Zomato shares future prediction: ढाई महीने में 62% बढ़े जोमैटो के शेयरों के भाव

ढाई महीने में 62% बढ़े जोमैटो के शेयरों में आगे और तेजी आने की उम्मीद है।

जोमैटो के शेयरों

Zomato shares expected growth: इस साल 27 जुलाई को जोमैटो के शेयरों की कीमत 40.55 रुपए थी, मगर कल यानी 11 अक्टूबर को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में यही शेयर 65.60 रुपए के स्तर पर बंद हुए हैं। विश्लेषकों का कहना है कि जोमैटो के शेयरों में अभी 91 प्रतिशत तक की तेजी और आ सकती है। पिछले ढाई महीने में जोमैटो के शेयरों के भाव 62 प्रतिशत बढ़ चुके हैं। बाजार के विश्लेषकों का मानना है कि सितंबर की तिमाही में, जोमैटो का घाटा तिमाही के साथ-साथ सालाना आधार पर भी कम हो सकता है। पिछले 52 हफ्ते की जोमैटो के शेयरों की उच्चतम कीमत 169.10 रुपए रही है। सितंबर की तिमाही में इसका घाटा कम होकर लगभग 150 करोड़ रुपए तक रह सकता है।

यह भी पढ़ें: बजाज फाइनेंस की उड़ान

जोमैटो के बारे में बाजार के विश्लेषकों की राय

जोमैटो ने अगस्त में ब्लिनकिट को पूरी तरह से अधिगृहीत कर लिया है। ब्रोकरेज हाउस एडलवाइस का विचार है कि सितंबर की तिमाही में जोमैटो का प्रमुख घाटा 165.20 करोड़ रुपए तक रह सकता है। कंपनी का तिमाही राजस्व 50 प्रतिशत बढ़कर 1538 करोड़ रुपए तक पहुंच सकता है। विश्लेषकों का कहना है कि फूड डिलीवरी बिजनेस मार्जिन के उच्च योगदान और बेहतर राजस्व मिश्रण की वजह से इबिट्डा लॉस में कमी आनी चाहिए। कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज का कहना है कि सितंबर 2022 तिमाही में जोमैटो का घाटा घटकर 149.20 करोड़ रुपए तक रह सकता है। जून 2022 की तिमाही में यह घाटा 185.70 करोड़ रुपए और एक साल पहले की इसी अवधि में 435.10 करोड़ रुपए था। ब्रोकरेज हाउस का कहना है कि जोमैटो की बिक्री में 48.2 प्रतिशत तक की बढ़त हो सकती है और यह 1517.90 करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है। एक साल पहले की इसी अवधि में इसकी बिक्री केवल 1024.20 करोड़ रुपए की थी। बिजनेस टुडे की एक रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है। ब्रोकरेज हाउसेज 125 रुपए तक का टारगेट प्राइस रखा है।

जेएम फाइनेंशियल कहते हैं कि सितंबर की तिमाही में जोमैटो का घाटा 151.40 करोड़ रुपए रह सकता है। जेएम फाइनेंशियल ने जोमैटो के शेयरों को 125 रुपए का लक्ष्य मूल्य दिया है। कोटक जोमटो की फेयर वैल्यू 90 रुपए मानता है। जबकि, एडलवाइस ने जोमैटो की वैल्यू 80 रुपए रखी है। आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने 28 सितंबर से जोमैटो का कवरेज शुरू किया है और इसने जोमैटो को 90 रुपए का टारगेट प्राइस दिया है। कुल मिलाकर अधिकांश ब्रोकरेज हाउस का यही मानना है कि जोमैटो के शेयरों में आगे और तेजी आ सकती है।

यह भी पढ़ें: RBI की नीति समीक्षा FD कैसे प्रभावित करती है

Zomato shares expected growth: इस साल 27 जुलाई को जोमैटो के शेयरों की कीमत 40.55 रुपए थी, मगर कल यानी 11 अक्टूबर को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में यही शेयर 65.60 रुपए के स्तर पर बंद हुए हैं। विश्लेषकों का कहना है कि जोमैटो के शेयरों में अभी 91 प्रतिशत तक की तेजी और आ सकती है। पिछले ढाई महीने में जोमैटो के शेयरों के भाव 62 प्रतिशत बढ़ चुके हैं। बाजार के विश्लेषकों का मानना है कि सितंबर की तिमाही में, जोमैटो का घाटा तिमाही के साथ-साथ सालाना आधार पर भी कम हो सकता है। पिछले 52 हफ्ते की जोमैटो के शेयरों की उच्चतम कीमत 169.10 रुपए रही है। सितंबर की तिमाही में इसका घाटा कम होकर लगभग 150 करोड़ रुपए तक रह सकता है।

यह भी पढ़ें: बजाज फाइनेंस की उड़ान

जोमैटो के बारे में बाजार के विश्लेषकों की राय

जोमैटो ने अगस्त में ब्लिनकिट को पूरी तरह से अधिगृहीत कर लिया है। ब्रोकरेज हाउस एडलवाइस का विचार है कि सितंबर की तिमाही में जोमैटो का प्रमुख घाटा 165.20 करोड़ रुपए तक रह सकता है। कंपनी का तिमाही राजस्व 50 प्रतिशत बढ़कर 1538 करोड़ रुपए तक पहुंच सकता है। विश्लेषकों का कहना है कि फूड डिलीवरी बिजनेस मार्जिन के उच्च योगदान और बेहतर राजस्व मिश्रण की वजह से इबिट्डा लॉस में कमी आनी चाहिए। कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज का कहना है कि सितंबर 2022 तिमाही में जोमैटो का घाटा घटकर 149.20 करोड़ रुपए तक रह सकता है। जून 2022 की तिमाही में यह घाटा 185.70 करोड़ रुपए और एक साल पहले की इसी अवधि में 435.10 करोड़ रुपए था। ब्रोकरेज हाउस का कहना है कि जोमैटो की बिक्री में 48.2 प्रतिशत तक की बढ़त हो सकती है और यह 1517.90 करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है। एक साल पहले की इसी अवधि में इसकी बिक्री केवल 1024.20 करोड़ रुपए की थी। बिजनेस टुडे की एक रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है। ब्रोकरेज हाउसेज 125 रुपए तक का टारगेट प्राइस रखा है।

जेएम फाइनेंशियल कहते हैं कि सितंबर की तिमाही में जोमैटो का घाटा 151.40 करोड़ रुपए रह सकता है। जेएम फाइनेंशियल ने जोमैटो के शेयरों को 125 रुपए का लक्ष्य मूल्य दिया है। कोटक जोमटो की फेयर वैल्यू 90 रुपए मानता है। जबकि, एडलवाइस ने जोमैटो की वैल्यू 80 रुपए रखी है। आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने 28 सितंबर से जोमैटो का कवरेज शुरू किया है और इसने जोमैटो को 90 रुपए का टारगेट प्राइस दिया है। कुल मिलाकर अधिकांश ब्रोकरेज हाउस का यही मानना है कि जोमैटो के शेयरों में आगे और तेजी आ सकती है।

यह भी पढ़ें: RBI की नीति समीक्षा FD कैसे प्रभावित करती है

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख