नीति आयोग लॉटरी के बारे में 5 बातें जानना आपके लिए जरूरी

क्या अभी भी सोच रहे हैं कि आपको #GoCashless बनना चाहिए? ये लॉटरी स्कीम आपको फैसला करने में मदद करेगी।

Things to know about the NITI Aayog Lottery

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया- नीति आयोग हाल ही में सुर्खियां में आ गई। इसने 340 करोड़ रुपए की ग्रैंड लॉटरी स्कीम का ऐलान किया। देश में नगदी रहित भुगतान को बढ़ावा देने के लिए यह लॉटरी शुरू की गई है।

इस लॉटरी के बारे में सारी जरूरी जानकारी यहां है।

  1. दो योजनाएं

नीति आयोग ने दो योजनाओं की घोषणा की हैजिसके जरिए पुरस्कार दिए जाएंगे। लकी ग्राहक योजना स्कीम नियमित ग्राहकों के लिए है औरडिजि-धन व्यापार योजना सिर्फ कारोबारियों के लिए है।

 

    2. दैनिक और साप्ताहिक पुरस्कार

ऐसे ग्राहक और कारोबारी जो नगदी रहित लेन-देन करते हैंवो दैनिक और साप्ताहिक आधार पर पुरस्कार जीत सकते हैं। यह लॉटरी योजनाएं 25 दिसंबर 2016 से शुरू हुई हैं। लकी ग्राहक योजना स्कीम के लिए 15,000 विजेताओं को रोज चुना जाएगा। इन्हें 1,000 रुपए की कैश-बैक राशि जीतने का मौका मिलेगा। साप्ताहिक पुरस्कारों में 1 लाख रुपए10,000 रुपएऔर 5,000 रुपए की राशि शामिल हैं। वहींकारोबारियों को 50,000 रुपए5,000 रुपएऔर 2,500 रुपए के साप्ताहिक पुरस्कार जीतने का मौका मिलेगा। 

 

   3. बड़ा पुरस्कार

दैनिक और साप्ताहिक पुरस्कारों के अलावाएक बड़ा पुरस्कार भी है। ये लकी ड्रॉ डॉ. अंबेडकर के जन्मदिन 14 अप्रैल 2017 को जारी किया जाएगा। यहां भीग्राहकों और व्यापारियों के लिए अलग-अलग पुरस्कार हैं। डिजिटल लेन-देन आईडी के आधार पर तीन विजेताओं का चयन किया जाएगा।

उपभोक्ताओं के लिएपहला पुरस्कार 1 करोड़ रुपए की भारी भरकम राशि के साथ है। दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वालों के लिए 50 लाख रुपए और 25 लाख रुपए के पुरस्कार भी हैं। व्यावसायियों के लिए 50 लाख रुपए25 लाख रुपएऔर 5 लाख रुपए के पुरस्कार राशि रखे गए हैं।

 

     4. नकद से नकद रहित

लकी ड्रॉ को देश के लिए 'क्रिसमस गिफ्टकहा जाता है। इसका मकसद अर्थव्यवस्था को नकद से नकद रहित लेन-देन की ओर लेकर जाना है। इस बदलाव को एक मज़ेदार और रोमांचक तरीके से व्यवस्था में लाना है। दोनों योजनाएं छोटे कारोबारियों के साथ गरीब और मध्यम वर्ग के उपभोक्ताओं पर ध्यान केंद्रित करती हैं। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने कहा किइसका लक्ष्य देश के ज्यादा से ज्यादा लोगों तक डिजिटल पेमेंट क्रांति को पहुंचाना है।

 

      5.  योग्यता

25 दिसंबर 2016 से विजेताओं को अगले 100 दिनों के लिए हर रोज चुना जाएगा। विजेताओं का चुनाव डिजिटल ट्रांजैक्शन आईडी के आधार पर लकी ड्रॉ द्वारा किया जाएगा। कोई भी ऐसे लेन-देन जो यूनाइटेड पेमेंट इंटरफेस (UPI), अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डेटा (USSD), आधार एनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AEPS), या रुपे कार्ड के माध्यम से किए जाएंगेवो पुरस्कार के हकदार होंगे। 

लेकिन क्रेडिट कार्ड के जरिए किए गए लेन-देन के लिए लकी ड्रॉ लागू नहीं होगा। निजी कंपनियों के ई-वॉलेट के जरिए किए गिए भुगतान भी इसके लिए योग्य नहीं होंगे। इसका मुख्य मकसद समाज के हर वर्ग को बढ़ावा देना है। इसलिए ये योजनाएं 50 रुपए से 3,000 रुपए के बीच किसी भी लेन-देन को कवर करेंगी।

 

निष्कर्ष

जैसे ही साल खत्म होता हैआप अपने नए साल के संकल्प की सूची में नकद लेन-देन क्यों नहीं जोड़ते हैंअगले साल अप्रैल में आप 1 करोड़ रुपए जीत सकते हैं। साथ ही खुद को नकद से जुड़ी हुई दिक्कतों से बचा सकते हैंजो मौजूदा समय में भारतीय नागरिकों के लिए मुश्किलें पैदा कर रही हैं।

 

विषय: नकदी प्रवाहनोटबंदीलॉटरी

संबंधित लेख

 

Most Shared