2022 के टॉप 5 आईपीओ: एलआईसी, ओला, फार्मइजी, बाययूज, एचबीडी फाइनेंशियल सर्विसेज

2022 में इन टॉप 5 आईपीओ एलआईसी, ओला, एचडीबी फाइनेंशियल सर्विसेस, फार्मइजी और बायजूज पर नजर रखें।

2022 के टॉप 5 ब्लॉकबस्टर आईपीओ कौन कौन होंगे

क्या आप जानते हैं कि 2021 के टॉप 5 आईपीओ ने 200% से ज्यादा रिटर्न दिया है? शानदार रिटर्न देने वालों में शामिल हैं-पारस डिफेंस एंड स्पेस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (320%), न्यूरेका लिमिटेड (269%), एमटीएआर टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (253%), लेटेंट व्यू एनालिटिक्स लिमिटेड (225%) और लक्ष्मी ऑर्गेनिक इंडस्ट्रीज लिमिटेड (205%)। ये आंकड़े 30 नवंबर 2021 तक के हैं।

अगर शेयर बाजार में तेजी बनी रहती है, तो आगे कई आईपीओ आने वाले हैं। इस लेख में हम 2022 में नजर रखने वाले टॉप 5 आईपीओ पर चर्चा करेंगे। इनके बारे में विस्तार से जानने के लिए आग पढ़ें:

1. भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी)

एलआईसी अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों से बड़े अंतर से भारत की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी है। बजट 2021 में वित्त मंत्री ने उसी वित्तीय वर्ष में एलआईसी के आईपीओ लाने की

घोषणा की थी। आईपीओ के जनवरी-मार्च 2022 तिमाही में लॉन्च होने की उम्मीद है। उद्योग की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार को एलआईसी आईपीओ से रु. 70,000-80,000 करोड़ जुटाने की उम्मीद है। उम्मीद की जा रही है कि सूचीबद्ध होने पर एलआईसी बाजार पूंजीकरण के मामले में बाजार की मौजूदा लीडर दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को भी पीछे छोड़ देगी।

संबंधित: सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाले टॉप 5 आईपीओ

2. ओला

ओला और उबर सफर को आसान बनाने वाले भारत के सबसे बड़े राइड-हेलिंग एग्रीगेटर हैं। 2022 में ओला द्वारा 2021 में जोमैटो, नायका, पॉलिसीबाजार, पेटीएम द्वारा शुरू किए गए नए युग की कंपनियों के आईपीओ प्रवृत्ति को आगे बढ़ाने की उम्मीद है। नायका ने अपनी आईपीओ लिस्टिंग पर बंपर रिटर्न दिया, पेटीएम अब तक भारत में आईपीओ से सबसे ज्यादा पैसा जुटाने के मामले में कामयाब रहा।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, ओला को अपने आईपीओ से 12-14 अरब डॉलर के मूल्यांकन पर 1.5-2 अरब डॉलर जुटाने की उम्मीद है। इसने हाल ही में तमिलनाडु में दुनिया के सबसे बड़े इलेक्ट्रिक दोपहिया कारखानों में से एक की स्थापना की। भारत और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अपने राइड-हेलिंग एग्रीगेटर व्यवसाय का विस्तार करने के साथ ओला इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर सेगमेंट पर बड़ा दांव लगा रही है।

3. एचडीबी फाइनेंशियल सर्विसेस

एचडीबी फाइनेंशियल सर्विसेज एचडीएफसी बैंक की सहायक कंपनी है। यह लोन देने वाला एनबीएफसी है। इसके आईपीओ उद्देश्यों में पूंजीगत व्यय को पूरा करना, नए लोन अवसरों का दोहन और मौजूदा लोन का भुगतान करना शामिल है। रिपोर्टों के अनुसार, एचडीएफसी बैंक रणनीतिक निवेशकों को लाने पर विचार कर रहा है और एचडीबी फाइनेंशियल सर्विसेज के लिए 60,000-65,000 करोड़ रुपये के मूल्यांकन की उम्मीद कर रहा है। यह 2022 के लिए निर्धारित आईपीओ का अग्रदूत हो सकता है।

यह वित्तीय सेवा क्षेत्र में सबसे उत्सुकता से प्रतीक्षित आईपीओ में से एक है, क्योंकि यह एचडीएफसी समूह का एक हिस्सा है, जिसने अपने शेयरधारकों के लिए जबरदस्त संपत्ति

बनाई है।

संबंधित: आईपीओ में निवेश करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

4. फार्मइजी

फार्मइजी भारत के अग्रणी डिजिटल हेल्थकेयर प्लेटफॉर्म में से एक है। यह दवाएं पहुंचाने, डायग्नोस्टिक टेस्ट करने, टेलीकंसल्टेशन आदि के कारोबार में है। नवंबर 2021 में कंपनी ने सेबी के पास आईपीओ के लिए अर्जी यानी डीआरएचपी जमा की। कंपनी आईपीओ के जरिए 6250 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही है। आईपीओ फंड का उपयोग बकाया कर्ज चुकाने, जैविक विकास के वित्तपोषण, अधिग्रहण के माध्यम से अकार्बनिक विकास पहलों को आगे बढ़ाने और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।

कंपनी मेडलाइफ, थायरोकेयर आदि जैसे अधिग्रहणों के माध्यम से अपने व्यवसाय को तेजी से बढ़ा रही है। आगामी आईपीओ के साथ कंपनी को अपनी आक्रामक विकास रणनीति जारी रखने की उम्मीद है।

5. बायजूज

बायजूज भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन शिक्षा कंपनी है। बायजू हालांकि पहले से ही अच्छा कर रही थी और तेजी से अपने व्यवसाय का विस्तार कर रही था, लेकिन कोविड-प्रेरित लॉकडाउन ने इसके व्यवसाय (और इसलिए, व्यवसाय मूल्यांकन) को और भी गति दी। तालाबंदी के दौरान, स्कूल और कॉलेजों को अस्थायी रूप से बंद करना पड़ा। इस दौरान सभी ने ऑनलाइन शिक्षा पर ध्यान केंद्रित किया और इससे बायजू को काफी फायदा हुआ।

कुछ रिपोर्टों के अनुसार, एडटेक कंपनी पहले से ही 15 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के मूल्यांकन का दम रखती है और अपने आईपीओ को और भी अधिक मूल्यांकन पर लॉन्च कर सकती है। अपने बाजार नेतृत्व के कारण इतने ऊंचे मूल्यांकन के बावजूद भी बायजू के आईपीओ को निवेशकों का रिकॉर्डतोड़ रेस्पॉंस मिलने की उम्मीद है।

संबंधित: निवेश के लिए सही आईपीओ कैसे चुनें?

आखिरी शब्द

हमने 2022 में पैसा बरसाने की उम्मीद वाले केवल पांच आईपीओ की जानकारी दी है। लेकिन, आगामी आईपीओ सूची इससे काफी बड़ी है और निवेशक आईपीओ में निवेश करने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। 2021 में कंपनियों ने 65,000 करोड़ रुपये से अधिक जुटाए,

जिससे यह आईपीओ के लिए सबसे बड़े वर्षों में से एक बन गया, लेकिन 2022 में इसे बेहतर करने की क्षमता है। एलआईसी और अन्य बड़े आईपीओ की प्रतीक्षा में 2022 आईपीओ के लिए अब तक का सबसे बड़ा वर्ष बन सकता है।

संवादपत्र

संबंधित लेख