बीमा के मध्यस्थ कौन होते हैं?

बीमा के मध्यस्थ कौन होते हैं? ये बीमा प्रदाता तथा उपभोक्ता के बीच की कड़ी की भूमिका निभाते हैं।

बीमा बाज़ार में मध्यवर्ती संस्थाओं की क्या भूमिका होती है?

बजट व्याख्यान में ये घोषणा की गई कि अब विदेशी कंपनियों को बीमा मध्यस्थ संस्थाओं की सम्पूर्ण स्वामित्व प्राप्त करने की अनुमति होगी। अगर आप जानना चाहते हैं कि बीमा मध्यस्थ कौन होते हैं, तो आगे पढ़िए। 

बीमा मध्यस्थ कौन होते हैं?

बीमा को एक जटिल प्रक्रिया समझा जाता है और बीमा प्रदाता के लिए ये पूरी तरह से संभव नहीं कि वह बीमा सेवा सम्बंधित सभी बिक्री एवं प्रशासन की प्रक्रियाओं की निगरानी कर सकें। बीमा मध्यस्थ बीमा प्रदाता तथा उपभोक्ता के बीच की कड़ी की भूमिका निभाते हैं। वे बीमा एजेंट या दलाल के रूप में बीमा की बिक्री का भाग हो सकते हैं, या क्लेम प्रक्रिया में सर्वेक्षक के रूप में या फिर 3rd पार्टी प्रशासक के रूप में भी हो सकते हैं। आइये हम मध्यस्थ संस्थाओं के इन सभी रूपों की विस्तार से चर्चा करते हैं।

एजेंट कौन होते हैं?

एजेंट वह व्यक्ति या संस्था होती हैं जो बीमा प्रदाता कंपनी के प्रतिनिधि बन कर उनके बीमा व्यवसाय को बढ़ाते हैं। व्यवसाय का सम्बन्ध पालिसी नवीकरण और पुनर्प्रारंभ करना या नयी पालिसी की बिक्री भी हो सकता है। वह एजेंट जो जीवन बीमा तथा सामान्य बीमा दोनों का प्रतिनिधित्व करता है, उसे संयुक्त बीमा एजेंट कहा जाता है।

बीमा दलाल कौन होते हैं?

बीमा दलाल IRDAI द्वारा अधिकृत वो व्यक्ति होता है जो कि बीमा प्रदाता तथा उपभोक्ता के बीच बीमा समझौता करवाता है। एक दलाल कई बीमा कंपनियों का प्रतिनिधित्व कर सकता है।

एक दलाल एजेंट से कैसे भिन्न है?

एक एजेंट को किसी एक ही खंड की एक बीमा कंपनी का प्रतिनिधित्व करने की अनुमति है; जैसे की सिर्फ जीवन, सिर्फ सामान या फिर दोनों का प्रतिनिधत्व। पर दो सामान्य बीमा कंपनियों का प्रतिनिधित्व नहीं। जबकि एक दलाल अनेक सामान्य और जीवन बीमा कंपनियों का प्रतिनिधित्व कर सकता है।

IRDAI सामान्य बीमा या जीवन बीमा या दोनों के लिए एजेंट और दलाल दोनों को ही लाइसेंस प्रदान करती है। उनको फिर IRDAI  द्वारा निर्धारित आचार संहिता के नियमों का पालन करना होता है।

ये याद रखना महत्वपूर्ण है कि दोनों ही एजेंट और दलाल आपकी बीमा पालिसी की देय किश्तों पर छूट नहीं दे सकता है । ऐसा कोई भी प्रस्ताव इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 41 के विरुद्ध है। केवल एक बीमा कंपनी ही किश्तों पर छूट दे सकती है और वो बीमा पालिसी एवं शर्तों के अनुसार होना चाहिए।

सर्वेक्षक कौन होते हैं?

एक सर्वेक्षक अथवा क्षति का आंकलन करने वाले का कार्य बीमा धारक की किस हद तक क्षति हुई है, इसका निर्धारण करना होता है। जब कोई क्षतिग्रस्त घटना घटती है, तो ऐसा ज़रूरी नहीं कि बीमा प्रदाता और उपभोक्ता वास्तविक क्षति पर सहमत हो। एक स्वतंत्र सर्वेक्षक दोनों की सहमति करवाता है। एक सर्वेक्षक बनने के लिए उस व्यक्ति या संस्था को IRDAI के द्वारा निर्धारित मापदंडों के अनुसार होना होता है। सर्वेक्षण के विभिन्न प्रकार के अनुसार मापदंडों में बदलाव होता है। जैसे कि, मोटर बीमा के सर्वेक्षक को यांत्रिकी या ऑटोमोबाइल इंजीनियर होना आवश्यक है। जबकि मरीन बीमा के सर्वेक्षक को मरीन इंजीनियर या नेवल आर्किटेक्ट होना ज़रूरी है। अगर हुई क्षति का दावा मोटर बीमा में 50,000 से ज़्यादा और अन्य बीमा में १ लाख से ज़्यादा हो, तभी सर्वेक्षक प्रतिनिधित्व माँगा जाता है। इन सीमाओं की समीक्षा और पुनर्निर्धारण हर्र ३ साल में IRDAI द्वारा किया जाता है।

3rd पार्टी सर्वेक्षक (TPA) कौन होते हैं?

TPA, IRDAI द्वारा लाइसेंस प्राप्त एक ऐसी संस्था होती है जो क्षतिपूर्ति के दावों पर उचित कार्यवाही करती है तथा नकदीरहित की सुविधा प्रदान करती है। बीमा कंपनियां अपने ग्राहक के दावों का जल्दी निपटारा करने के लिए दावा प्रबंधन और संबधित पहलुओं के लिए TPA को नियुक्त करते हैं। वह बीमा प्रदाता, बीमा धारक एवं सेवा प्रदाता (जैसे की स्वास्थ्य बीमा के लिए अस्पताल या मोटर बीमा के लिए मैकेनिक) के बीच मध्यस्थ का काम करते हैं । वैसे तो TPA दावा प्रक्रिया के विभिन्न पहलुओं पर काम कर सकते हैं पर उनकी मुख्य ज़िम्मेदारी नकदीरहित सेवा प्रदान करने की होती है - नकदीरहित अस्पताल में भर्ती।

वर्तमान में IRDAI द्वारा परिभाषित यही मुख्य प्रकार के बीमा मध्यस्थ हैं। बीमा व्यवसाय की उन्नति पर और भी मध्यस्थ जोड़े जा सकते हैं। बीमा व्यवसाय सम्बन्धी सेवाओं के मानकीकरण में मध्यस्थों का अमूल्य योगदान होता है जिससे कि कई बीमा प्रदाताओं को बेहतर दक्षता भी प्राप्त होती है। साथ ही साथ वह भारत जैसे विस्तृत बाज़ार में बीमा सेवाओं की पहुंच को बढ़ाते हैं। जानिए की term plan क्या होता है। और देखिये कि उसकी कार्यवाही को आसान करने में मध्यस्थों की क्या भूमिकका होती है।

संबंधित लेख

 

Most Shared