क्या गृहिणियों को टर्म इन्श्योरेंस खरीदना चाहिए?

किसी गृहिणी द्वारा टर्म इंश्योरेंस प्लान लेना उसके पूरे परिवार को उनकी पैसे से जुड़ी ज़रूरतों को पूरा करने की सुरक्षा देता है. एक सही टर्म प्लान एक सस्ते प्रीमियम पर, ऐड-ऑन राइडर्स और टैक्स पर बचत के साथ ज़्यादा से ज़्यादा कवरेज जैसे फ़ायदे देता है.

क्या गृहिणियों को टर्म इन्श्योरेंस खरीदना चाहिए?

इंश्योरेंस प्लान का मुख्य उद्देश्य किसी भी अनहोनी जैसे पॉलिसीधारक की मृत्यु होने पर उनके परिवार को आर्थिक सुरक्षा दिलाना है. पुराने समय से चली आ रही सोच की बात करें तो, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी को परिवार के कमाऊ सदस्य (आमतौर पर, पुरुष) के लिए ज़रूरी माना जाता है, और गृहिणियों को अनदेखा किया जाता है क्योंकि उनके पास कमाई का कोई ज़रिया नहीं होता. हालांकि, यह ज़रूरी है कि उनके सहयोग को भी आर्थिक योगदान के तौर पर देखा जाए.

किसी महिला का घर संभालना उतना ही मुश्किल होता है जितना किसी और का नौकरी करना, लेकिन उसके कामों और सेवाओं को अक्सर कम आंका जाता है. वह अपने प्रोफेशनल लक्ष्यों को भूल कर, घर चलाने और ज़िम्मेदारियाँ निभाने के लिए दिन भर काम करती है. खाना पकाने से लेकर कपड़े धोने तक, बच्चों की पढ़ाई में मदद करने से लेकर बुज़ुर्गों की देखभाल करने तक, एक गृहिणी किसी मल्टीटास्कर की तरह काम करती है. और वह इन सब कामों को बिना कोई तनख्वाह लिए करती है. 

लेकिन किसी दिन अगर वह घर की देखभाल करने के लिए मौजूद न रहे तो क्या होगा? भावनात्मक रूप से उसे खोने का दुःख बहुत गहरा होगा, और साथ ही, यह वित्तीय रूप से भी तनावपूर्ण हो सकता है क्योंकि आपको उसकी कमी को पूरा करने के लिए किसी को नौकरी पे रखना पड़ेगा. 

एक गृहिणी पैसे तो नहीं कमाती, लेकिन वह बहुत सारे काम करती है जिससे घर को पैसे बचाने में मदद मिलती है. इससे उसकी भूमिका बहुत अहम बन जाती है. पर अफ़सोस की बात है कि यह अहसास लोगों को तब होता है जब वो मौजूद नहीं होती. चाहे आप अपनी पसंद से गृहिणी बनी हों या किन्हीं अन्य परिस्थितियों के कारण, तब भी आपको एक टर्म इंश्योरेंस प्लान में निवेश करने पर विचार करना चाहिए ताकि आप उससे मिलने वाले लाभों को पा सकें. आइए देखते हैं कि वे क्या हैं:

वित्तीय सुरक्षा

किसी गृहिणी द्वारा टर्म इंश्योरेंस प्लान लेना उसके पूरे परिवार की वित्तीय सुरक्षा को बढ़ाता है. चूंकि ख़र्चों की तुलना में कमाई उतनी नहीं बढ़ती जितनी होनी चाहिए, इसलिए आपके प्रियजनों के लिए एक मज़बूत फाइनेंशियल बैकअप होना बहुत ज़रूरी है, ताकि पैसा आपके और आपके परिवार की जरूरतों के रास्ते में कभी आड़े न आए. टर्म इंश्योरेंस प्लान के लिए हर महीने पैसे देना आपकी वर्तमान जीवन शैली की ज़रूरतों को पूरा करने में मदद करेगा. 

हालांकि परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु के बाद उसकी कमी को कोई भी पूरा नहीं कर सकता, लेकिन उनकी टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी से मिलने वाला पैसा यह पक्का करता है कि आप अपने बच्चों की परवरिश के दौरान किसी भी तरह की पैसे की कमी महसूस नहीं करेंगे. यह उनकी परवरिश, पढ़ाई और बाकी सभी ज़रूरतों को पूरा करने में काम आएगा. इस तरह से, टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी, आपके या आपके जीवनसाथी के इस दुनिया में न रहने पर भी, एक वित्तीय सुरक्षा देने का काम करती है. 

कम प्रीमियम पर ज़्यादा कवर 

टर्म इंश्योरेंस एक तरह का लाइफ़ इंश्योरेंस ही है. यह आपके परिवार को सबसे सस्ती दरों पर वित्तीय सुरक्षा प्रदान करता है. इसमें, आपको सस्ती प्रीमियम दर पर ज़्यादा लाइफ़ कवर (यानी, सम एश्योर्ड) मिलता है. टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लिए इंतज़ार न करें - अगर आप इसे कम उम्र में खरीदते हैं तो आपको कम प्रीमियम चुकाना पड़ता है. इसके अलावा, आप जब चाहें कवरेज बढ़ाने के विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं. 

टैक्स में फ़ायदे

आपके आश्रितों के वित्तीय भविष्य को सुरक्षित करने के अलावा, एक टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी आपको टैक्स बचाने की सुविधा भी देती है. आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत, आपके द्वारा चुकाए गए प्रीमियम के लिए आपको 25,000 रुपये तक की छूट मिलती है. इसके अतिरिक्त, मिलने वाले डेथ बेनिफिट पर भी धारा 10 (10डी) के तहत कर छूट मिलती है. 

इन फ़ीचर पर गौर करें

टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीदने से पहले, आपको और कंपनियों के इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स की तुलना करनी चाहिए. आपको पक्के तौर पर हरेक पॉलिसी के नियमों और शर्तों को पढ़ना चाहिए. आपको इन फ़ीचर्स पर भी ध्यान देना होगा:

  • कवरेज और पेएबल प्रीमियम: जांचें कि क्या प्लान से आपके आश्रितों के लिए जो कवर मिलता है वो उनके लिए काफी है. आय न होने की स्थिति में, आपको हर महीने प्रीमियम के पैसे भरने के लिए अपने साथी पर निर्भर रहना पड़ सकता है, इसलिए यह पक्का करें कि कवर और प्रीमियम आपके बजट, देनदारियों, आदतों और वित्तीय स्थिति के हिसाब से हों. 
  • अतिरिक्त लाभ: आपके टर्म इंश्योरेंस प्लान पर राइडर्स से आपके पेएबल प्रीमियम पर असर पड़ेगा, इसलिए अपनी ज़रूरतों के आधार पर इन अतिरिक्त लाभों को चुनते वक़्त सावधान रहें. 
  • प्रीमियम में छूट: यह विकल्प आपके साथी की मृत्यु होने पर आपको प्रीमियम में छूट पाने का अधिकार देता है. चूंकि एक गृहिणी अपने पति पर आर्थिक रूप से निर्भर होती है, इसलिए इस क्लॉज़ को आपकी चुनी पॉलिसी में शामिल करना ज़रूरी है. 
  • बच्चों के लिए लाभ: एक बढ़िया इंश्योरेंस प्लान से आश्रित बच्चों को लाभ मिलना चाहिए.

कुछ कंपनियां ऐसे विकल्प देती हैं जिनमें, पति के इंश्योरेंस प्लान में पत्नी को शामिल किया जा सके. चाहे इनमें से कोई भी एक उनकी नौकरी में हो. इस विकल्प के तहत, जीवनसाथी को प्राइमरी लाइफ़ इंश्योर्ड का 50% तक का सम एश्योर्ड मिलता है, यानी अगर पति के पास 1 करोड़ रुपये का कवर है, तो पत्नी को 50 लाख रुपये का कवर मिलता है. वे प्राइमरी लाइफ़ इंश्योर्ड (पति) की मृत्यु हो जाने पर, सेकेंडरी लाइफ़ इंश्योर्ड (पत्नी) को प्रीमियम में छूट भी देते हैं. 




संबंधित लेख