Property tax has been waivered for Mumbaikars. Check this out to know more.

ठीक तरीके से कर का भुगतान न करने पर आप मुसीबत में आ सकते हैं। यह एक जुर्म है और सरकारी अधिकारियों द्वारा निर्धारित कानून को तोड़ने, कुछ कानूनी परिणाम लाने की व्‍याख्‍या करता है।

मुंबई वासियों के लिए प्रॉपर्टी टैक्‍स पर छूट

मुंबई नगर निगम, जिसे बीएमसी के नाम से जाना जाता है, की हाल की घोषणा ने प्रॉपर्टी टैक्‍स के लंबे समय से बकाया धन के इतिहास पर प्रकाश डाला है। 100% प्रॉपर्टी टैक्‍स की छूट सुनकर कई लोगों के लिए यह राहत की बात थी; छूट के तहत आने वाली एकमात्र शर्त यह है कि आपके घर का माप 500 वर्ग फुट कार्पेट एरिया से अधिक नहीं होना चाहिए।
अगर आप 500 वर्ग फुट तक के कार्पेट एरिया वाले घर में रहते हैं, तो आपको आपके प्रॉपर्टी टैक्‍स पर 100% की छूट मिलती है। लगभग 1.5 मिलियन लोगों को इस घोषणा से फायदा होगा। यह घोषणा वर्ष 2022-2023 के लिए बीएमसी के वार्षिक बजट में की गई थी। हालांकि, प्रॉपर्टी टैक्‍स के बारे में जानने के लिए कुछ चीजें हैं। तो आइए, इस लेख में उनके बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं।

1. प्रॉपर्टी टैक्‍स क्या है, और इसे क्यों संगृहीत किया जाता है?

प्रॉपर्टी टैक्‍स कर का एक रूप है जिसे स्थानीय नगर निगमों द्वारा सड़कों, सीवर सिस्‍टम के रखरखाव और शहर के बुनियादी पहलुओं को बनाए रखने के लिए संगृहीत किया जाता है। 

प्रॉपर्टी टैक्‍स प्रत्‍येक रीज़न के लिए समान नहीं होता है। यह अलग-अलग शहरों के लिए अलग-अलग होता है। यह मुख्य रूप से उस क्षेत्र में संपत्तियों की दर के कारण भिन्न होता है। यह संपत्ति से जुड़ी सड़क और संपत्ति की उम्र पर भी निर्भर करता है।

यह भी पढ़ें: प्रॉपर्टी टैक्‍स का ऑनलाइन भुगतान कैसे करें | Tomorrowmakers

2. प्रॉपर्टी टैक्‍स की गणना करने के तरीके:

मुंबई में कैपिटल वैल्‍यू सिस्‍टम प्रॉपर्टी टैक्‍स की गणना के लिए इस्तेमाल की जाने वाली विधि है। इस विधि में, टैक्‍स की गणना संबंधित संपत्ति के बाजार मूल्य के अनुसार की जाती है। संपत्ति की दर उसके प्रकार के अनुसार भी भिन्न होती है। आवासीय संपत्ति की मार्केट वैल्‍यू कमर्शियल संपत्ति के मूल्य से अलग होगी।
नागपुर नगर निगम यूनिट एरिया सिस्टम की प्रणाली का पालन करता है। संपत्ति के वार्षिक मूल्य ने कर की दर को बढ़ा दिया है, और प्रॉपर्टी टैक्‍स की अंतिम राशि को तदनुसार बिल किया जाता है। दिल्ली उसी का पालन करती है, लेकिन दिल्ली में वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक विशेष रियायत है। वरिष्ठ नागरिकों, पूर्व-सेना अधिकारियों और शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए 30% की छूट है। 

चेन्नई नगर निगम एनुअल रेंटल वैल्‍यू सिस्‍टम की पद्धति का पालन करती है। कर संपत्ति के आस-पास की सुविधाओं, यह जिस क्षेत्र से संबंधित है, और उस क्षेत्र में सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं पर निर्भर करता है। 
प्रॉपर्टी टैक्‍स का संग्रह भी क्षेत्र दर क्षेत्र भिन्‍न होता है। कुछ स्थानों पर, इसे अर्ध-वार्षिक रूप से संगृहीत किया जाता है, और कुछ क्षेत्रों में, इसे वार्षिक रूप से संगृहीत किया जाता है।

यह भी पढ़ें: संयुक्त रूप से स्वामित्व वाली संपत्ति पर कर का प्रभाव

3. क्या होता है जब आप प्रॉपर्टी टैक्‍स का भुगतान नहीं करते हैं?

प्रॉपर्टी टैक्‍स का भुगतान न करने से आप किसी परेशानी में पड़ सकते हैं। इसे एक अपराध माना जाता है और सरकारी प्राधिकरण द्वारा निर्धारित नियमों और विनियमों को तोड़ना, कुछ कानूनी परिणाम लाता है। यदि आपका प्रॉपर्टी टैक्‍स लंबे समय से बकाया है, तो सबसे पहली चीज़ जो होती है वह यह है कि बकाया राशि में जुर्माना शुल्क जोड़ा जाता है। यदि आप इसे अभी भी बकाया रखते हैं, तो इसमें ब्याज राशि जोड़ी जाती है, और यह तब तक जुड़ती रहती है जब तक आप बकाया राशि का भुगतान नहीं करते हैं। चरम मामलों में निगम नीलामी का नोटिस भी जारी कर सकता है। 
नगर निगम डिस्ट्रेस वारंट भी जारी कर सकता है और संबंधित राशि की वसूली के लिए चल वस्तुओं को बेच सकता है। निगम संपत्ति को भी बेच सकता है, और इस समय के दौरान किसी अन्य पार्टी को संपत्ति का ट्रांसफर करना प्रतिबंधित है। आप अपनी संपत्ति तब तक नहीं बेच सकते जब तक अपना बकाया कर नहीं चुकाते हैं। यहां तक कि बैंक तब तक लोन मंजूर नहीं करता जब तक कि आप नई प्रॉपर्टी टैक्‍स की रसीद जमा नहीं करते हैं, जो सरकार को चुकाए गए कर का सबूत है।

इसलिए, यदि आपका घर 500 वर्ग फुट से अधिक है और आप अपनी संपत्ति को खोना नहीं चाहते हैं या अतिरिक्त जुर्माना शुल्क और ब्याज का भुगतान नहीं करना चाहते हैं, तो इसकी वजह से होने वाली किसी और परेशानी से बचने के लिए आपको प्रॉपर्टी टैक्‍स का भुगतान करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: अपनी संपत्ति बेच रहे हैं? अपनी संपत्ति का सर्वोत्तम मूल्य प्राप्त करने के लिए इन रणनीतियों का उपयोग करें।
 

संवादपत्र

संबंधित लेख