क्रिप्टो टैक्स से एक्सचेंजेस को कैसे फायदा हुआ

जब से भारत सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग से होने वाली कमाई पर कर लगाया है, बहुत से लोगों ने डिजिटल एसेट्स में निवेश करना शुरू कर दिया है। इसने डिजिटल एसेट्स के साथ डील करने वाले एक्सचेंजेस को एक नया बूस्‍ट दिया है।

4 तरीकें जिससे एक्सचेंजेस के लिए क्रिप्टो टैक्स फायदेमंद है

क्रिप्टो टैक्स से एक्सचेंजेस को कैसे फायदा हुआ

क्रिप्टोकरेंसी आधुनिक निवेश के एसेट्स हैं जो थोड़े समय में हैरान करने लायक रिटर्न प्रदान करने की क्षमता रखते हैं। इन निवेशों के बढ़ते ट्रैक्‍शन ने दुनिया भर की सरकारों को कर लगाने से लाभ प्राप्त करने के लिए आकर्षित किया है। कई देशों ने क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग और निवेश से होने वाले लाभ पर कर लगाए हैं। 2022 के बजट के दौरान, भारत सरकार ने भी कदम बढ़ाया और क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने और ट्रेडिंग से संबंधित नए टैक्‍सेशन स्लैब और कानून लागू किए।
भारत सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी, मेटावर्स में वर्चुअल रियल एस्टेट और यहां तक कि नॉन-फंजिबल टोकन (NFTs) जैसे वर्चुअल एसेट्स के क्रय और विक्रय से होने वाले लाभ पर 30% कर लगाया है। अभी तक, भारत में सैकड़ों क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजेस काम कर रहे हैं, और वे सभी नए कर से लाभान्वित होते दिख रहे हैं। इस पोस्ट में, हम बताएंगे कि भारत सरकार के इस नवीनतम कदम से एक्सचेंजेस को कैसे लाभ होगा।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/curious-about-crypto-follow-these-experts-article

आय में वृद्धि

जैसे ही सरकार क्रिप्टोकरेंसी पर कर लगाना शुरु करती है, बहुत से लोग आगे बढ़ेंगे और इन एसेट्स में ट्रेडिंग और निवेश करना शुरू करेंगे। क्रिप्टो से क्रिप्टो, क्रिप्टो से फिएट INR, और क्रिप्टो से अन्य विदेशी मुद्राओं के बीच ट्रांज़ैक्‍शन पर विभिन्न ट्रांज़ैक्‍शन चार्ज लगाए जाते हैं। आमतौर पर, क्रिप्टो एक्सचेंजेस अपने यूज़र्स को ट्रांज़ैक्‍शन की सुविधा देने के लिए ट्रांज़ैक्‍शन वैल्‍यू का 1% से 2% चार्ज करते हैं।
जैसे-जैसे उपयोग बढ़ेगा, एक्सचेंज का कमीशन भी बढ़ेगा, जिससे एक्सचेंज की अधिक आय होगी।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/stocks/leading-crypto-trading-platforms-india-article

वैधीकरण के संकेत

करों की शुरूआत ने लोगों को विश्वास दिलाया है कि क्रिप्टोकरेंसी जल्द ही वैध हो सकती है। 2022 के बजट से पहले, विशेषज्ञों, ट्रेडर्स और विश्लेषकों ने सोचा था कि सरकार 2022 के बजट में क्रिप्टो एसेट्स को वैध कर सकती है। लेकिन सरकार की दूसरी योजना थी। वर्तमान में, सरकार केवल इन एसेट्स पर इनकम टैक्‍स लगाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है, और इसने एक सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी शुरू करने का भी निर्णय लिया है।
भारत सरकार द्वारा ब्लॉकचेन तकनीक की खुली स्वीकृति ने एक बार फिर क्रिप्टोकरेंसी के वैधीकरण के संकेतों को हवा दी है। निकट भविष्य में, हम भारत में क्रिप्टोकरेंसी को वैध होते हुए देख सकते हैं, और वे देश में खुले तौर पर अन्य इंवेस्‍टमेंट एसेट्स के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/how-budget-2022-affects-your-crypto-investments-expert-article

अधिक लोगों के साइन अप करने से अधिक यूज़र डेटा

यूज़र डेटा हर व्यवसाय के लिए ईंधन होता है। भारतीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजेस पर साइन अप करने वाले ढेर सारे नए यूज़र्स के साथ, कंपनियों के पास विश्लेषण करने के लिए पहले से कहीं अधिक डेटा होगा।
भारत में एक्सचेंजेस न्‍यूनतम 100 रुपये में क्रिप्टो बाइंग सेवाएं दे रहे हैं, और इस कम कीमत ने इंडस्‍ट्री में अधिक लोगों को प्रेरित किया है। जैसे-जैसे अधिक लोग सेवाओं के लिए साइन अप करते हैं, एक्सचेंजेस उनके खरीदारी के व्यवहार और उन विशेषताओं को ट्रैक कर सकता है जिससे वे इंटरैक्ट करते हैं। व्यापक डेटा की उपस्थिति बाजार की गतिविधियों का विश्लेषण करने और अनुमान लगाने में एक्सचेंजेस की मदद कर सकती है और अपनी सेवाओं को प्रदान करने में काफी हद तक सुधार कर सकती है।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/stocks/planning-trade-cryptocurrencies-heres-how-read-crypto-charts-article

ट्रांज़ैक्शन को अच्‍छी तरह से ट्रैक करना

क्रिप्टोकरेंसी डोमेन में करों को लागू करने के पीछे का मुख्य कारण ट्रांज़ैक्शन को ट्रैक करना है। चाहे वह ट्रांज़ैक्शन पर 1% TDS हो या क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग या निवेश से लाभ पर 30% कर हो, ट्रैकिंग में सुधार करना ही एकमात्र उद्देश्य है।
जब लोग करों का भुगतान करते हैं, तो एक्सचेंजेस को उन्हें सरकार को प्रदान करने की आवश्‍यकता है, और इसके लिए, उन्हें प्रत्येक ट्रांज़ैक्‍शन को ट्रैक करने की आवश्यकता है। इसके अलावा, बैंक अकांउट और पैन कार्ड को सीधे लिंक होने के कारण सरकार और एक्सचेंजेस करों से ट्रांज़ैक्‍शन को बेहतर तरीके से ट्रैक कर सकते हैं।
एक्सचेंजेस को अब अंधेरे में काम करने की आवश्यकता नहीं है, और वे अब सभी ट्रांज़ैक्‍शन को काफी जल्‍दी पूरी तरह ट्रैक कर सकते हैं और मनी लॉन्ड्रिंग से निपटने में सरकार की मदद कर सकते हैं। 

निष्कर्ष

क्रिप्टोकरेंसी एक रोमांचक दुनिया है, और इस डोमेन में आप जो कुछ भी कर सकते हैं और एक्सप्लोर कर सकते हैं, उसका कोई अंत नहीं है। व्यापक अवसरों के कारण, एक्सचेंजेस इसमें शामिल हो रहे हैं और विभिन्न तरीकों से लाभान्वित हो रहे हैं। सुनिश्चित करें कि आप भी ट्रेन पर सवार हों और अपनी पसंद की क्रिप्टोकरेंसी में कुछ आशाजनक निवेश करें। 

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/how-choose-best-cryptocurrency-investment-article
 

क्रिप्टो टैक्स से एक्सचेंजेस को कैसे फायदा हुआ

क्रिप्टोकरेंसी आधुनिक निवेश के एसेट्स हैं जो थोड़े समय में हैरान करने लायक रिटर्न प्रदान करने की क्षमता रखते हैं। इन निवेशों के बढ़ते ट्रैक्‍शन ने दुनिया भर की सरकारों को कर लगाने से लाभ प्राप्त करने के लिए आकर्षित किया है। कई देशों ने क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग और निवेश से होने वाले लाभ पर कर लगाए हैं। 2022 के बजट के दौरान, भारत सरकार ने भी कदम बढ़ाया और क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने और ट्रेडिंग से संबंधित नए टैक्‍सेशन स्लैब और कानून लागू किए।
भारत सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी, मेटावर्स में वर्चुअल रियल एस्टेट और यहां तक कि नॉन-फंजिबल टोकन (NFTs) जैसे वर्चुअल एसेट्स के क्रय और विक्रय से होने वाले लाभ पर 30% कर लगाया है। अभी तक, भारत में सैकड़ों क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजेस काम कर रहे हैं, और वे सभी नए कर से लाभान्वित होते दिख रहे हैं। इस पोस्ट में, हम बताएंगे कि भारत सरकार के इस नवीनतम कदम से एक्सचेंजेस को कैसे लाभ होगा।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/curious-about-crypto-follow-these-experts-article

आय में वृद्धि

जैसे ही सरकार क्रिप्टोकरेंसी पर कर लगाना शुरु करती है, बहुत से लोग आगे बढ़ेंगे और इन एसेट्स में ट्रेडिंग और निवेश करना शुरू करेंगे। क्रिप्टो से क्रिप्टो, क्रिप्टो से फिएट INR, और क्रिप्टो से अन्य विदेशी मुद्राओं के बीच ट्रांज़ैक्‍शन पर विभिन्न ट्रांज़ैक्‍शन चार्ज लगाए जाते हैं। आमतौर पर, क्रिप्टो एक्सचेंजेस अपने यूज़र्स को ट्रांज़ैक्‍शन की सुविधा देने के लिए ट्रांज़ैक्‍शन वैल्‍यू का 1% से 2% चार्ज करते हैं।
जैसे-जैसे उपयोग बढ़ेगा, एक्सचेंज का कमीशन भी बढ़ेगा, जिससे एक्सचेंज की अधिक आय होगी।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/stocks/leading-crypto-trading-platforms-india-article

वैधीकरण के संकेत

करों की शुरूआत ने लोगों को विश्वास दिलाया है कि क्रिप्टोकरेंसी जल्द ही वैध हो सकती है। 2022 के बजट से पहले, विशेषज्ञों, ट्रेडर्स और विश्लेषकों ने सोचा था कि सरकार 2022 के बजट में क्रिप्टो एसेट्स को वैध कर सकती है। लेकिन सरकार की दूसरी योजना थी। वर्तमान में, सरकार केवल इन एसेट्स पर इनकम टैक्‍स लगाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है, और इसने एक सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी शुरू करने का भी निर्णय लिया है।
भारत सरकार द्वारा ब्लॉकचेन तकनीक की खुली स्वीकृति ने एक बार फिर क्रिप्टोकरेंसी के वैधीकरण के संकेतों को हवा दी है। निकट भविष्य में, हम भारत में क्रिप्टोकरेंसी को वैध होते हुए देख सकते हैं, और वे देश में खुले तौर पर अन्य इंवेस्‍टमेंट एसेट्स के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/how-budget-2022-affects-your-crypto-investments-expert-article

अधिक लोगों के साइन अप करने से अधिक यूज़र डेटा

यूज़र डेटा हर व्यवसाय के लिए ईंधन होता है। भारतीय क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजेस पर साइन अप करने वाले ढेर सारे नए यूज़र्स के साथ, कंपनियों के पास विश्लेषण करने के लिए पहले से कहीं अधिक डेटा होगा।
भारत में एक्सचेंजेस न्‍यूनतम 100 रुपये में क्रिप्टो बाइंग सेवाएं दे रहे हैं, और इस कम कीमत ने इंडस्‍ट्री में अधिक लोगों को प्रेरित किया है। जैसे-जैसे अधिक लोग सेवाओं के लिए साइन अप करते हैं, एक्सचेंजेस उनके खरीदारी के व्यवहार और उन विशेषताओं को ट्रैक कर सकता है जिससे वे इंटरैक्ट करते हैं। व्यापक डेटा की उपस्थिति बाजार की गतिविधियों का विश्लेषण करने और अनुमान लगाने में एक्सचेंजेस की मदद कर सकती है और अपनी सेवाओं को प्रदान करने में काफी हद तक सुधार कर सकती है।

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/stocks/planning-trade-cryptocurrencies-heres-how-read-crypto-charts-article

ट्रांज़ैक्शन को अच्‍छी तरह से ट्रैक करना

क्रिप्टोकरेंसी डोमेन में करों को लागू करने के पीछे का मुख्य कारण ट्रांज़ैक्शन को ट्रैक करना है। चाहे वह ट्रांज़ैक्शन पर 1% TDS हो या क्रिप्टोकरेंसी की ट्रेडिंग या निवेश से लाभ पर 30% कर हो, ट्रैकिंग में सुधार करना ही एकमात्र उद्देश्य है।
जब लोग करों का भुगतान करते हैं, तो एक्सचेंजेस को उन्हें सरकार को प्रदान करने की आवश्‍यकता है, और इसके लिए, उन्हें प्रत्येक ट्रांज़ैक्‍शन को ट्रैक करने की आवश्यकता है। इसके अलावा, बैंक अकांउट और पैन कार्ड को सीधे लिंक होने के कारण सरकार और एक्सचेंजेस करों से ट्रांज़ैक्‍शन को बेहतर तरीके से ट्रैक कर सकते हैं।
एक्सचेंजेस को अब अंधेरे में काम करने की आवश्यकता नहीं है, और वे अब सभी ट्रांज़ैक्‍शन को काफी जल्‍दी पूरी तरह ट्रैक कर सकते हैं और मनी लॉन्ड्रिंग से निपटने में सरकार की मदद कर सकते हैं। 

निष्कर्ष

क्रिप्टोकरेंसी एक रोमांचक दुनिया है, और इस डोमेन में आप जो कुछ भी कर सकते हैं और एक्सप्लोर कर सकते हैं, उसका कोई अंत नहीं है। व्यापक अवसरों के कारण, एक्सचेंजेस इसमें शामिल हो रहे हैं और विभिन्न तरीकों से लाभान्वित हो रहे हैं। सुनिश्चित करें कि आप भी ट्रेन पर सवार हों और अपनी पसंद की क्रिप्टोकरेंसी में कुछ आशाजनक निवेश करें। 

यह भी पढ़ें: https://www.tomorrowmakers.com/other-investments/how-choose-best-cryptocurrency-investment-article
 

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख