SCSS: सीनियर सिटीजन को सरकार का तोहफा, अब बुढ़ापे में मिलेगा ज्यादा फायदा!

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में अब वरिष्ठ नागरिक 30 लाख तक का निवेश कर सकेंगे। सरकार ने 15 लाख की तय सीमा को बढ़ाकर अब इसे 30 लाख तक कर दिया है।

senior citizen savings scheme, Small Saving Schemes, SCSS, budget 2023

Senior Citizen Savings Scheme: 60 साल से ऊपर वाले वरिष्ठ नागरिकों को सरकार ने इस बजट में एक बेहतरीन तोहफा दिया है, जिसके जरिए वरिष्ठ नागरिक अब ज्यादा बचत कर अधिक लाभ कमा सकेंगे। जी हां, हम बात कर रहे हैं सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की, जिसमें अब वरिष्ठ नागरिक 30 लाख तक का निवेश कर सकेंगे। सरकार ने 15 लाख की तय सीमा को बढ़ाकर अब इसे 30 लाख तक कर दिया है। इसमें वरिष्ठ नागरिक मिनिमम ₹1000 से लेकर ₹30 लाख तक की धनराशि 5 साल के भीतर जमा कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि यह सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम वरिष्ठ नागरिकों के लिए कितना बेहतर है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की शुरुआत

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की शुरुआत भारत के वरिष्ठ नागरिकों को एक सुरक्षित आय प्रदान करने के लिए शुरू की गई थी, जिससे वरिष्ठ नागरिकों अपने बुढ़ापे पर जमा राशि का लाभ उठा सकें। सरकार की यह योजना काफी सुरक्षित है और इस पर अधिकतम ब्याज मिलता है। 

इस योजना के फायदे 

वरिष्ठ नागरिकों को इस स्कीम के तहत वर्तमान में 8 फीसद का ब्याज मिलता है। इस स्कीम में निवेश करना सुरक्षित है और यह एक टैक्स सेविंग स्कीम है। आप इसे आसानी से कहीं भी ट्रांसफर भी करा सकते हैं। यह योजना लंबे समय के लिए बचत विकल्प प्रदान करती है। SCSS देश भर के डाकघरों और प्रमाणित बैंकों में उपलब्ध है। वरिष्ठ नागरिक आसानी से इसे डाकघर या बैंकों के माध्यम से शुरू कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस स्कीम में भी हुआ बदलाव

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (SCSS) के लिए जमा सीमा को दोगुना कर दिया है। वहीं, दूसरी ओर पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम में (POMIS) न्यू लिमिट सिंगल अकाउंट के लिए 4.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 9 लाख रुपये कर दिया है। वहीं, ज्वॉइंट अकाउंट के लिए 9 लाख से बढ़ाकर 15 लाख रुपये कर दिया है। बता दें कि सिर्फ 1000 रुपये में अकाउंट खोलकर आप पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम शुरू कर सकते हैं। 18 साल की उम्र पूरी कर चुका कोई भी व्यक्ति अकाउंट खुलवा सकता है।

 

Senior Citizen Savings Scheme: 60 साल से ऊपर वाले वरिष्ठ नागरिकों को सरकार ने इस बजट में एक बेहतरीन तोहफा दिया है, जिसके जरिए वरिष्ठ नागरिक अब ज्यादा बचत कर अधिक लाभ कमा सकेंगे। जी हां, हम बात कर रहे हैं सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की, जिसमें अब वरिष्ठ नागरिक 30 लाख तक का निवेश कर सकेंगे। सरकार ने 15 लाख की तय सीमा को बढ़ाकर अब इसे 30 लाख तक कर दिया है। इसमें वरिष्ठ नागरिक मिनिमम ₹1000 से लेकर ₹30 लाख तक की धनराशि 5 साल के भीतर जमा कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि यह सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम वरिष्ठ नागरिकों के लिए कितना बेहतर है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की शुरुआत

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की शुरुआत भारत के वरिष्ठ नागरिकों को एक सुरक्षित आय प्रदान करने के लिए शुरू की गई थी, जिससे वरिष्ठ नागरिकों अपने बुढ़ापे पर जमा राशि का लाभ उठा सकें। सरकार की यह योजना काफी सुरक्षित है और इस पर अधिकतम ब्याज मिलता है। 

इस योजना के फायदे 

वरिष्ठ नागरिकों को इस स्कीम के तहत वर्तमान में 8 फीसद का ब्याज मिलता है। इस स्कीम में निवेश करना सुरक्षित है और यह एक टैक्स सेविंग स्कीम है। आप इसे आसानी से कहीं भी ट्रांसफर भी करा सकते हैं। यह योजना लंबे समय के लिए बचत विकल्प प्रदान करती है। SCSS देश भर के डाकघरों और प्रमाणित बैंकों में उपलब्ध है। वरिष्ठ नागरिक आसानी से इसे डाकघर या बैंकों के माध्यम से शुरू कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस स्कीम में भी हुआ बदलाव

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (SCSS) के लिए जमा सीमा को दोगुना कर दिया है। वहीं, दूसरी ओर पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम में (POMIS) न्यू लिमिट सिंगल अकाउंट के लिए 4.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 9 लाख रुपये कर दिया है। वहीं, ज्वॉइंट अकाउंट के लिए 9 लाख से बढ़ाकर 15 लाख रुपये कर दिया है। बता दें कि सिर्फ 1000 रुपये में अकाउंट खोलकर आप पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम शुरू कर सकते हैं। 18 साल की उम्र पूरी कर चुका कोई भी व्यक्ति अकाउंट खुलवा सकता है।

 

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget