गेम्‍स में असली पैसे जीते हैं? आपको कर देना होगा या क्‍या आपको पता है कि आप कानूनी और सुरक्षित तरीके से गैम्‍बलिंग(जुआ) खेल सकते हैं?|Taxation, regulations on money earned through online games

जब आप अपने पसंदीदा गेम्‍स में असली पैसे कमाते हैं, तो आप अपनी जीत में से कितना पैसा घर लाने की उम्‍मीद करते हैं? क्‍या भारत में ऑनलाइन और ऑफलाइन गैम्‍बलिंग(जुआ) पर कोई कर लगता है? क्या ऑनलाइन गेमर्स को अपनी जीत पर टैक्स देना अनिवार्य है? पता लगाने के लिए पढ़ना जारी रखें।

गेम्‍स में असली पैसे जीते हैं? आपको कर देना होगा या  क्‍या आपको पता है कि आप कानूनी और सुरक्षित तरीके से गैम्‍बलिंग(जुआ) खेल सकते हैं?

गेमिंग लाखों लोगों के बीच वायरल हो गया है और स्मार्टफोन, टैबलेट और सस्ती डेटा योजनाओं को व्यापक रूप से अपनाने के कारण इसमें भारी वृद्धि देखी गई है। वर्तमान में, भारत में ऑनलाइन गेमिंग उद्योग के लगभग 300 मिलियन उपयोगकर्ता होने का अनुमान है।

भारत में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के कारण और देशव्यापी लॉकडाउन के परिणामस्वरूप, गेमिंग कंपनियों ने नए पंजीकरणों में भारी वृद्धि देखी है। शुद्ध परिणाम? भारत में ऑनलाइन गेमिंग की लोकप्रियता में आश्चर्यजनक वृद्धि हुई है।

गेमिंग से पैसा कमाना

जहां कुछ गेम रोमांच के लिए खेले जाते हैं, वहीं कुछ गेम पैसे जीतने का भी मौका देते हैं। हालांकि भारत में ऑनलाइन गेमिंग से संबंधित कानून और नियम अभी भी स्पष्ट नहीं हैं, लेकिन अब भारतीय गेमर्स के लिए कानूनी और सुरक्षित रूप से गैम्‍बलिंग(जुआ खेलना) संभव है, जबकि मुनाफा कमाने और अतिरिक्त पैसा कमाने का मौका भी मिल रहा है।

भारत में कानून, कौशल के खेल और संयोग के खेल, जैसे rummy या poker, या कानूनी या गैर-कानूनी गेम्‍स के बीच अंतर नहीं करता है। ग्रे एरिया होने के बावजूद इसे कर के दायरे से छूट नहीं मिली है। 

जैसा कि ऑनलाइन गेमिंग घर बैठे पैसे जीतने का अवसर प्रदान करता है, इसलिए कई लोग पेशेवर गेमर बनने के लिए आकर्षित हो रहे हैं। यह युवा पीढ़ी के लिए फुलटाइम गेमर बनने के लिए एक प्रमुख प्रोत्साहन भी रहा है।

गेम्‍स पर आयकर की पहेली

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां या कैसे गैम्बलिंग(जुआ खेलते) करते हैं, आपको अपनी जीत पर कर का भुगतान करना होता है। आपको अपनी आयकर विवरणी दाखिल करते समय गेमिंग से अतिरिक्त आय की घोषणा करनी होगी, और उसके अनुसार कर लगाया जाएगा। गेमर की कर विवरणी दाखिल करते समय गेमिंग से आय की सूचना देनी होगी।

सामान्य नियम के रूप में, ऑनलाइन सट्टेबाजी या कैसीनो में जुआ(गैम्‍बलिंग) की गतिविधियों से अर्जित सभी आय और जीत पर बिना उपकर के और मूल छूट सीमा को ध्यान में रखे बिना फ्लैट 30% कर लगेगा। 4% उपकर जोड़ने के बाद, भारत में कैसीनो और जुआ से सभी आय के लिए अंतिम कर की दर 31.2% है। यह सरकार के लिए अतिरिक्त राजस्व का एक रमणीय स्रोत है।

  • 30% - फ्‍लैट दर से कर
  • 31.2% - उपकर के बाद शुद्ध टैक्‍स दर
  • ₹10,000 से उपर- स्रोत पर कर कटौती

अन्‍य स्रोतों से आय

ऑनलाइन गेम खेलने के दौरान अर्जित आय पर आयकर अधिनियम, 1961 के अनुभाग 115BB के तहत कर लगता है, और इस पर शीर्ष 'अन्य स्रोतों से आय' के तहत कर लगाया जाता है। यह अनुभाग निर्दिष्ट करता है कि लॉटरी, क्रॉसवर्ड पज़ल्स, रेस बेटिंग, कार्ड गेम्‍स जैसे अंदर बाहर, तीन पत्ती, और प्रतिष्ठित ऑनलाइन कैसीनो प्लेटफार्मों पर ऑनलाइन रमी के साथ-साथ किसी भी प्रकार या प्रकृति के जुए या सट्टेबाजी से कोई भी जीत इस दायरे में आती है।

किसी व्यक्ति की कुल आय पर ध्‍यान दिये बिना, कर के नियम ऑनलाइन गेमिंग से जीत पर भी लागू होता है, और कोई छूट लागू नहीं होती है।

ऑनलाइन गेम्‍स जिनसे आप असली पैसे कमा सकते हैं

  • Poker
  • Rummy
  • Cricket
  • Football
  • Quizzes
  • Battleground games 
  • MPL
  • Dream11
  • My11circle
  • PayTM First Games 

गेमिंग ऐप्‍स/साइट्स

Zapak, Miniclip, Shockwave, Gamesonline और Agame जैसी कई गेमिंग वेबसाइट हैं जो एक मनोरंजक एकल और बहु-खिलाड़ी अनुभव प्रदान करने वाले गेम्‍स का एक विशाल संग्रह प्रदान करती हैं। उच्च गुणवत्ता वाला गेमिंग का अनुभव लेने के लिए आप इनमें से किसी एक ऐप या साइट को आज़मा सकते हैं। लोकप्रिय श्रेणियां एक्शन, एडवेंचर, कार्ड्स, बोर्ड, जिग्स, म्यूज़िक, पज़ल, रेसिंग, शूटर, स्पोर्ट्स, स्ट्रैटेजी और वर्ड गेम्स आदि हैं। गेम्‍स का यह अंतहीन संग्रह नियमित आधार पर अपडेट किया जाता है।

केस स्‍टडी

आइए एक उदाहरण लेते हैं। यदि किसी व्यक्ति की वार्षिक आय 1.5 लाख रुपये है, और वे ऑनलाइन गेमिंग से ₹50,000 कमाते हैं, तो उनकी कुल आय 2 लाख रुपये है, जो कि 2.5 लाख रुपये की छूट सीमा से कम है। हालांकि, व्यक्ति को अभी भी  ₹50,000 पर उपकर सहित 31.2% कर का भुगतान करना पड़ता है।

₹10,000 से अधिक की जीत के मामले में, पुरस्कार राशि का वितरण करने वाली संस्था, जीती गई राशि को वितरित करने से पहले, आईटी अधिनियम के अनुभाग 194B के अनुसार, स्रोत पर कर काटेगी, और प्राप्तकर्ता को अपना वार्षिक आयकर विवरणी दाखिल करते समय राशि का खुलासा करना होगा।

स्रोत पर कर कटौती

गेमिंग ऑपरेटर्स 30% टीडीएस(TDS) चार्ज करते हैं। यह एक सामान्य प्रथा है जिसका पालन भारत में कौशल वाले गेम ऑफर करने वाली साइ द्वारा किया जाता है, और इसका उस व्यक्ति की आयकर विवरणी में खुलासा करने की आवश्यकता होती है। इसका मतलब है कि गेमर्स को अब ऑनलाइन जीत पर टैक्स का पता लगाने और भुगतान करने के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है।

कोई छूट नहीं

आयकर अधिनियम के अनुभाग 80C के तहत आय पर कटौती का लाभ नहीं मिलेगा। इस तरह की जीत की पूरी राशि पर निवेश, घर के किराए, चिकित्सा बीमा और अन्य में से किसी भी कटौती पर छूट के बिना पूरी तरह से कर लगेगा। ऑनलाइन गेमिंग के मामले में जीती गई पुरस्कार राशि के खिलाफ दावा किए जाने वाले खर्च पर कोई कटौती नहीं लागू होती है।

आय कराधान पर प्रत्यक्ष अधिभार

गैम्‍बलिंग(जुए) से आय पर सार्वभौमिक 30% कराधान के अलावा, अलग-अलग आय समूहों के आधार पर कुछ अधिभार और कर की शर्तें हैं:

  • 50 लाख रुपये से अधिक की जीत या गैम्‍बलिंग(जुए) की कमाई पर 10% अधिभार लगता है, जो सामान्य कर दर पर लागू होता है, जिससे यह कुल 33% हो जाता है।
  • 1 करोड़ रुपये से अधिक की गेमिंग आय पर सामान्य कर दर के 15% का अधिभार लगता है, जो इसे प्रभावी रूप से बढ़ाकर कुल 34.5% कर देता है।
  • स्वास्थ्य और शिक्षा उपकर के लिए 4% अधिभार लगाया जाता है। इसे देय कर में जोड़ा जाता है और यह आय पर निर्भर नहीं करता है, और इसका उपयोग स्वास्थ्य और शिक्षा में राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के वित्तपोषण के लिए किया जाता है। यह आयकर का भुगतान करने के लिए जिम्‍मेदार सभी व्यक्तियों द्वारा देय होता है।

अप्रत्‍यक्ष कर

क्या गैम्‍बलिंग(जुए) से होने वाली आय पर कोई अप्रत्यक्ष कर है? सभी मनोरंजन कार्यक्रमों और सेवाओं, लि‍स्टिंग कैसीनो, रेस कोर्स और संबंधित सेवाओं की विशेष रूप से परिभाषित श्रेणी पर जीएसटी(GST) लगाया जाता है। इन सभी पर 28% की दर से कर लगाया जाता है। हालांकि, यह एक अप्रत्यक्ष कर है जो आपके द्वारा खेले जाने वाले अंतिम उत्पाद में पहले से ही शामिल होता है।

वस्‍तु के रूप में जीतना

वस्तु के रूप में प्राप्त जीत के मामले में, कर की दर वस्तु के रूप में प्राप्त पुरस्कार के बाजार मूल्य पर लागू होगी। विजेता को पुरस्कार हस्तांतरित करने से पहले पुरस्कार वितरक को कर काटना होगा।

गेमर द्वारा घोषित करना 

भारत में अधिकतर लोकप्रिय ऑनलाइन बेटिंग साइट सख्त केवाईसी(KYC) मानदंडों का पालन करती हैं और PAN और बैंक स्टेटमेंट के माध्यम से पैसे के स्रोतों को सत्यापित करती हैं। यदि कोई ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म ऑनलाइन कैसीनो से जीत की राशि के पूर्ण भुगतान का वादा करता है, तो इसका मतलब है कि सही वार्षिक कर फ़ॉर्म के माध्यम से अपनी पारी की घोषणा करना गेमर की ज़िम्मेदारी है। उपरोक्त मामले में, जीत को 'अन्य स्रोतों से आय' के रूप में घोषित करना खिलाड़ी की जिम्मेदारी है। जीतने वाली राशि स्वीकार करने के बाद, यदि गेमर अपनी आयकर विवरणी दाखिल करते समय इसे घोषित नहीं करता है, तो इसके कारण जीत के कराधान पर जांच करने के लिए, उसे अधिकारियों और आयकर विभाग से कानूनी नोटिस प्राप्त हो सकते हैं।

जिम्‍मेदारी से खेलना

यहां सलाह दी गई है: जिम्मेदारी से खेलने का मतलब जीत पर अपने करों का भुगतान करना भी है। इसलिए, हमेशा समय पर करों का भुगतान करने का नियम बनाएं, भले ही आप जिम्मेदारी से सट्टेबाजी कर रहे हों, और वर्ष के अंत में अपनी विवरणी दाखिल करते हैं। यह आपको चीजों को कानूनी बनाए रखने और भारतीय कानूनों के दायरे में गेमिंग या गैम्‍बलिंग(जुआ) जारी रखने में मदद करता है। 

अस्वीकरण: यह लेख केवल सामान्य जानकारी देने के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

संबंधित लेख