शेयरों और सूचकांकों में एफएंडओ (F&O) क्या होते हैं?

फ्यूचर्स और ऑप्शन्स उन हेजर्स, स्पेक्यूलेटर्स, और आर्बिट्राज करने वालों के लिए डेरीवेटिव ट्रेडिंग का एक ज़रिया हैं जो जोखिम को मैनेज करते हैं और शेयर बाज़ारों और कमोडिटी एक्सचेंजों में स्टॉक और कमोडिटीज़ में व्यापार करके सट्टे का लाभ कमाते हैं.

शेयरों और सूचकांकों में एफएंडओ (F&O) क्या होते हैं

फ्यूचर्स और ऑप्शन्स दो अलग-अलग तरह के डेरीवेटिव कॉन्ट्रैक्ट हैं जिन्हें विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों और विभिन्न साधनों में किया जा सकता है. शेयर के लिए आप स्टॉक एक्सचेंज में फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स में ट्रेड कर सकते हैं, और कमोडिटीज़ (जैसे गोल्ड ऑप्शन्स कॉन्ट्रैक्ट) के लिए आप कमोडिटी एक्सचेंज में ट्रेड कर सकते हैं.  

फ्यूचर्स और ऑप्शन्स की मदद से शुरुआत में बहुत कम पूंजी लगाकर आप अच्छा-ख़ासा मुनाफ़ा कमा सकते हैं. आप बिना पज़ेशन (होल्ड) किए फ्यूचर्स और ऑप्शन्स में ट्रेड कर सकते हैं. यह आपको उन कमोडिटीज़ में भी ट्रेड करने देता है जिन्हें आप आम तौर पर खरीदने का प्लान नहीं बना रहे हैं. 

फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट: यह एक डेरीवेटिव कॉन्ट्रैक्ट है, जहाँ एक पार्टी, भविष्य में किसी अन्य पार्टी से कोई ख़ास एसेट खरीदने या बेचने के लिए सहमत होती है. इस कॉन्ट्रैक्ट में, एसेट की संख्या या वॉल्यूम, रेट, और लेनदेन की तारीख पर अग्रीमेंट के दिन आम सहमति दी जाती है. यह कॉन्ट्रैक्ट फ्यूचर प्राइस को फ्रीज़ कर देता है और फ्यूचर्स ट्रेडर को एसेट की कीमत में किसी भी प्रकार के ऐसे बदलाव से बचाता है जिससे उन्हें घाटा होने की संभावना हो. 

उदाहरण के लिए, कोई गोल्ड खरीदना चाहता है तो वह उसे बेचने वाले के साथ मिलकर फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट बना सकता है, ताकि गोल्ड की कीमत बढ़ने पर होने वाले नुकसान से बचा जा सके. ध्यान दें, कि गोल्ड खरीदने वाला कॉन्ट्रैक्ट की तारीख की समाप्ति से पहले फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट बेच सकता है.

मान लीजिए कि ऊपर दिए उदाहरण में गोल्ड खरीदने वाला 90 दिनों के बाद 1 किलो सोना खरीदने के लिए गोल्ड बेचने वाले के साथ एक फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट बनाता है. वे इस बात पर सहमत हुए हैं कि कॉन्ट्रैक्ट के लिए लागू गोल्ड रेट 5000 रुपये प्रति ग्राम होगा. इससे 90 वें दिन भी गोल्ड का रेट 5000 रुपये प्रति ग्राम ही रहेगा, भले ही बाज़ार में गोल्ड की वास्तविक कीमत कुछ भी हो. अगर 90 वें दिन तक गोल्ड की कीमत 5500 रुपये तक बढ़ जाती है, तो स्पेक्यूलेटर को 500 रुपये प्रति ग्राम का मुनाफ़ा होगा.  

ऑप्शन्स कॉन्ट्रैक्ट: एक ऑप्शन्स कॉन्ट्रैक्ट एक कॉल ऑप्शन या एक पुट ऑप्शन हो सकता है. एक कॉल ऑप्शन में, खरीदार को किसी ख़ास एसेट को किसी ख़ास कीमत और तारीख पर खरीदने का अधिकार मिलता है. फ्यूचर्स के विपरीत, यह खरीदने का वायदा (ऑब्लिगेशन) नहीं है. पुट ऑप्शन में, कोई व्यक्ति भविष्य में किसी एसेट को किसी ख़ास कीमत पर बेचने के लिए सहमत होता है. यह भी एक वायदा (ऑब्लिगेशन) नहीं है. 

एक कॉल ऑप्शन में, मान लीजिए कि आप किसी कंपनी के 100 शेयरों को किसी ख़ास तारीख पर 100 रुपये प्रति शेयर पर खरीदने के लिए सहमत हुए हैं. हालांकि, अगर शेयर की कीमत गिरकर 60 रुपये हो जाती है, तो उन्हें खरीदने पर आपको प्रति शेयर 40 रुपये का नुकसान होगा. हालांकि, आप शेयरों को नहीं खरीदना चुन सकते हैं और इसके बजाय नॉमिनल इनिशियल प्रीमियम देकर थोड़ा नुकसान झेल सकते हैं.

पुट ऑप्शन इसकी उलट स्थिति है, मान लीजिए कोई विक्रेता 60 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से शेयर बेचने के लिए सहमत हुआ है, लेकिन शेयर की कीमत बढ़कर 100 रुपये प्रति शेयर हो जाती है. तो ऐसे में, 40 रुपये प्रति शेयर के नुकसान पर शेयरों को बेचने के बजाय, विक्रेता शेयरों को नहीं बेचने का ऑप्शन चुन सकता है और इसके बजाय इनिशियल डिपॉज़िट का नुकसान उठा सकता है.!

एफएंडओ में कौन ट्रेड करता है?

एफ एंड ओ ट्रेडिंग का इस्तेमाल बाज़ार में हेज करने के लिए किया जाता है. हेजर्स अपने भविष्य के मुनाफ़ों और खर्चों को सुरक्षित करने के लिए एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट्स बनाते हैं. एग्रीकल्चरल कमोडिटीज़ के मामले में, किसान एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट्स के माध्यम से अपने प्रॉडक्ट की कीमत को सुरक्षित कर सकते हैं और प्रॉडक्ट का ज़्यादा सप्लाई होने की स्थिति में कीमत में गिरावट आने पर होने वाले नुकसान से बच सकते हैं. 

हेजर्स के अलावा, एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट्स में स्पेक्यूलेटर्स ट्रेडिंग में भी एसेट की बदलती कीमतों से मुनाफ़ा बन सकता है. स्पेक्यूलेटर्स भविष्य में बदलती कीमतों का अनुमान लगाते हैं और सट्टे में कमाने के उद्देश्य से एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट्स बनाते हैं. वे बाद की तारीख में बेचने के लिए कोई एसेट खरीद सकते हैं, जिसे डेरिवेटिव बाजार में शॉर्ट पोज़ीशन लेना कहा जाता है. यह पोज़ीशन तब ली जाती है जब वे भविष्य में कीमतें बढ़ने की भविष्यवाणी करते हैं. 

इसके अलावा, आर्बिट्राज करने वाले भी बाज़ार में कीमतों में आ रहे अंतर से मुनाफ़ा कमाने के लिए एफ एंड ओ कॉन्ट्रैक्ट बनाते हैं. इस तरह के अंतर बाज़ार की खामियों की वजह से होते हैं और इन्हें उस एसेट की “कॉस्ट्स ऑफ़ कैरी” के रूप में जाना जाता है.

एफएंडओ ट्रेडिंग

एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट्स को शेयरों के साथ-साथ कमोडिटीज में भी ट्रेड किया जा सकता है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में निवेशकों के ट्रेड करने के लिए निफ्टी 50 फ्यूचर्स और निफ्टी 50 ऑप्शन्स हैं. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में भी निवेश करने के लिए डेरीवेटिव सूचकांक हैं. भारत में स्टॉक एक्सचेंजों में लगभग नौ सूचकांक हैं जिनके माध्यम से फ्यूचर्स और ऑप्शन्स में 100 से भी ज़्यादा शेयरों में निवेश किया जा सकता है. इसके अलावा, जो निवेशक कमोडिटीज में ट्रेड करना चाहते हैं वे एमसीएक्स जैसे कमोडिटी एक्सचेंजों में एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट बना सकते हैं.

सट्टे या रिस्क मैनेज करने के उद्देश्य के लिए, एफएंडओ कॉन्ट्रैक्ट ट्रेडिंग की कुल लागत का एक हिस्सा लेकर बढ़िया मुनाफ़ा दिलाते हैं. चूंकि वे मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से रेगुलेट किए जाते हैं, इसलिए पार्टियों को उनके ट्रांसेक्शन सुरक्षित रहने का आश्वासन भी मिलता हैं. 




संबंधित लेख