक्ष्य रखते हुए कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

  • इसमें शामिल जोखिमों से अवगत रहें: शेयर बाजार ज्यादातर अस्थिर होते हैं, विशेष रूप से अल्पावधि में, और वे कभी-कभी आपके निवेश करने के तुरंत बाद बिलकुल विपरीत जा सकते हैं। इसलिए कम अवधि के लिए फंड में निवेश करते समय सतर्क रहें। लंबी अवधि के फंड के लिए भी , आपको रोलरकोस्टर की सवारी करने के लिए हिम्मत रखनी चाहिए।
  • एक ही स्टॉक में बहुत ज्यादा निवेश न करें: यदि आपका शोध या सलाह गलत हो जाये, तो आप बहुत अधिक पूंजी खो सकते हैं। सबसे अच्छी निवेश रणनीति वह होती है जिसमे जोखिम को कम करने के लिए कई अलग-अलग कंपनियों में निवेश किया जाता है। यह आपके निवेश को वितरित कर देता है और अगर एक कंपनी के स्टॉक गिरते हैं तो भी आपको ज्यादा नुकसान होने से बचाता है।
  • एक उचित समय क्षितिज रखें: एक बार जब आप अपने शेयरों का चयन करते हैं, तो आपको अपने निर्णय पर विश्वास करना होगा और लंबी अवधि के लिए निवेशित रहना होगा।

मंदी के दौरान सबसे अच्छे स्टॉक का चयन करना

व्यापक बाज़ार की तुलना में सांगत कंपाउंडर्स ने अपने मजबूत फंडामेंटल और अच्छी कमाई के कारण कठिन समय में भी सकारात्मक रिटर्न दिया है। तेजी के चरण में, अधिकांश स्टॉक अच्छा प्रदर्शन करते हैं। इसकी सच्ची परीक्षा तब होती है जब उत्साह समाप्त हो जाता है। ऐसा तब होता है जब खराब फंडामेंटल वाले मुख्या शेयरों का दशम भाग नष्ट हो जाता है। यह स्वचालित रूप से निवेशकों के पूंजी रिक्तीकरण की स्थिति होती है। इसलिए, अपने शेयरों का विवेकपूर्ण तरीके से चयन करना महत्वपूर्ण है।

कोई भी निवेश जोखिम-मुक्त नहीं होता है, लेकिन दीर्घकालिक रूप से शेयर बाजार में निवेश करना,एक आकर्षक निवेश रणनीति हो सकती है। ये तब होता है जब आप समझते हैं कि कहां निवेश करना है और यह भी जानते हैं कि समय कभी भी बदल सकता है। चाहे आप सेवानिवृत्ति के लिए बचत कर रहे हों या अन्य लक्ष्यों को प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हों, शेयरों में निवेश करना एक डरावनी प्रक्रिया नहीं लगनी चाहिए । बस इन सरल रणनीतियों का पालन करें और यह आपके लिए कारगर साबित हो सकती है ।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।




संबंधित लेख