Tax benefits on Second home loan: दोहरा लाभ - आयकर में बचत के साथ-साथ संपत्ति सृजन

दूसरा होम लोन लेकर वेतन पर कटने वाले आयकर में कर सकते हैं बचत

होम लोन से इनकम टैक्स बचत

Tax benefits on Second home loan: मकान एक मूल्यवान संपत्ति है जिसके रहने की जगह मिलने के अलावा भी कई फायदे हैं। तो क्या आपने कभी दूसरा मकान खरीदने के बारे में सोचा है? अगर आपके पास संसाधन हैं, तो आपको दूसरी संपत्ति में निवेश करना चाहिए। लेकिन, मकान खरीदने से पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है और कुछ चुनाव भी करने होते हैं। कुछ सवाल अक्सर लोगों के मन में उठते हैं। जैसे कि, अगर अपने पहले मकान के लिए आप ईएमआई का भुगतान कर रहे हैं तो क्या दूसरे मकान के लिए लोन पाना आपके लिए आसान होगा? या फिर, क्या दूसरा मकान खरीदने से आपको टैक्स में कोई फायदा मिलेगा? सरल शब्दों में जवाब है कि दूसरा मकान खरीदना फायदेमंद हो सकता है। इससे आपको रहने के लिए अधिक आरामदायक जगह के साथ-साथ कर में छूट का लाभ भी मिल सकता है।

यह भी पढ़ें: कर-मुक्त बॉन्ड क्या है और कैसे काम करता है

दूसरे मकान के लिए लोन लेकर, कर में छूट कैसे और कितनी? 

आवासीय संपत्ति दो प्रकार की होती है - एक जिसमें आप खुद रहते हैं, और दूसरा जो किराये पर दिया हुआ है। इन दोनों पर कर से छूट पाने की योग्यता को समझने के लिए कुछ बातें समझना ज़रूरी है। जिस मकान का उपयोग आप अपने रहने के लिए करते हैं, उसे अन्य आवासीय संपत्ति से अलग रूप में पहचाना जाता है। दूसरे मकान को ‘किराए पर दिया हुआ’ माना जाता है। चाहे आप उसे किराए पर दें या न दें, उस पर टैक्स लगाया जाता है।

जिस मकान को आप निजी कब्जे वाला मानते हैं या जिसमें रहते हैं, उसका वार्षिक मूल्य शून्य है। इसलिए आपकी इस स्व-अधिकृत संपत्ति पर कर नहीं लगता है। हालांकि, किराये की आमदनी पर आपको कर देना होगा। आपके किराये के घर का वास्तविक किराया "घर की संपत्ति से राजस्व" शीर्षक के अंतर्गत कर योग्य होता है। आपका दूसरा मकान किराए पर न चढ़ा होने पर भी, इसे किराये पर दिया गया माना जाता है। ऐसी स्थिति में, एक अनुमानित किराए को ऐसी संपत्ति के लिए सकल कर योग्य किराया माना जाता है और उसी के अनुसार कर निर्धारित किया जाता है।

यहाँ, 80सी की कटौती के बारे में भी जान लेना ज़रूरी है। बंधक भुगतान के दो घटक हैं- मूलधन और ब्याज। धारा 80सी 1.5 लाख रुपये तक के मूलधन के पुनर्भुगतान पर कटौती की अनुमति देती है। दूसरे होम लोन पर कर में अधिकतम 1.5 लाख रुपये की छूट मिलेगी। यह भी ध्यान रखें कि पीपीएफ, ईएलएसएस आदि जैसे निवेश के साधन भी 80सी की कटौती में ही शामिल होंगे। अंत में, धारा 80सी दूसरे होम लोन पर आयकर लाभ के साथ, दूसरे और पहले होम लोन पर अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक के मूलधन के पुनर्भुगतान की अनुमति देता है। यह कटौती कई आवासीय संपत्तियों के लिए उपलब्ध है। 

जिन लोगों के पास दो मकान हैं, वे दूसरे होम लोन पर कर लाभ के पात्र हैं। लेकिन, अगर आपने अपने बंधक की कुल राशि का भुगतान कर दिया है, तो ऐसा कोई लाभ नहीं होगा। इसलिए स्पष्ट रूप से यह समझना ज़रूरी है कि किस तरह की आवासीय संपत्ति पर कर में लाभ मिलेगा और किस पर नहीं मिलेगा।

1. अगर आप अपने उपयोग के लिए एक से अधिक आवासीय संपत्ति रखते हैं, तो इन संपत्तियों में से एक को स्व-अधिकृत माना जाएगा और आयकर अधिनियम की आवश्यकताओं के अनुसार इसका वार्षिक मूल्य शून्य होगा।

2. अगर आप एक से अधिक घरों के मालिक हैं, तो आप दो "स्व-अधिकृत संपत्तियों" में से एक को अपने पास रखने का विकल्प चुन सकते हैं। अधिनियम के अनुसार, शेष घरों को किराये पर चढ़ा हुआ माना जाएगा और आपकी कर योग्य आय भी अनुमानित किराये की राशि के बराबर बढ़ जाएगी।

3. अगर आप दूसरा मकान किराए या पट्टे पर देने के लिए खरीदते हैं, तो आपको मिलने वाला वास्तविक किराया कुछ प्रतिबंधों के अधीन आपकी कर योग्य आय का हिस्सा माना जाएगा, यानी कि आपको उस पर कर देना होगा। 

4. जहां तक नगर निगम करों के लिए कटौती की बात है, भारत में जिस वित्तीय वर्ष में इन करों का भुगतान किया जाता है, उस वर्ष के लिए स्थानीय निकाय को किए गए भुगतान अर्थात् नगरपालिका कर को दूसरे गृह ऋण के कर लाभ के रूप में अनुमति दी जाती है।

5. निर्माणाधीन घर के लिए लिए गए दूसरे होम लोन पर पांच साल के लिए कर लाभ मिलेगा। निर्माण के पहले के चरण में भुगतान किए जाने वाले ब्याज का 20 प्रतिशत कटौती के योग्य होगा।

यह भी पढ़ें: संपत्ति के बदले कर्ज लेना क्या है

Ultimate Income Tax Saving and Tax Planning Guide

संवादपत्र

संबंधित लेख