नैशनल पेंशन स्कीम से कितने रिटर्न की अपेक्षा की जानी चाहिए?

निवेशकों को एनपीएस के इक्विटी स्कीमों से अपनी अपेक्षाओं को कम करना चाहिए।

नैशनल पेंशन स्कीम से कितने रिटर्न की अपेक्षा की जानी चाहिए?

वैसे लोग जिन्होंने नैशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) को सब्सक्राइब किया है वे बहुत खुश हैं: इसकी इक्विटी स्कीम बेंचमार्क इंडेक्स के साथ रफ्तार बनाए रखा जिससे पिछले वर्ष में 23% का रिटर्न मिला है। 

एनपीएस टियर-I अकाउंट के अंतर्गत स्कीम ई द्वारा पोस्ट किया गया डबल डिजिट ग्रोथ न केवल इस अवधि में बीएसई सेंसेक्स की 24% की वृद्धि के समान है, बल्कि यह सामान्य रूप से टियर-I और टियर-II दोनों अकाउंट्स द्वारा पोस्टेड अविश्वसनीय रिटर्न्स को भी दर्शाता है।

इतना ही नहीं, सभी पेंशन फंड मैनेजर द्वारा भी इक्विटी और डेट स्कीम्स से डबल-डिजिट रिटर्न प्रदान किया गया: टियर-I अकाउंट में एचडीएफसी पेंशन फंड ने 21.77% अर्जित किया, इसके बाद आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल पेंशन फंड ने 20.50% और आदित्य बिड़ला सन लाइफ ने 20.90% अर्जित किया। यहां तक कि टियर-I अकाउंट के स्कीम जी में एलआईसी पेंशन फंड का सबसे कम रिटर्न डबल डिजिट में था: 17.96%.

सभी गणना द्वारा, एनपीएस अभी एक आकर्षक निवेश विकल्प की तरह है। लेकिन क्या कोई व्यक्ति निकट भविष्य में भी इसी वृद्धि दर और रिटर्न की अपेक्षा कर सकता है? एनपीएस की भविष्य की संभावनाओं का अनुमान लगाने के लिए, आइए हम यह समझें कि यह किसलिए है और यह कैसे काम करता है।

एनपीएस को समझना

एनपीएस एक राज्य संबंधी पहल है जिससे 18 से 65 वर्ष के बीच के भारतीय नागरिकों की मदद की जाती है ताकि सेवानिवृत्ति के बाद की निधि जमा की जा सके; इसे विशेष रूप से यह सुनिश्चित करने के लिए तैयार किया गया है कि सब्सक्राइबर अपने बुढ़ापे में गरीबी का सामना न करे। एनपीएस पेंशन फंड रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीएफआरडीए) द्वारा नियंत्रित है, इसमें कुछ कर लाभ मिलते हैं।

श्रेणी:

एनपीएस को व्यापक रूप से दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है: टियर-I और टियर-II. पहले से अकाउंट होना अनिवार्य है। इसमें, निवेश 60 वर्ष की आयु तक लॉक रहता है, अर्थात यह श्रेणी रिटायरमेंट के के लिए। तीन वर्षों के बाद अधिक से अधिक 25% की निकासी की जा सकती है। दूसरी ओर टियर-II एक वॉलेंट्री अकाउंट है जिसमें निवेश पर कोई लॉक-इन नहीं है, इस प्रकार कोई व्यक्ति 60 वर्ष की आयु का होने से पहले भी धनराशि की निकासी कर सकता है।

एन्युइटी (वार्षिकी):

यदि आप एनपीएस में निवेश करते हैं, तो आपको 60 वर्ष की आयु के होने पर (अवधि समाप्त होने पर) अपने कॉर्पस के कम से कम 40% की एक एन्युइटी योजना अनिवार्य रूप से खरीदनी होगी; बाकी 60% को आप एकमुश्त निकाल सकते हैं जिसपर टैक्स नहीं लगता। हालांकि, यदि आप समय से पहले (60 वर्ष की आयु होने से पहले) बाहर निकल जाते हैं, तो आप अपने कॉर्पस का केवल 20% ही निकाल सकते हैं, जबकि बाकी के 80% से एक एन्युइटी प्लान खरीदनी होती है।

एन्युइटी यह सुनिश्चित करता है कि आपको एक निर्धारित अंतराल (प्राय: हर महीने) पर एक निश्चित धनराशि मिलती रहेगी जिससे आपको रिटायरमेंट के बाद लगातार आमदनी हो रहती है। यह आपको संपूर्ण धनराशि का अपव्यय करने से भी रोकता है। इस बात को ध्यान में रखें कि एन्युइटी प्लान पीएफआरडीए के साथ सूचीबद्ध 12 बीमा कंपनियों में से किसी एक से खरीदना होता है; ये पेंशन फंड मैनेजर से अलग होते हैं जिसके बारे में अगले खंड में बताया गया है।

इससे जुड़ी बातें: क्या एनपीएस आपके टैक्स प्लैनिंग के उलझनों में शामिल नहीं है? [प्रीमियम]

निवेश:

आपको इस बात का कुतुहल हो सकता है कि एनपीएस आपके पैसे को कहां निवेश करता है। एनपीएस द्वारा विभिन्न स्कीमों में निवेश किया जाता है। निवेश के लिए आठ अलग-अलग पेंशन फंड्स हैं और चार श्रेणीयां हैं। निवेशकों द्वारा चुनने जाने वाले सूचीबद्ध पेंशन फंड मैनेजर (पीएफएम) की सूची नीचे दी गई है:

  • एचडीएफसी पेंशन मैनेजमेंट कंपनी
  • आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी
  • कोटक महिंद्रा असेट मैनेजमेंट कंपनी
  • एलआईसी पेंशन फंड
  • एसबीआई पेंशन फंड
  • यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्युशन
  • बिड़ला सन लाइफ पेंशन मैनेजमेंट

प्रत्येक टियर में, निवेश की चार श्रेणियां हैं:

  • क्लास ई: इक्विटी (यह श्रेणी मार्केट-लिंक्ड है, इसलिए इसमें सबसे अधिक जोखिम है लेकिन उच्च रिटर्न की अधिक संभावना होती है)
  • क्लास सी: कॉरपोरेट डेट (इक्विटी की तुलना में कम जोखिम, किंतु कम रिटर्न)
  • क्लास जी: सरकारी प्रतिभूति (उपरोक्त की तरह)
  • क्लास ए: वैकल्पिक निवेश (परिसंपत्ति और आधारभूत संरचना परियोजनाओं जैसे विकल्प प्रदान करते हैं)

आपके पास निवेश करने के दो तरीके हैं: ऑटोमैटिक या ऐक्टिव।

  • ऑटो मोड: आप अपनी पसंद से ई, सी और जी विकल्प को मिक्स कर सकते हैं। इक्विटी के लिए अधिकतम स्वीकृत अलोकेशन है 75%; यह ऐसा स्कीम है जिसने चर्चा में उच्च रिटर्न प्रदान किया है। (नोट: क्लास ए विकल्प यहां उपलब्ध नहीं है)।
  • एक्टिव मोड: इस विधि में, निवेश की जोखिमों का निर्धारण करने के लिए विकल्प सब्सक्राइबर की आयु में मायने रखता है। यदि सब्सक्राइबर बुजुर्ग है, तो कम जोखिम और अधिक स्थिर निवेश चुना जाता है।

आप फंड मैनेजर भी चुनते हैं, लेकिन आपको एक से अधिक पीएफएम लेने की अनुमति नहीं होती, जैसे इक्विटी, कॉरपोरेट बॉन्ड्स और सरकारी बॉन्ड्स में से एक-एक ले सकते हैं। अपने सभी एनपीएस परिसंपत्तियों को मैनेज करने के लिए आप केवल एक पीएफएम चुन सकते हैं। इसमें आपके निवेश कौशल निहित हैं - अपने रिटर्न को अनुकूलित करने के लिए सही पीएफएम का चयन करना।

इससे जुड़ी बातें: ई-एनपीएस सब्सक्राइबर के लिए अब एग्जिट की प्रक्रिया आसान हो गई

बड़ा प्रश्न

यह हमें मूल प्रश्न पर वापस ले जाता है: अब तक हमें इस बात की अच्छी जानकारी मिल चुकी है कि एनपीएस आखिर है क्या और इसमें कौन सा निवेश होता है, क्या हम आगे भी उच्च विकास दर की अपेक्षा कर सकते हैं, और अपने निवेशों पर इसी तरह के रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं?

इस प्रश्न का समाधान करने के लिए, हमें सबसे पहले ध्यान में यह रखना चाहिए कि एनपीएस एक मार्केट-लिंक्ड उत्पाद है। इसलिए यदि एनपीएस पिछले वर्ष के दौरान अप्रत्याशित रूप से उच्च रिटर्न प्रदान किया है, तो यह स्कीम हमेशा मार्केट के उत्तर-चढ़ाव के प्रति संवेदनशील होती है। परिणामस्वरूप, यदि बाजार में गिरावट आती है तो रिटर्न कम हो जाता है। बिल्कुल, इसका दूसरा पक्ष भी है और रिटर्न अब तक पोस्ट किए गए रिटर्न की तुलना में अधिक हो सकते हैं।

जैसा कि इक्विटीज, एडेल्विस म्युचुअल फंड के सीईओ हर्ष पटवर्धन वैल्यू रिटर्न के साथ हुई बातचीत में कहते हैं, किसी व्यक्ति को इस बात का निर्णय लेते समय कि मौजूदा उछाल बना रहेगा या नहीं, इससे जुड़े जोखिमों को मानकर चलना चाहिए। “कोई व्यक्ति बाजार में किसी भी चीज के बारे में कभी भी सुनिश्चित नहीं हो सकता” उन्होंने कहा। “मैं बस यही कह सकता हूं कि वर्तमान में नकारात्मक की तुलना में सकारात्मक अधिक हैं, लेकिन हमें हमेशा बाजार के जोखिमों के प्रति सतर्क रहना चाहिए।”

इससे जुड़ी बातें: एनपीएस ने पिछले 5 वर्षों में कैसा परफॉर्म किया?

अंतिम शब्द

अंत में, हमें यह याद रखना चाहिए कि एनपीएस एक दीर्घ कालिक निवेश है और इसे इसी रूप में लिया जाना चाहिए। लघु कालिक रिटर्न वास्तव में हमारा फोकस नहीं होना चाहिए; हमें उच्च रिटर्न की चाह में इक्विटी से डेट इंस्ट्रूमेंट मेंभी शिफ्ट नहीं करना चाहिए। इसके बदले, विशेषज्ञ इस बात की सलाह देते हैं कि हम दीर्घ-कालिक लक्ष्य को देखें।

आपका दीर्घ कालिक लक्ष्य एनपीएस के जरिए आपके रिटायरमेंट के लिए सुरक्षित रहना चाहिए, और डबल-डिजिट रिटर्न का लक्ष्य न रखें। इसलिए, वास्तविक नजरिया अपनाने और एनपीएस के इक्विटी स्कीमों से अपनी अपेक्षाओं को कम रखने की सलाह दी जाती है।

संबंधित लेख