Shares of Life Insurance Corporation of India reached a three-month high of Rs 695.85!: भारतीय जीवन बीमा निगम के शेयर 695.85 रुपए के साथ तीन महीनों के उच्चतम स्तर पर पहुँचा!

कमज़ोर बाजार में भी भारतीय जीवन बीमा निगम के शेयरों ने 4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।

LIC gains 4 Percent on BSE

LIC India: बाजार में छाई मंदी के बावजूद, भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के शेयर सोमवार को दिनभर के कारोबार में बीएसई पर 4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 695.85 रुपए पर पहुँच गए, जो पिछले तीन महीनों का इसका उच्चतम स्तर है।

सरकारी स्वामित्व वाली बीमा कंपनी का स्टॉक 18 अगस्त, 2022 से अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहा था। दोपहर 02:18 बजे, एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स में 0.34 प्रतिशत की गिरावट के साथ एलआईसी के शेयर 3 प्रतिशत बढ़कर 691.35 रुपए पर पहुँच गए। स्टॉक लगातार चौथे दिन उच्च मूल्य पर कारोबार कर रहा था, इस दौरान भाव में 7 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार का लक्ष्य निजी क्षेत्र के एक पेशेवर को एलआईसी का पहला मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त करना है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शेयर बाजार में निराशाजनक शुरुआत के बाद यह सरकार का अपने सबसे बड़े बीमाकर्ता को आधुनिक बनाने का प्रयास है। सरकार एलआईसी सीईओ की नियुक्ति के लिए पात्रता मानदंड को व्यापक बनाने की योजना बना रही है ताकि निजी क्षेत्र के उम्मीदवार आवेदन कर सकें।

इस समय, बीमा कंपनी अध्यक्ष के नेतृत्व में काम करती है, लेकिन मार्च 2023 में वर्तमान अध्यक्ष का कार्यकाल समाप्त होने के बाद उस पद को समाप्त कर दिया जाएगा। इसे संभव बनाने के लिए पिछले साल एलआईसी को नियंत्रित करने वाले कानून में बदलाव किए गए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस कदम से अधिक विकल्प और शेयरधारकों को अच्छे संकेत मिलेंगे।

पिछले महीने, एलआईसी के शेयर ने 11 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बाजार से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस वृद्धि के साथ, एलआईसी ने 21 अक्टूबर के, 588 रुपए के अपने रिकॉर्ड निचले स्तर से 18 प्रतिशत की बढ़त हासिल की है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

एलआईसी के शेयर की कीमतों में वृद्धि के कारण

एलआईसी के शेयर की कीमतों में बढ़ोत्तरी के पीछे कई कारकों का योगदान है, जिनमें प्रस्तावित विनियामक परिवर्तन, व्यवसाय प्रदर्शन, निजी क्षेत्र के प्रमुख, उच्च लाभ बुकिंग और बोनस शेयर जारी करना आदि प्रमुख हैं।

सरकार का समग्र बीमा लाइसेंस जारी करने का प्रस्ताव है, उद्योग के एक अन्य विशेषज्ञ ने बताया कि, जीवन बीमा निगम कारोबार बढ़ा रहा है, क्षेत्रीय नियामक द्वारा नियमों में प्रस्तावित बदलाव से भी एलआईसी को मदद मिलेगी, यह भी कारण हो सकते हैं। लेखांकन नीति में बदलाव के कारण वित्तीय वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में एलआईसी का मुनाफा 14,271.80 करोड़ रुपए बढ़कर 15,952.29 करोड़ रुपए हो गया है।

एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के विश्लेषकों ने बीमा क्षेत्र के अपडेट में कहा कि इस साल अक्टूबर में दिवाली त्योहारी सीजन के साथ, इसका प्रदर्शन नवंबर 2021 से बेहतर होने की उम्मीद थी, लेकिन यह एक सकारात्मक आश्चर्य के रूप में आया है। नवंबर 2022 के विकास ने इस क्षेत्र के लिए खुदरा एपीई में ~12 प्रतिशत की सालाना वृद्धि के विचार की पुष्टि की है, निजी क्षेत्र इसके विकास में सहयोग कर रहा है। 

विनियामक और सरकार द्वारा कई सुधारों के साथ, इस क्षेत्र में विकास की अस्थिरता और कंपनी-विशिष्ट, गैर-परिचालन मुद्दों के कारण स्टॉक अस्थिर रहेगा। व्यापार मार्जिन में सुधार के साथ यह मध्यम अवधि में मजबूत वृद्धि देने की स्थिति में हैं। विश्लेषकों ने कहा कि जीवन बीमा क्षेत्र में शेयरों का हाल का कमजोर प्रदर्शन और मूल्यांकन उन्हें जमा करने का अच्छा अवसर प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

LIC India: बाजार में छाई मंदी के बावजूद, भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के शेयर सोमवार को दिनभर के कारोबार में बीएसई पर 4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 695.85 रुपए पर पहुँच गए, जो पिछले तीन महीनों का इसका उच्चतम स्तर है।

सरकारी स्वामित्व वाली बीमा कंपनी का स्टॉक 18 अगस्त, 2022 से अपने उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहा था। दोपहर 02:18 बजे, एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स में 0.34 प्रतिशत की गिरावट के साथ एलआईसी के शेयर 3 प्रतिशत बढ़कर 691.35 रुपए पर पहुँच गए। स्टॉक लगातार चौथे दिन उच्च मूल्य पर कारोबार कर रहा था, इस दौरान भाव में 7 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार का लक्ष्य निजी क्षेत्र के एक पेशेवर को एलआईसी का पहला मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त करना है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शेयर बाजार में निराशाजनक शुरुआत के बाद यह सरकार का अपने सबसे बड़े बीमाकर्ता को आधुनिक बनाने का प्रयास है। सरकार एलआईसी सीईओ की नियुक्ति के लिए पात्रता मानदंड को व्यापक बनाने की योजना बना रही है ताकि निजी क्षेत्र के उम्मीदवार आवेदन कर सकें।

इस समय, बीमा कंपनी अध्यक्ष के नेतृत्व में काम करती है, लेकिन मार्च 2023 में वर्तमान अध्यक्ष का कार्यकाल समाप्त होने के बाद उस पद को समाप्त कर दिया जाएगा। इसे संभव बनाने के लिए पिछले साल एलआईसी को नियंत्रित करने वाले कानून में बदलाव किए गए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस कदम से अधिक विकल्प और शेयरधारकों को अच्छे संकेत मिलेंगे।

पिछले महीने, एलआईसी के शेयर ने 11 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बाजार से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस वृद्धि के साथ, एलआईसी ने 21 अक्टूबर के, 588 रुपए के अपने रिकॉर्ड निचले स्तर से 18 प्रतिशत की बढ़त हासिल की है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

एलआईसी के शेयर की कीमतों में वृद्धि के कारण

एलआईसी के शेयर की कीमतों में बढ़ोत्तरी के पीछे कई कारकों का योगदान है, जिनमें प्रस्तावित विनियामक परिवर्तन, व्यवसाय प्रदर्शन, निजी क्षेत्र के प्रमुख, उच्च लाभ बुकिंग और बोनस शेयर जारी करना आदि प्रमुख हैं।

सरकार का समग्र बीमा लाइसेंस जारी करने का प्रस्ताव है, उद्योग के एक अन्य विशेषज्ञ ने बताया कि, जीवन बीमा निगम कारोबार बढ़ा रहा है, क्षेत्रीय नियामक द्वारा नियमों में प्रस्तावित बदलाव से भी एलआईसी को मदद मिलेगी, यह भी कारण हो सकते हैं। लेखांकन नीति में बदलाव के कारण वित्तीय वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही में एलआईसी का मुनाफा 14,271.80 करोड़ रुपए बढ़कर 15,952.29 करोड़ रुपए हो गया है।

एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज के विश्लेषकों ने बीमा क्षेत्र के अपडेट में कहा कि इस साल अक्टूबर में दिवाली त्योहारी सीजन के साथ, इसका प्रदर्शन नवंबर 2021 से बेहतर होने की उम्मीद थी, लेकिन यह एक सकारात्मक आश्चर्य के रूप में आया है। नवंबर 2022 के विकास ने इस क्षेत्र के लिए खुदरा एपीई में ~12 प्रतिशत की सालाना वृद्धि के विचार की पुष्टि की है, निजी क्षेत्र इसके विकास में सहयोग कर रहा है। 

विनियामक और सरकार द्वारा कई सुधारों के साथ, इस क्षेत्र में विकास की अस्थिरता और कंपनी-विशिष्ट, गैर-परिचालन मुद्दों के कारण स्टॉक अस्थिर रहेगा। व्यापार मार्जिन में सुधार के साथ यह मध्यम अवधि में मजबूत वृद्धि देने की स्थिति में हैं। विश्लेषकों ने कहा कि जीवन बीमा क्षेत्र में शेयरों का हाल का कमजोर प्रदर्शन और मूल्यांकन उन्हें जमा करने का अच्छा अवसर प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget