IPO bandwagon: प्रोपर्टी डेवलपर्स IPO बैंडवैगन की ओर क्‍यों भाग रहे हैं

साल 2021 में, कंपनियों ने IPO के माध्‍यम से रिकॉर्ड 1.19 लाख करोड़ रुपए जुटाए थे। क्या 2022 एक नया रिकॉर्ड बनाने वाला वर्ष होगा? इसके अलावा, क्या रियल एस्टेट कंपनियां भी IPO पार्टी में शामिल होंगी?

प्रोपर्टी डेवलपर्स

लगभग एक साल पहले, अप्रैल 2021 में, मैक्रोटेक डेवलपर्स (जिसे पहले लोधा डेवलपर्स के नाम से जाना जाता था) 486 रुपए के इश्यू प्राइस पर IPO के साथ आया था। शेयर 10% के डिस्‍काउंट पर 439 रुपए पर लिस्‍ट हुआ। लेकिन पिछले एक साल में शेयर की कीमत दोगुने से अधिक 1000 रुपए से ज्‍यादा हो गई। रियल एस्टेट क्षेत्र में सकारात्मक सेंटीमेंट को देखते हुए, कई डेवलपर्स 2022 में अपने IPO की योजनाओं को रिवाइव करने की योजना बना रहे हैं।

रियल एस्टेट कंपनियों के शेयर की कीमतों को कौन सी चीज प्रेरित कर रही है?

हाउसिंग डेवलपर मैक्रोटेक डेवलपर्स के अलावा, अन्य सूचीबद्ध रियल एस्टेट कंपनियों, जैसे ओबेरॉय रियल्टी, प्रेस्टीज एस्टेट्स, DLF, आदि के शेयर की कीमतों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है। आइए हम रियल एस्टेट कंपनियों के शेयर की कीमतों में तेज़ी लाने वाले कुछ कारकों पर नज़र डालते हैं।

a) रिकॉर्ड बिक्री: नाइट फ्रैंक इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में रियल एस्टेट की आवासीय बिक्री साल-दर-साल 51% बढ़कर 2,32,903 यूनिट हो गई। ऐसा लगता है कि रियल एस्टेट का इन्‍वेस्‍टमेंट साइकल सकारात्मक हो गया है।

b) अनुकूल बाजार की स्थिति: कम ब्याज दरों, RERA इम्प्लिमेंटेशन, डिस्पोजेबल आय में वृद्धि, संपत्ति की स्थिर कीमतें, इनकम टैक्‍स इंसेंटिव्‍स आदि जैसे कई कारकों के संयोजन ने रियट स्‍टेट की बिक्री को बढ़ाया है। अधिक बिक्री से लिस्‍टेड रियल एस्टेट कंपनियों के कैश फ्लो में वृद्धि हुई है और बेहतर लाभ मिला है, जिससे उनके शेयर की कीमतों में तेजी आई है।

रियल एस्टेट कंपनियां IPO की योजना क्यों बना रही हैं?

यहां कुछ कारण बताए गए हैं कि क्यों प्रोपर्टी डेवलपर्स IPO लाने की योजना बना रहे हैं:

a) कुल मिलाकर बाजार में तेजी : कुल मिलाकर, पिछले दो वर्षों से पूंजी बाजार में तेजी रही है। अनिश्चित समय या प्रतिकूल घटनाओं जैसे कि वर्तमान रूस-यूक्रेन युद्ध और US फेड द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि के दौरान भी, सेंसेक्स और निफ्टी अपने ऑल-टाइम हाई लेवल्‍स के 10% के भीतर हैं।

b) 2021 में रिकॉर्ड फंडरेजिंग: IPO मार्केट के सेंटीमेंट काफी मजबूत रहे हैं। लाइवमिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में 63 कंपनियों ने IPO के माध्‍यम से कुल 1.19 लाख करोड़ रुपए जुटाए थे और 2022 भी IPO के लिए एक अच्छा साल होने की उम्मीद है।

c) ऑल-टाइम हाई पर रिटेल सहभागिता: कुल मिलाकर, देश में डीमैट अकाउंट्स 8 करोड़ से अधिक हो गए हैं। CDSL में 6 करोड़ से अधिक डीमैट अकाउंट्स हैं, और NSDL में लगभग 2.6 करोड़ अकाउंट्स हैं। IPO में रिटेल इंवेस्‍टर्स भारी संख्‍या में भाग लेते हैं। 2021 में कई IPO बहुत अधिक ओवरसब्सक्राइब हुए।

d) लिस्‍टेड रियल एस्टेट कंपनियों ने अच्छा प्रदर्शन किया है: उच्च बिक्री और बेहतर लाभप्रदता के दम पर, 2021 में लिस्‍टेड रियल एस्टेट कंपनियों के शेयर ने अच्छा प्रदर्शन किया।

रियल एस्टेट कंपनियां इसी साल में IPO लाने की योजना बना रही हैं

कुछ डेवलपर्स जो 2022 में अपना IPO लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं, उनमें निम्‍नलिखित शामिल हैं:

  • NCR-बेस्‍ड सिग्नेचर ग्लोबल
  • कल्पतरु
  • पुराणिक बिल्डर्स
  • सूरज एस्टेट डेवलपर्स

रियल एस्टेट फर्म के अलावा, अन्य क्षेत्रों की कई ऐसी कंपनियों की एक लंबी सूची है जो 2022 में IPO के साथ आने की योजना बना रही हैं। इसलिए, 2022 की भी 2021 के समान ही आशाजनक वर्ष होने की उम्मीद की जाती है।

निष्‍कर्ष

एक निवेशक के रूप में, आपको कंपनी के फंडामेंटल के आधार पर हर एक रियल एस्टेट IPO का मूल्यांकन करना होगा। अगर कंपनी के फंडामेंटल्‍स अच्छे हैं, तो आपको IPO की प्राइसिंग, पीयर वैल्यूएशन, सेक्टर वैल्यूएशन आदि को ध्यान में रखते हुए वैल्यूएशन पर विचार करना होगा। अंत में, कंपाउंडिंग की शक्ति का लाभ उठाने के लिए हमेशा लंबी अवधि के लिए IPO में निवेश करें।

संवादपत्र

संबंधित लेख