What social media influencers need to know about the new TDS rules

नए आयकर नियम इन्फ्लुएंसर्स और ब्रांड्स के बीच सहक्रिया में सुधार करेंगे, साथ ही बेहतर संरचना और पारदर्शिता भी लाएंगे।

tds rules

पिछले कुछ वर्षों में, डिजिटल प्रोमोशंस के लिए इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग सबसे बड़े उत्प्रेरक के रूप में उभरा है। कौन से ब्रांड और व्यवसाय अपने सामान और सेवाओं का प्रचार करने की पहल को 'सोशल फर्स्ट' कह रहे हैं, जिसने इंस्टाग्राम, टिकटॉक, ट्विच, आदि जैसे प्लेटफार्मों पर सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर्स के स्कोर को प्रमुखता दी है। यदि आप एक इन्फ्लुएंसर हैं या बनना चाहते हैं, तो आपको भारतीय आयकर नियमों में कुछ बदलावों के बारे में पता होना चाहिए जो आपको प्रभावित कर सकते हैं।

लाभ का वर्गीकरण

एक इन्फ्लुएंसर के रूप में, आपको किसी व्यवसाय या उत्पाद का प्रचार करने के लिए भुगतान प्राप्त हो सकता है। इस पारिश्रमिक को कर उद्देश्यों के लिए आपकी वार्षिक आय में जोड़ा जाता है। यहां कुछ भी नया नहीं है। हालाँकि, यदि आप किसी प्रकार का लाभ प्राप्त कर रहे हैं, जैसे कि उत्पाद या कोई अन्य नॉन-कैश इंसेंटिव, तो वित्त अधिनियम 2022 में नए संशोधनों के अनुसार, उक्त उत्पाद या लाभ के फेयर मार्केट प्राइस के 10% की दर से सोर्स पर कर कटौती (TDS) की जाएगी। यह नियम 1 जुलाई 2022 से लागू हुआ है।

इसलिए, यदि आप समीक्षा के बाद गैजेट रखने के लिए एक टेक्‍नोलॉजी इन्फ्लुएंसर हैं, अपैरल (पोशाक/कपड़ा) लेने वाले फैशन इन्फ्लुएंसर हैं या हॉस्पिटैलिटी ब्रांड के साथ एक कॉम्प्लिमेंटरी स्‍टे से लाभान्वित होने वाले ट्रेवल इन्फ्लुएंसर हैं, तो आपको नए TDS नियमों के अनुसार टैक्‍स देना होगा। हालांकि, यदि प्रचार के बाद उत्पाद को बिज़नेस को वापस लौटाया जाता है तो कोई टैक्‍स लागू नहीं होगा।

पहले से अच्‍छा

जबकि पहली नज़र में, इन्फ्लुएंसर्स इसे एक दायित्व के रूप में देख सकते हैं। हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि लंबी अवधि में, यह इन्फ्लुएंसर्स की बेहतर क्रेडिबिलिटी बनाने में मदद करेगा। फिलहाल, उपभोक्ता यह पाते हैं कि इन्फ्लुएंसर्स की कोई ब्रांड निष्ठा नहीं है और वे अपने रास्ते में आने वाले किसी भी उत्पाद को पुश करते हैं।

‘influence.co’ की शोध के अनुसार, 61% उत्तरदाताओं ने महसूस किया कि इन्फ्लुएंसर्स को उनके द्वारा सुझाए गए उत्पादों के लिए बहुत अधिक उत्तरदायित्व लेने की आवश्यकता है। जबकि ब्रांड कोलैबरेशन एक जजमेंट कॉल पर भी निर्भर करता है, मुफ्त उपहार पर टैक्‍स कंपोनेंट इन्फ्लुएंसर्स को नई साझेदारियों के बारे में सोचने के लिए मजबूर करेगा क्योंकि वे अब उनके लिए कीमत पता करेंगे।

यह दूसरे तरीके से भी काम करता है। छोटे इन्‍फ्लुएंसर के साथ अधिकांश कोलैबरेशन विषय-वस्‍तु के प्रचार के लिए बार्टर पर काम करते हैं। व्यापार पर नए कर नियमों के साथ, बिज़नेसेस भी सभी को मुफ्त उपहार भेजने के बजाए साझेदारी की जांच करेंगे।

कुछ इन्‍फ्लुएंसर्स ने इस परिवर्तन का स्वागत किया है, जो यह बताता है कि नए जमाने के फ्रीलांसर्स और कन्‍टेंट क्रीएटर्स के संबंध में सरकार के दृष्टिकोण में सकारात्मक बदलाव आया है। उन्हें लगता है कि यह इन्‍फ्लुएंसर्स और ब्रांड्स के बीच सहक्रिया में सुधार करेगा और बेहतर संरचना और पारदर्शिता लाएगा।

संवादपत्र

संबंधित लेख