Vehicle scrap policy about 15 year old vehicles From 1st April, what will happen while driving older cars in hindi

प्रदूषण को नियंत्रित करने के साथ ही जीरो एमिशन टारगेट को अचीव करने के लिए सरकार 15 साल से पुरानी गाड़ियों को स्क्रैप करने से जुड़ी वीइकल स्क्रैपेज पॉलिसी को सख्ती से लागू कर रही है।

Vehicle Scrapping Policy

Vehicle Scrapping Policy: 15 साल से ज्यादा पुरानी गाड़ी चलाने वालों के लिए बेहद जरूरी खबर है। जी हां, आपकी गाड़ी अगर 15 साल पुरानी है और ट्रैफिक पुलिस ने इसे पकड़ लिया तो कार को सीधे स्क्रैप के लिए भेज दिया जाएगा। नए फाइनेंसियल ईयर की आज एक अप्रैल से शुरुआत हो रही है और ऐसे में कार चालक या कार मालिक के लिए कुछ नियम जानना बेहद जरूरी है। इस साल के बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साफ तौर पर कहा था राज्य और केंद्र सरकार के अस्पतालों या अन्य ऑफिसेस में इस्तेमाल हो रहे 15 साल से पुराने वाहनों को स्क्रैप किया जाएगा।

स्क्रैपेज नीति की घोषणा पिछले बजट सत्र के दौरान भी की गई थी और स्वच्छ ऊर्जा वाहनों और नई कारों की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए 15 साल से अधिक पुराने वाहनों को हटाने का लक्ष्य रखा गया था। सरकार ने पहले ही घोषणा कर दी है कि वह केंद्र और राज्य के स्वामित्व वाले 9 लाख वाहनों को स्क्रैप करने की योजना बना रही है। एक अप्रैल 2023 से सरकार, परिवहन निगम और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम में इस्तेमाल हो रहे पुराने वाहनों पर ये नियम लागू होंगे। वहीं, आम लोगों के 15 साल से पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द करने के साथ ही उसे स्क्रैप कर दिया जाएगा।

आपको बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2023 में कहा था कि केंद्र सरकार द्वारा पुराने वाहनों को स्क्रैप करने के लिए ज्यादा धनराशि आवंटित की जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि केंद्र सरकार राज्य सरकारों का समर्थन करेगी। आपको बता दें भारत में बड़े शहरों में तो कम, लेकिन छोटे शहरों में अब भी काफी पुरानी कार या बाइक धड़ल्ले से चल रही हैं। दिल्ली जैसे बड़े शहरों में जिन लोगों की कार पुरानी हो जाती है, वे उसे बिहार-यूवी के दूर-दराज गावों से आए खरीददारों को अपनी कार सस्ते दाम पर बेच देते हैं। हालांकि, आने वाले समय में इसपर सख्ती लगने की संभावना है।

संवादपत्र

संबंधित लेख