आईपीओ अलॉटमेंट, आईपीओ अलॉटमेंट के लिए क्या करें, आईपीओ अलॉटमेंट की प्रक्रिया, आईपीओ अलॉटमेंट की संभावना कैसे बढ़ाएं, आईपीओ अलॉटमेंट कैसे पक्का करें, आईपीओ सब्सक्राइव

आप भी अच्छे आईपीओ हासिल करने में कामयाब होंगे, लेकिन इसके लिए सही टिप्स आजमाना होगा।

क्या आईपीओ नहीं मिलने से आप मायूस हैं तो ये तरीके अपनायें

पैसा से पैसा कमाने का एक नियम होता है। जिसके बारे में आप पूरी तरह से जानते हैं वहीं अपनी मेहनत की कमाई लगाइये या फिर जहां आप पैसे लगाने जा रहे हैं पहले उसके बारे में पूरी तरह जान लें तभी पैसे लगाएं। पैसा आपका है, इसलिए नफा-नुकसान आपको होगा। चलिए आईपीओ के बारे में बात करते हैं।  

आईपीओ क्या होता है और निवेशक उसमें पैसे लगाकर कैसे पैसे कमाते हैं

आईपीओ यानी इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग हिन्दी में इसको आरंभिक या प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम कहते हैं। शेयर बाजार से पैसे कमाने का एक तरीका है आईपीओ में पैसे लगाना। दरअसल, शेयर बाजार में अनलिस्टेड यानी असूचीबद्ध कोई भी कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट होने के लिए आईपीओ लाती है। आईपीओ लाने वाली कंपनी आईपीओ के जरिये पूंजी बाजार से पैसे जुटाती है लेकिन निवेशक भी आईपीओ में पैसे लगाकर पैसे कमा सकते हैं। 

अगर अच्छे आईपीओ में पैसे लगाएंगे तो अच्छी कमाई की उम्मीद रहती है। लेकिन, कई निवेशकों की शिकायत रहती है कि उन्हें अच्छे आईपीओ अलॉट ही नहीं होते हैं। ऐसा इसलिए होता है कि बिक्री के लिए आईपीओ के जितने शेयर्स जारी किए जाते हैं उससे ज्यादा कई बार तो कई गुना ज्यादा निवेशकों के आवेदन मिलते हैं। कई आईपीओ तो ऐसे भी आ चुके हैं जिनकी मांग 100-100 गुना से भी ज्यादा रही है। तकनीकी भाषा में जब बिक्री के लिए जारी शेयर्स से ज्यादा आवेदन मिलते हैं तो उसे ओवरसब्सक्राइव कहते हैं। तो, अगर आप भी किसी ऐसे आईपीओ में पैसे लगाने की सोच रहे हैं जिसे ओवरसब्सक्राइव होने की संभावना है तो 100 फीसदी उस आईपीओ को कैसे हासिल करें, इसके बारे में टिप्स जान लें। 

आईपीओ अलॉटमेंट कैसे पक्का करें 

1-ज्यादा बोली लगाने से बचें: कुछ निवेशक सोचते हैं कि अगर वे ज्यादा रकम की बोली लगाएंगें यानी आवेदन देंगे तो उन्हें आईपीओ जरूर अलॉट होगा। लेकिन, ऐसा सोचना सही नहीं है। खासकर ओवरसब्सक्राइव होने वाले आईपीओ को लेकर निवेशकों में ऐसी सोच होती है। आपके लिए यहां जानना जरूरी है कि ₹2 लाख से कम वाले सभी आवेदन यानी बोलियां एक समान समझी जाती हैं। इसे खुदरा आवेदन माना जाता है। इसलिए ज्यादा बोली लगाने की बजाय कई डीमैट खातों के जरिये थोड़ी थोड़ी रकम की बोलियां लगाएं तो आईपीओ अलॉट होने की संभावना बढ़ सकती है। शेयर बाजार, आईपीओ, एफपीओ, राइट्स इश्यू बगैरह में निवेश करने के लिए डीमैट खाता जरूरी होता है। 

2-कई डीमैट खातों के जरिये बोली लगाएं: अगर अभी तक आप एक ही खाते से आईपीओ में आवेदन करते रहे हैं तो अपनी इस आदत को बदल डालिए। कई खातों के जरिये आप आईपीओ में पैसे लगाइये तो आईपीओ अलॉट होने की संभावना बढ़ सकती है। 

3-ऊपरी कीमत पर बोली लगाएं: आईपीओ के लिए एक कीमत का दायरा तय किया जाता है। आप कम से कम कीमत पर या अधिक से अधिक कीमत पर या इन कीमतों के बीच की कीमत पर बोली लगा सकते हैं। आईपीओ की ऊपरी कीमत पर बोली लगाने पर आईपीओ मिलने की संभावना बढ़ सकती है। 

4-बोली लगाने के लिए अंतिम दिन का इंतजार ना करें: आईपीओ में निवेश करने के लिए तय कीमत दायरा के अलावा बोली लगाने की तारीख भी तय रहती है। कई निवेशक बोली लगाने के लिए आखिरी तारीख का इंतजार करते हैं। लेकिन ऐसा करना आईपीओ मिलने की आपकी संभावना को कम कर सकता है। जानकारों का मानना है कि आखिरी तारीख का इंतजार करने से हो सकता है कि आईपीओ का हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (एचएनआई) और क्वालिफाइड इंस्टिट्यूशनल बायर्स (क्यूआईबी) का हिस्सा ओवरसब्सक्राइव होने की वजह से बैंक खाता रिस्पांड ना करे तो आईपीओ मिलने में दिक्कत आ सकती है। इसके अलावा अगर आखिरी दिन किसी तरह की तकनीकी समस्या आ जाए तो भी आईपीओ मिलने की उम्मीद कम हो सकती है। 

5-डीमैट खाते के बजाय एएसबीए के जरिये बोली लगाएं: आप डीमैट खाते के अलावा अपने बैंक खाते से भी आईपीओ में बोली सकते हैं। इसके लिए बैंक की एएसबीए यानी एप्लीकेशन सपोर्टेड बाय ब्लॉक्ड अमाउंट सुविधा का इस्तेमाल करना होगा। इससे आईपीओ में बोली लगाने पर किसी तकनीकी कारणों से आपकी बोली को खारिज होने की संभावना नहीं के बराबर होती है। 

6-आईपीओ लाने वाली कंपनी की लिस्टेड सहयोगी या पैरेंट कंपनी का शेयर पहले से खरीदें: आईपीओ के अलॉट को पक्का करने के लिए एक और तरीका आप आजमा सकते हैं। हालांकि, ये सभी आईपीओ के मामले में लागू नहीं होता है। अगर आईपीओ लाने वाली कंपनी की सहयोगी या पैरेंट कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट है तो वैसी कंपनी के आईपीओ का अलॉट पक्का करने के लिए उसकी लिस्टेड सहयोगी या पैरेंट कंपनी का कम से कम एक शेयर भी पहले से खरीदकर रख लें। जानकारों का कहना है कि ऐसा करने पर निवेशक दो कैटेगरी में निवेश कर सकते हैं-एक, शेयरहोल्डर कैटेगरी और दूसरी, खुदरा निवेशक कैटेगरी। इससे आईपीओ अलॉट होने की संभावना बढ़ जाती है। 

अभी कई आईपीओ आने वाले हैं। आप उपर बताए गए टिप्स का इस्तेमाल करके आईपीओ अलॉट 100 फीसदी पक्का कर सकते हैं।

संबंधित लेख