Proven Strategies to build wealth fast : अमीर बनना चाहते हैं? तेजी से संपत्ति बनाने के लिए इन 6 साबित रणनीतियों का पालन करें

अमीर बनने की यात्रा में 6 चरण होते हैं, जो कर लाभ वाले उत्‍पादों में निवेश करने के लिए बजट बनाने से शुरू होता है। हमने इस लेख में इन चरणों पर चर्चा की है।

proven Strategies to build wealth fast

कई लोग यह जानने के लिए उत्‍सुक होते हैं कि अमीर कैसे बनें, खासतौर पर जब वे अमीर और सफल लोगों को देखते हैं या उनके बारे में पढ़ते हैं। लेकिन लोगों को यह समझना चाहिए कि अमीर बनना और संपत्ति बनाना रातो-रात नहीं हो सकता है जब तक वह लॉटरी नहीं जीतता है या विरासत में एक बड़ी रकम नहीं मिलती है। यह एक ऐसी यात्रा है जिसकी आपको चरणबद्ध तरीके से योजना बनाने और कार्यान्वित करने की आवश्यकता होती है। यह लेख उन बुनियादी कदमों पर केंद्रित है जिनका आपको अपनी धन सृजन की यात्रा पर पालन करने की आवश्यकता होगी।

1) बजट बनाएं - यह पूरी तरह से पैसे के प्रबंधन के बारे में है

बजट बनाना आपको सिखाता है कि पैसे का प्रबंधन कैसे किया जाता है। बजट बनाने की प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:

  • किसी अवधि (उदाहरण के लिए, मासिक, त्रैमासिक, वार्षिक, आदि) के लिए कुल आय और व्यय का मूल्‍यांकन करना
  • अपनी आय से विभिन्न बजटीय खर्चों के लिए धन का आवंटन।
  • अवधि के अंत में यह देखने के लिए समीक्षा करें (उदाहरण के लिए, हर महीने) कि क्या वास्तविक आय और व्यय बजटीय आय और व्यय के अनुसार थे।

बजट बनाने की प्रक्रिया आपको अपने फाइनेंस पर नियंत्रण रखने में मदद करती है। यह आपको उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद करती है जहां आप आवश्यकता से अधिक पैसा खर्च कर रहे हैं और उनमें कटौती कर सकते हैं। बजटिंग टालने योग्य खर्चों को समाप्त करके और इसे निवेश की ओर ले जाकर पैसे बचाने में मदद करता है। तो, बजट बनाना धन सृजन या अमीर बनने की आपकी यात्रा की दिशा में आपका पहला कदम है।

2) निवेश

एक बार जब आप बजट तैयार कर लेते हैं और आपके पास निवेश के लिए उपलब्ध नकदी प्रवाह पर स्पष्टता होती है और आप अपने वित्तीय लक्ष्यों के लिए निवेश करना शुरू कर सकते हैं। आप अपने रिटायरमेंट कॉर्पस में निवेश करके शुरुआत कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, करण 25 साल की उम्र में 5,000 रुपए की मासिक SIP शुरू करता है। यदि वह रिटायरमेंट तक इस SIP के साथ जारी रहता है, तो वह 35 वर्षों में 7.34 करोड़ रुपए जमा कर लेगा यदि रिटर्न की अपेक्षित दर 15% CAGR है। अगर वह हर साल SIP की रकम में 10% की बढ़ोत्तरी करता है, तो उसके पास 16.75 करोड़ रुपए जमा हो जाएंगे।

3) एक आपातकालीन फंड बनाएं और मेंटेन करें

आप अपने निवेश के साथ-साथ, अपने आपातकालीन फंड पर काम करना शुरू कर सकते हैं। आपको एक आपातकालीन फंड बनाना और मेंटेन करना चाहिए। हास्पिटल में भर्ती होने, नौकरी छूटने, वेतन में देरी, अस्थायी वेतन कटौती, एक नौकरी से दूसरी नौकरी बदलने आदि जैसी किसी भी अनपेक्षित या अप्रत्याशित आपात स्थिति के समय इसकी आवश्यकता होती है। आपातकालीन फंड होने से समय से पहले निकासी या निवेश के रिडेम्पशन की संभावना कम हो जाती है।

आपातकालीन फंड में राशि 3-6 महीने की आय के बराबर होनी चाहिए। इस राशि को डेट म्यूचुअल फंड जैसे लिक्विड म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। कुछ लिक्विड फंड कुछ नियमों और शर्तों के अधीन, IMPS के माध्यम से तत्काल रिडेम्पशन की सुविधा देते हैं।

4) स्वयं और अपनी संपत्ति को सुरक्षित रखें

वित्तीय स्वतंत्रता की अपनी यात्रा पर, आपके लिए स्वयं और अपनी संपत्ति की अच्छी देखभाल करना आवश्‍यक है। परिवार के सभी कमाने वाले सदस्‍यों के लिए पर्याप्त जीवन बीमा होना आवश्यक है। स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर आपको अपने स्वास्थ्य का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए। हम में से बहुत से लोग धन कमाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, लेकिन इस प्रक्रिया में, हम अपने स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। यह विडंबना ही होगी यदि आप अपने स्वास्थ्य का त्याग करके जीवन में जल्दी और ज्यादा धन कमा लेते हैं लेकिन जब आप बुढ़े होते हैं, तो आप अपने स्वास्थ्य को सही रखने के लिए उसी धन को खर्च करने के लिए मजबूर होते हैं।

एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने के साथ-साथ, आपके पास बैकअप के रूप में स्वास्थ्य बीमा होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि आपने फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस प्लान के तहत पूरे परिवार के लिए पर्याप्त मात्रा में स्वास्थ्य बीमा में निवेश किया है। अंत में, आपको अपने घर, वाहन और अन्य एसेट्स के लिए पर्याप्त जनरल इंश्‍योरेंस लेना चाहिए।

5) उचित एसेट एलोकेशन की आदत डालें

अब जब आपका बजट, आपातकालीन फंड और बीमा व्यवस्थित हो गया है, तो यह समय अपने वित्तीय लक्ष्यों के लिए बचत और निवेश पर ध्यान केंद्रित करने का है। ऐसा करते समय, उचित एसेट एलोकेशन करना महत्वपूर्ण है। एसेट एलोकेशन प्रक्रिया में पैसे को इक्विटी, डेट, सोना, रियल एस्‍टेट, आदि जैसे विविध एसेट क्‍लास में निवेश करना शामिल है। एसेट एलोकेशन विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है जैसे कि किसी व्यक्ति की जोखिम प्रोफ़ाइल, आयु, वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए शेष समय, वित्तीय देनदारियां, आदि।

अपने वित्तीय लक्ष्यों के लिए निवेश करते समय, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि निवेश के लिए चुने गए वित्तीय उत्पाद टैक्‍स बचाने वाले हों। कर देयता आपके कुल रिटर्न को कम कर सकते हैं। इसलिए कर नियोजन धन प्रबंधन का एक अहम हिस्सा है।

निवेश के समय, कई वित्तीय उत्पाद आपको आयकर अधिनियम के सेक्‍शन 80C के तहत कर योग्य आय से कटौती की सुविधा देते हैं। एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम कटौती की अनुमति निवेश की गई राशि या 1,50,000 रुपए में से जो भी कम हो वही होती है।

सेक्‍शन 80C के तहत कुछ वित्तीय उत्पाद नीचे सूचीबद्ध हैं::

  • इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम (ELSS)
  • पब्लिक प्रोवीडेंट फंड (PPF)
  • नेशनल पेंशन स्‍कीम (NPS)
  • कर्मचारी भविष्य निधि (EPF)
  • यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP)
  • बैंक या पोस्ट ऑफिस में 5 साल का फिक्स्ड डिपॉजिट

निवेश करते समय आपको उन वित्तीय उत्पादों को प्राथमिकता देनी चाहिए जो निवेश के समय आपको कर लाभ देते हैं, जहां रिटर्न भी टैक्‍स-फ्री होता है। उदाहरण के लिए, PPF, EPF और ULIP के साथ, रिटर्न कुछ नियमों और शर्तों के अधीन टैक्‍स-फ्री होते हैं। NPS के मामले में, निकाली जाने वाली एकमुश्त राशि (कम्यूटेशन) एक निश्चित सीमा तक टैक्‍स-फ्री होती है, और एन्‍यूटी टैक्‍सेबल होती है।

ELSS के मामले में, एक वित्तीय वर्ष में, पहले 1 लाख रुपए के दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (LTCG) पर छूट है। इंक्रीमेंटल LTCG पर बिना इंडेक्सेशन बेनिफिट के 10% टैक्स लगता है। 5 साल के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट के मामले में, ब्याज राशि कर योग्य होती है। इसलिए, निवेश उत्पाद चुनते समय कर लाभ और मेच्‍योरिटी/रिडम्‍प्‍शन के समय कर पहलुओं पर विचार करें।

धन सृजन की यात्रा: अच्‍छी शुरूआत आधा काम होता है

धन सृजन की यात्रा, या अमीर बनने की यात्रा लंबी और चुनौतीपूर्ण हो सकती है। हालाँकि, यदि आपने इसके लिए अच्छी तरह से योजना बनाई है तो आप सफलता के प्रति आश्वस्त हो सकते हैं। अब जब आप अमीर बनने के 6 चरणों से परिचित हैं, अब उन्हें लागू करने का समय आ गया है, साथ ही धन सृजन की अपनी यात्रा के बारे में दूसरे लोगों को भी बताएं।

संवादपत्र

संबंधित लेख