स्टुडेंट लोन से जुड़े 3 ज़रूरी सुझाव

अपने स्टुडेंट लोन का सही तरह से प्रबंध करने और बिना तनाव के उसे वापस चुकाने के लिए इन आसान सुझावों पर ध्यान दें

ways to avoid taking education loan

आज के दौर में बेहतर शिक्षा लेना हर किसी के लिए बहुत ज़रूरी हो गया है। अच्छी शिक्षा से ना केवल व्यक्तित्व का विकास होता है बल्कि ज़िंदगी को देखने का नज़रिया भी व्यापक हो जाता है। लेकिन देश हो या विदेश, हर जगह पढ़ाई बहुत मंहगी होती जा रही है। इस कारण बहुत से छात्र पढ़ाई का खर्च पूरा करने के लिए एजुकेशन लोन लेते हैं। 

विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए बहुत ज़्यादा ट्यूशन फीस चुकानी पढ़ती है इसलिए स्टूडेंट लोन लेने से बहुत मदद मिल जाती है। हालांकि इस लोन को चुकाते समय आपको काफी पैसा ब्याज़ के तौर पर चुकाना होगा। कर्ज़ की मासिक किश्तों का आपके बजट पर बहुत प्रभाव पड़ेगा और आपको हर महीने की किश्त चुकाने के लिए अपने बजट में काफी कटौती करनी होगी। 

स्टुडेंट लोन लेने से पहले कुछ विकल्पों पर नज़र डालें जिससे आप पढ़ाई के लिए कर्ज़ लेने से बच सकते हैं:

1. छात्रवृत्तियां

छात्रवृत्ति एक बेहतर विकल्प है। छात्रवृत्ति देने के लिए आपकी शिक्षा के साथ ही आपकी उपलब्धियों, प्रतिभा और रूचियों जैसी योग्यताओं को ध्यान में रखा जाता है। केन्द्र और राज्य सरकारें, पेशेवर संस्थान, स्थानीय व्यवसायी, बड़े कॉर्पोरेशन और विश्वविद्यालय इस तरह की छात्रवृत्तियां देते हैं। अलग-अलग छात्रवृत्तियों को देने के मानदंड अलग हो सकते हैं। विभिन्न डिग्रियों के लिए विशेष छात्रवृत्तियां होती हैं। कुछ विश्वविद्यालय खेलों के आधार पर भी छात्रवृत्ति देते हैं। इसे पाने के लिए केवल खेल में ही बेहतर होना काफी नहीं है बल्कि आपकी सामुदायिक सेवा को भी देखा जा सकता है। छात्रवृत्तियां फेलोशिप्स की तरह ही होती हैं और आवेदन करने से पहले इनसे जुड़े मानदंडों के बारे में पूरी जानकरी कर लें। 

2. फीस में छूट

अगर आपको पढ़ाई की फीस में छूट मिल जाए तो बहुत सहायता मिल सकती है। आपको कम फीस में पढ़ाई करने का मौका मिल जाता है। लेकिन फीस छूट देने के हर विश्वविद्यालय के अपने मानदंड होते हैं। आवदेन करने से पहले जांच करें कि आप उन मानदंडों के दायरे में आते हैं या नहीं। आपकी पारिवारिक आय और वर्तमान वित्तीय स्थिति को देखते हुए आपके आवेदन पर विचार किया जाएगा।। फीस छूट के बहुत कम मामलों में ही पूरी फीस माफ होती है, ज़्यादातर मामलों में आपको फीस के एक हिस्से की छूट मिलती है और बची फीस का इंतजाम आपको खुद करना होता है।

3. अनुदान

बहुत से विश्वविद्यालय अनुदान देते हैं। इन्हें ‘गिफ्ट ऐड’ कहा जाता है क्योंकि इस पैसे को वापस नहीं चुकाना होता। ये योग्यता के आधार पर दिया जाता है। कुछ देशों में इसे ज़रूरत के आधार पर भी दिया जाता है। ये अनुदान आवेदक की आर्थिक स्थिति पर भी निर्भर करता है लेकिन इसमें दूसरी कई चीज़ों को भी ध्यान में रखा जाता है। अलग-अलग विश्वविद्यालयों और डिग्री कोर्स के हिसाब से अनुदान की राशि अलग-अलग हो सकती है। बहुत कम आय वाले छात्र के लिए अनुदान एक बेहतर विकल्प है।

एजुकेशन लोन का आवेदन करने से पहले ऊपर बताए विकल्पों पर ध्यान दें। पता करें कि क्या आप इनमें से किसी को पाने की योग्यता रखते हैं? अगर आपको ऊपर बताए विकल्पों में से किसी का फायदा मिल जाए तो आप बहुत पैसा बचा सकेंगे। कर्ज़ लेने पर आपको काफी पैसा ब्याज़ के तौर पर चुकाना पड़ता। छात्रवृत्ति या फीस छूट का आवेदन करने से पहले उसमें चुनें जाने के मानदंडों को ध्यान से ज़रूर पढ़ें। 

संबंधित लेख