Income tax planning : कर नियोजन करने के दौरान इन 5 गलतियों से बचना चाहिए

इन गलतियों से बचकर सूझबूझ वाले निर्णयों और आर्थिक जानकारी के माध्यम से कर नियोजन को सुनिश्चित करें।

5 mistakes to avoid while tax planning

नियमित जीवन की हड़बडी में, कई लोग कर नियोजन में शामिल कुछ आवश्यक वित्तीय रणनीतियों की अनदेखी करते हैं। उदाहरण के लिए, वे किसी सुबह उठकर यह अहसास कर सकते हैं कि दस्तावेज़ीकरण प्रक्रिया को पूरा करने का अब समय ही नहीं बचा है। अंतिम समय पर योजना करने में अक्सर त्रुटिया हो सकती है और व्‍यक्ति की वित्तीय वृद्धि और कर बचत को प्रभावित कर सकती है।

ऐसी स्थितियों से बचने के लिए निम्नलिखित गलतियों से सचेत रहें और उनसे बचना सीखें।

1. टैक्‍सेशन की पर्याप्त जानकारी न होना

किसी भी निवेश से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए, इसके बारे में थोड़ा ज्ञान प्राप्त करना उचित है। नहीं, आपको टैक्‍स एक्‍सपर्ट होने की जरूरत नहीं है। लेकिन आपको बुनियादी बातों से खुद को शिक्षित करना चाहिए ताकि आप किसी भी गलत निवेश घोषणा पत्र का उपयोग या खुलासा न करें। आखिरकार, आप कर बचत निवेश कर रहे हैं और इसका आपकी वित्तीय वृद्धि पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ेगा। शुरुआत के लिए, अपने खाली समय में कुछ टैक्‍स आर्टिकल पढ़ें। आप कुछ ही महीनों में देखेंगे कि आपका आत्मविश्वास बढ़ गया है।

2. योजना बनाने के लिए अंतिम समय तक इंतज़ार करना

एक बड़ी गलती जो कई लोग करते हैं, वह यह है कि अपने कर नियोजन के लिए वित्तीय वर्ष की अंतिम तिमाही तक इंतजार करना। इस जल्दबाजी में, आप शीघ्र सलाह के लिए किसी पर भरोसा कर सकते हैं और गलत निर्णय ले सकते हैं। हो सकता है कि जो आपके मित्र के लिए सही हो वह आपके लिए उचित न हो। वित्तीय वर्ष की शुरुआत से ही कर नियोजन में सक्रिय रहें और सोच-समझकर निर्णय लें।

3. अपने वित्तीय लक्ष्यों के लिए एक पारदर्शी रणनीति न होना

एक सतत करदाता के रूप में, केवल कर कटौती के लिए योजना न बनाएं। अपने वित्तीय लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करें और अपनी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए योजना बनाएं - जैसे कि आपकी सेवानिवृत्ति, आपके बच्चे की शिक्षा या शादी, या अपने सपनों का घर बनाना। ऐसा करने में विफल होने से आपका निवेश आपकी व्यक्तिगत बैलेंस शीट में एक यादृच्छिक मद बन सकता है। इसलिए, पर्सनल फाइनेंस के बारे में जानें, अपने वित्तीय लक्ष्यों के लिए एक निवेश सूची तैयार करें और केवल अपने लक्ष्यों के अनुसार ही निवेश करें।

4. अपर्याप्त जानकारी के साथ टैक्‍स-इनिफिशंट उत्पादों में निवेश

एक बार जब आप अपने वित्तीय लक्ष्यों के बारे में स्पष्ट हो जाएं, तो निम्नलिखित विशिष्टताओं की तुलना में वित्तीय साधनों की प्रासंगिक विशेषताओं के बारे में भी स्वयं को शिक्षित करें:

  • लिक्विडिटी: लॉक-इन पिरीयड, आप अपना पैसा कब और कैसे निकाल सकते हैं, और इसमें शामिल पेनल्‍टी चार्जेस के बारे में पता करें।
  • जोखिम: कुछ निवेश जोखिम भरे लग सकते हैं, लेकिन यहां तक कि मुद्रास्फीति की स्थिति में भी, वे अक्सर आपको मैच्योरिटी के समय बेहतर रिटर्न देते हैं।
  • टैक्‍सबिलिटी: आयकर कटौती, जल्दी निकासी की टैक्‍सबिलिटी, मैच्‍योरिटी की प्रक्रिया, टैक्‍स स्लैब आदि के बारे में पता करें।

5. टैक्स सेविंग के पुराने तरीकों पर आश्रित न हों

आलसी न बनें और टैक्‍स सेविंग के उन पारंपरिक और पुराने तरीकों का अनुसरण न करें जो आपके माता-पिता या दादा-दादी ने किया था। वर्तमान वित्तीय परिदृश्य उनसे काफी अलग है। इन दिनों, मुद्रास्फीति काबू से बाहर है और नौकरी की सुरक्षा अब तक के सबसे निचले स्तर पर है। इसलिए, उन नवीनतम अवसरों के बारे में ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करें जो आपको बेहतर रिटर्न दे सकते हैं।

जैसे ही नया वित्तीय वर्ष शुरू होता है, सुनिश्चित करें कि आपके पैसों के मामलों को सावधानीपूर्वक कर नियोजन और समझदारी भरे निवेश के साथ सुलझाया जाता है।

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख